Sunday, June 24,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश

पाटिल ने माना हिमाचल कांग्रेस में है गुटबाजी

Publish Date: June 13 2018 11:21:46am

शिमला (जेमी शर्मा): नवनियुक्त हिमाचल प्रदेश कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल ने शिमला में कहा कि पार्टी में 90 फीसदी लोग एक साथ हैं जबकि अन्य रुष्ट नेताओं को मनाने के लिए उनके घर जाकर प्रयास जारी हैं। उन्होंने माना कि पार्टी नेताओं में मनमुटाव है जिससे ग्रुपिंज़्म हो गया है। इसी तरह पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का भी कुछ मनमुटाव है उसे दूर किया जाएगा। वीरभद्र सिंह से मिलने उनके घर गए थे। 

वीरभद्र सिंह के सुझावों को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष रखा जाएगा। उन्हें पार्टी में पूरा मान सम्मान दिया जाएगा। वह पार्टी के लिए कार्य करते रहेंगे। रजनी पाटिल ने कहा कि पार्टी को एकजुट करने के लिए ही बैठकों का दौर शुरू किया गया है। 2 दिन में कई बैठकें की और सभी नेताओं से फीडबैक लिया गया है। इनके सुझावों पर आगे की रणनीति बनाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव पार्टी के समक्ष एक बड़ी चुनौती है क्योंकि पिछली बार हिमाचल की चारों सीटें कांग्रेस हार गई थी। इसी सिलसिले में वरिष्ठ नेत्री विद्या स्टोक्स और पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह से भी मुलाकात की और विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। सभी पार्टियों में ग्रुपिज्म  होता है लेकिन उसे हावी नहीं होने दिया जाएगा। रजनी पाटिल ने कहा कि आने वाले दिनों में वह खुद प्रदेश का दौरा करेंगी। 2 माह के भीतर सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर पार्टी नेताओं से  फीडबैक लेंगी। बुथस्तर तक कार्यकर्ताओं से मिलकर उनकी पीठ थापथपाएँगे। मतदाताओं तक पहुंच बढ़ाकर चारों लोकसभा क्षेत्रों में बड़े स्तर पर रैलियां करेंगे जिसमे शीर्ष नेतृत्व शामिल होगा।

उन्होंने कहा कि पारम्परिक वोटर कांग्रेस के साथ है और अब उन्हें फिर से कांग्रेस के पक्ष में करना है। इसी नाते सभी कांग्रेस के नेताओं, विधायकों, प्रत्याशियों, पूर्व पार्टी अध्यक्षों, फ्रंटल संगठनों सहित जिला व ब्लॉक पदाधिकारियों से मुलाकात कर संगठन को मजबूत किया जाएगा। 

पाटिल ने कहा कि संगठन में जो फेरबदल होगा वह पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देशों पर होगा। एक प्रश्न पर रजनी पाटिल ने कहा कि निष्कासित सदस्यों की घर वापसी के लिए एक कमेटी बनाई जाएगी जो गुण दोष के आधार पर वापसी का रास्ता तय करेगी। गौर हो कि लंबे समय से वीरभद्र सिंह गुट ने पार्टी अध्यक्ष सुखविंद्र सुक्खू को हटाने के लिए मोर्चा खोल रखा है। लेकिन राहुल गांधी के आशीर्वाद सुक्खू अध्यक्ष पद पर बने रहे हैं। अब 2019 के चुनाव सर पर हैं ऐसे में कांग्रेस को एकजुट रखना है तो अध्यक्ष पद पर जल्द फैसला लेना होगा।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


FIFA WC 2018 : पनामा को 6-1 से हराकर अंतिम-16 में पहुंचा इंग्लैंड 

निझनी नोवगोग्राड (उत्तम हिंदू न्यूज) : कप्तान हैरी केन की शान...

नहीं थम रही कपिल शर्मा की मुश्किलें, अब स्पॉन्सर्स को चुकाने होंगे पैसे

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन व अभिनेता कपिल शर्मा की मुश्किलें मानों कम होने का ना...

top