Sunday, December 09,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

चालू वित्त वर्ष में इसरो के आवंटन में कटौती, प्रभावित हो सकती है परियोजनाएं

Publish Date: April 01 2018 03:34:43pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) तथा अन्य संबद्ध इकाइयों के लिए अंतरिक्ष विभाग को माँग से कम बजटीय आवंटन किये जाने के कारण कई महत्त्वपूर्ण परियोजनाएँ प्रभावित हो सकती हैं। अंतरिक्ष विभाग ने वित्त वषज़् 2018-19 के लिए जिस प्रकार से परियोजनाओं का खाका तैयार किया था उसके लिए उसने वित्त मंत्रालय से 16,569.91 करोड़ रुपये की माँग की थी, जबकि बजट में उसे 10,783.42 करोड़ रुपये ही दिये गये हैं। 

विभाग ने बताया कि कम आवंटन को देखते हुये उसने परियोजनाओं और कार्यक्रमों में फेरबदल किये हैं। विभाग ने संसद की एक स्थायी समिति को जानकारी दी है कि पीएसएलवी के छठे चरण तथा जीएसएलवी एमके 3 की भविष्य की लांचिंग, जीसैट के फॉलोऑन, सेमीक्रायो चरण के विकास, एडवांस्ड प्रक्षेपण यान के विकास आदि के मद में वह पुरानी योजना की तुलना में 1,787 करोड़ रुपये की कटौती की जाएगी।  

पीएसएलवी सी36 से सी50, काटोसज़्ैट-3, आरआईसैट-1ए, ओशनसैट-3 सीरीज, रिसोसज़् सैट-3 सीरीज, एनआईएसएआर, एचआरसैट, जीसैट-20 और जीसैट 22/23/24 के मद में उसे 1,217 करोड़ रुपये की कटौती करनी होगी। इसके अलावा विभिन्न केंद्रों के आधुनिकीकरण तथा अन्य मदों में 2,298 करोड़ रुपये और स्वायत्त इकाइयों को दिये जाने वाले अनुदान में पहले के अनुमान के मुकाबले 484 करोड़ रुपये की कटौती की योजना है।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


एडिलेड टेस्ट : एडिलेड में 15 साल बाद जीत के करीब पहुंचा भारत

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय गेंदबाजों रविचंद्रन अश्वि...

'गोपी बहू' गिरफ्तार, हीरा व्यापारी की हत्या में शामिल होने का आरोप 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : एक हीरा व्यापारी की हत्‍या के सि...

top