Wednesday, May 23,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
दिल्ली

फर्जी मुठभेड़ मामले में सात पुलिसकर्मियों की सजा बरकरार, 11 बरी

Publish Date: February 06 2018 01:40:10pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): दिल्ली उच्च न्यायालय ने गाजियाबाद में फर्जी मुठभेड़ में मारे गए एमबीए छात्र के मामले में उत्तरखंड पुलिस के सात कर्मियों की सजा बरकरार रखी जबकि 11 अन्य को बरी कर दिया। यह मामला तीन जुलाई 2009 का है। गाजियाबाद के रहने वाले 22 वर्षीय एमबीए छात्र रणबीर सिंह को उत्तराखंड पुलिस ने फर्जी मुठभेड में मार दिया था। इससे पहले केन्द्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) की विशेष अदालत ने इस मामले में 18 पुलिसकर्मियों को दोषी ठहराया था। इसमें से 17 पुलिसकर्मियों को आजीवन कारावास की सजा दी गई थी जबकि एक को दो साल की सजा मिली थी।

 दिल्ली उच्च न्यायालय ने दोषी पुलिसकर्मियों की विशेष अदालत के फैसले को चुनौती देने वाली दायर याचिका की सुनवाई करते हुए सात पुलिसकर्मियों की सजा बरकरार रखी जबकि 11 अन्य को बरी कर दिया। जिन सात पुलिसकर्मियों की सजा बरकरार रखी गई है उसमें छह उप निरीक्षक हैं। सीबीआई अदालत के विशेष न्यायाधीश जे पी एस मलिक ने अपने फैसले में 18 पुलिसकर्मियों को षडयंत्र रच कर रणबीर सिंह का अपहरण कर उसकी हत्या करने का दोषी पाया था। मृतक घटना के दौरान नौकरी के लिए देहरादून जा रहा था। जून 2014 में अदालत ने अपने फैसले में 17 पुलिसकर्मियों को हत्या.अपहरण. साक्ष्य मिटाने और आपराधिक साजिश रचने तथा उसे अंजाम देने के मामले में दोषी ठहराया गया था और उम्र कैद की सजा दी गई थी ।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


विश्व कप की तैयारी के लिए अर्जेटीना पहुंचे मेसी

ब्यूनस आयर्स(उत्तम हिन्दू न्यूज): बार्सिलोना के स्टार खिलाड़ी...

जीवन के हर रिश्ते को महत्व देती हैं करीना कपूर

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अभिनेत्री करीना कपूर खान का कहना...

top