Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

जस्टिस चेलमेश्वर ने फिर भारतीय न्याय प्रणाली पर खड़े किए सवाल 

Publish Date: April 08 2018 03:50:29pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : जस्टिस चेलमेश्वर ने एक बार फिर से भारतीय संवैधानिक प्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने एक वरिष्ठ पत्रकार के साथ बातचीत में कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट में सबसे सीनियर जज जस्टिस रंजन गोगोई को चीफ नहीं बनाया जाता है तो मान लेना कि हम चार जजों ने जो आरोप लगए थे वह सत्य है। दरअसल, इस साल के प्रथम महीने में सुप्रीम कोर्ट के चार जजो नें चीप जस्टिस दीपक मिश्रा पर बड़े गंभीर आरोप लगाए थे। इसके बाद देशभर में खलबली मच गयी थी। आपको यह भी बता दें कि अभी हाल ही में इसी प्रकार के कुछ मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील शांति भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका भी दाखिल की है। 

जानकारी में रहे कि जस्टिस दीपक मिश्रा का कार्यकाल इस साल 2 अक्टूबर को समाप्त हो रहा है। वरिष्ठता के लिहाज से उनके बाद जस्टिस रंजन गोगोई को चीफ जस्टिस बनाया जाना चाहिए क्योंकि दूसरे नंबर पर आने वाले जस्टिस चेलमेश्वर उससे पहले ही 22 जून को रिटायर हो रहे हैं। हार्वर्ड क्लब ऑफ इंडिया में रोल ऑफ ज्यूडिशरी इन ए डेमोक्रेसी पर आयोजित समारोह में उन्होंने कहा कि में कोई भविष्य वक्ता नहीं हूं लेकिन ऐसा संभव है।

बता दें कि इसी साल 12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस चेलमेश्वर समेत चार वरिष्ठ जजों (जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एम बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ) ने साझा तौर पर एक पत्र देश के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा को लिखा था और सुप्रीम कोर्ट के क्रियाकलाप पर सवाल खड़े किए थे। इन चारों वरिष्ठ जजों ने चीफ जस्टिस द्वारा सुप्रीम कोर्ट के जजों को केस आवंटन करने में भेदभाव का मुद्दा उठाया था। जस्टिस चेलमेश्वर के घर पर इन चारों जजों ने संयुक्त रूप से प्रेस कॉन्फ्रेन्स किया था। यह देश के न्यायिक इतिहास की बड़ी घटना थी, जब चीफ जस्टिस के खिलाफ कॉलेजियम के चार वरिष्ठ सदस्यों ने मोर्चा खोल दिया हो।

जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद वरिष्ठता क्रम में दूसरे नंबर पर जस्टिस चेलमेश्वर हैं जो इसी साल जून में रिटायर हो रहे हैं। उनके बाद जस्टिस रंजन गोगोई का क्रम आता है। जब चेलमेश्वर से यह पूछा गया कि क्या आपको इस बात की आशंका है कि चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के रिटायरमेंट के बाद जस्टिस रंजन गोगोई को पदोन्नति देकर चीफ जस्टिस नहीं बनाया जा सकता है क्योंकि उन्होंने चीफ जस्टिस के खिलाफ आपके साथ मोर्चा खोला था और खत लिखा था? इसके जवाब में जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा, मैं कोई भविष्यवक्ता नहीं हूं। इसके बाद करण थापर ने फिर पूछा कि क्या आपको लगता है कि जस्टिस रंजन गोगोई को दरकिनार किया जा सकता है, जैसा कि पहले भी हो चुका है?

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पीवी सिंधू की धमाकेदार शुरुआत, पूर्व चैंपियन यामागुची को दी मात

गुआंगझू (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत की स्टार महिला शटलर पीवी स...

Kapil Sharma Wedding: बारात लेकर कपिल शर्मा पहुंचे क्लब कबाना

जालंधर (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन कपिल शर्मा गिन्नी संग विवाह रचाने के लिए बारात के सा...

top