Sunday, June 24,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

बॉम्बे हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला, कहा-बच्ची के सार्टिफिकेट से जैविक पिता का नाम हटाया जाए 

Publish Date: March 14 2018 04:19:43pm

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : बॉम्बे हाई कोर्ट ने बिन ब्याही मां की याचिका पर एक महत्वपूर्ण फैसले के तहत बीएमसी को आदेश दे नया सर्टिफिकेट जारी करने को कहा है, जिसमें बच्ची के जैविक पिता का नाम नहीं होगा। कोर्ट ने निर्देश दिया है कि याचिकाकर्ता अविवाहित महिला की बेटी के बर्थ सटिज़्फिकेट से पिता के नाम को हटाया जाए। महिला ने अदालत से अपनी बेटी के बर्थ सटिज़्फिकेट से उसके जैविक पिता का नाम हटाने की याचिका दाखिल की थी।

जस्टिस एएस ओका और जस्टिस आरआई चागला की पीठ ने बृहनमुंबई नगर निगम (बीएमसी) को निर्देश दिया कि वह नया बर्थ सटिज़्फिकेट जारी करे। जिसमें बच्ची के जैविक पिता के नाम का स्थान खाली हो। हालांकि पीठ ने महिला की उस प्रार्थना को मानने से इनकार कर दिया जिसमें कहा गया था की बीएमसी के सभी रिकॉर्ड से पिता का नाम हटाया जाए। याचिका में कहा गया था महिला ने बिना शादी के नवंबर 2013 में बच्ची को जन्म दिया था। वह कभी बीएमसी को बच्ची के पिता का नाम नहीं बताना चाहती थी। महिला ने कहा उसे इस बात की जानकारी नहीं है कि फॉर्म भरते समय किसने इस जानकारी का खुलासा किया। इम मामले में अदालत ने बच्ची के जैविक पिता को अदालत में बुलाया था। 

उसने कहा कि उसे बर्थ सटिज़्फिकेट से अपना नाम हटाए जाने पर कोई आपत्ति नहीं है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने साल 2015 के ऐतिहासिक फैसले में कहा था कि सिंगल मदर को उसके बच्चे के जैविक पिता का नाम बताने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


FIFA WC 2018 : पनामा को 6-1 से हराकर अंतिम-16 में पहुंचा इंग्लैंड 

निझनी नोवगोग्राड (उत्तम हिंदू न्यूज) : कप्तान हैरी केन की शान...

नहीं थम रही कपिल शर्मा की मुश्किलें, अब स्पॉन्सर्स को चुकाने होंगे पैसे

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन व अभिनेता कपिल शर्मा की मुश्किलें मानों कम होने का ना...

top