Monday, December 10,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

मिशन मोदी 2019 को लग सकता है झटका, सात बड़े राज्यों में बदलने लगे हैं राजनीतिक-सामाजिक समीकरण 

Publish Date: March 16 2018 09:06:42pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) :  मोदी मोशन को 2019 में झटका लग सकता है क्योंकि देश के सात ऐसे राज्य हैं जहां बड़ी तेजी से सरकार की छवि धुमिल हुई है। लिहाजा 2014 की तुलना 2019 भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के लिए असंभव नहीं तो कठिन जरूर साबित होगा। यही नहीं अन्य राज्यों में भी नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता में कमी के संकेत मिलने लगे हैं। 

आपको बता दूं कि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, गुजरात, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान ये ऐसे प्रांत हैं जहां देश का 36 प्रतिशत लोकसभा का सीट पड़ता है। कुल 543 में से 273 सीटें अधिकतर सीटें भाजपा इन्हीं राज्यों से जीत कर आयी है। यही नहीं बीजेपी के लिए सबसे परेशानी की बात यह है कि भाजपा वर्ष 2014 आम चुनाव में 282 सीटों में से, 196 सीटें इन्हीं राज्यों से जीती है। जबकि भाजपा के घटक दलों के भी 44 सीटें इन्हीं राज्यों के हैं। 

लिहाजा हालांकि, नए सामाजिक समीकरण भाजपा के लिए नई चुनौती लेकर आएगी। उत्तर प्रदेश में 80 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से भाजपा और उसके सहयोगियों ने जीता है। लेकिन अब, समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ आने से इन सीटों पर व्यापक असर होगा और भाजपा के खाते सीटों की संख्या कम हो सकती है। जिसका एक छोटा सा रूप हालिया उपचुनाव फूलपुर और गोरखपुर में देखने को मिला। 

सपा और बसपा दोनों का मजबूत वोट बैंक हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ये दोनों वोट बैंक आपस में अदला-बदली भी हो सकता है। यानी ये दोनों एक दूसरे को वोट दिलवा सकते हैं। राज्य में बीजेपी का सबसे बड़ा हथियार, अति पिछड़ा वर्ग भी भाजपा के साथ अब खड़ा नहीं दिख रहा है। 

महाराष्ट्र में में भाजपा की पुरानी सहयोगी पार्टी ने भाजपा की चिंता बढ़ा दी है। महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश के बाद भारत का सबसे बड़ा राज्य है और इसमें 48 सीटें हैं। पिछले आम चुनाव में, भाजपा ने 23 सीटों पर जीत हासिल की और सहयोगी शिवसेना पर जीती थी। इस बार शिवसैना के साथ मामला ठीक नहीं बैठ रहा है। लिहाजा भाजपा को महाराष्ट्र में भी घाटा होता दिख रहा है। बिहार में सामाजिक इंजीनियरिंग की आवश्यकता है लेकिन भाजपा यहां भी मात खाती दिख रही है। यहां 40 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से भाजपा ने 22 और उसके दो सहयोगियों ने नौ पर जीत दर्ज की थी। अब यहां भी भाजपा को घाटा होता दिख रहा है। 

कुल मिलाकर देखें तो भाजपा का मिशन 2019 कमजोर पड़ता दिख रहा है। यही स्थिति रही तो भाजपा को इन सात राज्यों में जबरदस्त तरीके से मुंह की खानी पड़ेगी। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top