Sunday, December 16,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

कर्नाटक चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, लिंगायत धर्मगुरु ने की मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की प्रशंसा 

Publish Date: March 28 2018 02:58:06pm

बेंगलुरु (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले राजननीतिक और सामाजिक समीकरणों को साध रही पार्टियां अब धार्मिक समीकरणों को भी साधने लगी है। कुछ ही दिन पहले कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने कर्नाटक प्रवास के दौरान कई मंदिरों की यात्रा की। लिहाजा सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने एक बड़ी चाल चलते हुए लिंगायत समुदाय को अलग धर्म की मान्यता भी प्रदान कर दी। 

इस मामले की भरपाई के लिए जब भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कर्नाटक प्रवास पर गए तो उन्होंने बाकायदा लिंगायत धर्मगुरु से मुलाकता की और यह साबित करने की कोशिश की कि लिंगायत समुदाय के लोग उनकी पार्टी के साथ भी हैं लेकिन अब शाह का यह चाल उलटी पड़ती दिख रही है। जानकारों की मानें तो लिंगायत धर्मगुरु ने जो पत्र भाजपा के अध्यक्ष को लिखा है उसमें कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की जबरदस्त प्रशंसा की गयी है। 

अभी हाल में लिंगायत चित्रदुर्ग मठ के महंत ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखा है। यही नहीं, उन्होंने इस पत्र के जरिए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं। चित्रदुर्ग मठ के महंत शिवमूर्ति मुरुघा शरार्ना ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को लिखे पत्र में बताया है, लिंगायत धर्म को अल्पसंख्यक दर्जा देने से समुदाय के युवाओं को कुछ फायदा मिलेगा। साथ ही समुदाय के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा। यह समुदाय को बांटने के लिए उठाया गया कदम नहीं है बल्कि यह लिंगायतों की उपजातियों को संगठित करने के लिए किया गया प्रयास है।

बता दें कि शाह ने यहां एक नारियल किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि सिद्धारमैया सरकार यह प्रस्ताव इसलिए नहीं लाई कि वे लिंगायतों से प्रेम करते हैं, बल्कि उनका मकसद येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोकना है। उन्होंने कहा, मैं कर्नाटक की जनता से कहना चाहता हूं कि अगर बीजेपी का बहुमत आता है तो हम येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाएंगे। येदियुरप्पा को लिंगायतों को मजबूत नेता माना जाता है। 

कर्नाटक विधानसभा की 224 सीटों के लिए 12 मई को चुनाव होना है और इन चुनावों के नतीजे 15 मई को सामने आएंगे। चुनाव के मद्देनजर सभी राजनीतिक दल तैयारियों में जुटे हुए हैं। इस दौरान राजनीतिक पाटिज़्यों द्वारा प्रचार के लिए हर पैंतरा अपनाया जा रहा है, वह फिर बयानबाजी हो या फिर एक दूसरे पर निशाना साधकर कमजोर दिखाने की कोशिश। हालांकि, इन चुनावों में जनता के दिलों पर खरा कौन उतरता है यह तो 15 मई का सामने आने वाले नतीजों में ही पता चल सकेगा। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


Aus vs Ind: विराट कोहली ने रचा इतिहास, 25वां टेस्ट शतक जड़ तेंदुलकर को पीछे छोड़ा

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय कप्तान विराट कोहली टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 25 शतक बना...

#MeToo की चिंगारी भड़काने वाली तनुश्री लौटेंगी अमेरिका, अपने बारे में किया बड़ा खुलासा 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत में मीटू की चिंगारी भड़काने...

top