Sunday, December 09,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

इस बच्ची के कारण मोदी सरकार ने बदल दिया पॉस्को कानून, देखें तस्वीरें

Publish Date: April 21 2018 04:26:49pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कठुआ नाबालिग बच्ची के साथ गैंगरेप व हत्या की घटना ने देश को झकझोड़ कर रख दिया। नि:संदेह इसी घटना ने सत्ता प्रतिष्ठानों को सख्त कानून बनाने के लिए बाध्य किया। लिहाजा, राष्ट्रकुल की बैठक के बाद स्वदेश लौटते ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रिमंडल की बैठक बुला पॉस्को एक्ट में संशोधन कर नाबालिग के साथ बलात्कार करने वालों के खिलाफ सजा-ए-मौत वाले कानून को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री के लिए यह मामला कितना अहम है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मोदी जैसे ही स्वदेश लौटे उन्होंने इस फैसले से संबंधित अध्यादेश की मंजूरी के लिए कैबिनेट की बैठक बुलाई। फैसले की अहमियत के पीछे का कारण नि:संदेह रूप से कठुआ की जघन्य घटना ही है। प्रधानमंत्री को उसी बच्ची ने इस प्रकार के कानून को मंजूर करने के लिए बाध्य किया है। ऐसे कानून को मंजूदी देने का संकेत प्रधानमंत्री ने पहले ही दे दी थी। कठुआ में आठ साल की नाबालिग बच्ची के साथ गैंगरेप और हत्या से आहत प्रधानमंत्री ने एक जनसभा में साफ-साफ कह दिया था कि अपराधियों को कठोर से कठोर सजा दी जाएगी और किसी भी कीमत पर इस जघन्य अपराध के आरोपी बच नहीं सकेंगे।   

इस बैठक में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने विशेष रूप से 16 व 12 वर्ष से कम उम्र के लड़कियों के बलात्कार के अपराधियों के लिए सख्त सजा देने का विधान है। अब बलात्कार के मामले में यदि लड़की की आयु 12 साल से कम होगी तो बलात्कारी को मौत की सजा होगी। केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास 7, लोक लोक कल्याण मार्ग हुई जहां केंद्र सरकार के मंत्री जुटे। ढाई घंटे तक चली इस बैठक में पॉक्सो एक्ट में रेप के दोषियों को फांसी देने पर अध्यादेश लाने पर फैसला किया गया।

इतने दिनों के बाद भी कठुआ रेप की घटना को लेकर देश में गुस्सा है। बलात्कारियों को कठोर सजा देने की मांग उठ रही है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार बच्चों को यौन अपराधों से संरक्षण अधिनियम (पॉक्सो) में संशोधन के लिए अध्यादेश लाने की योजना पहले से बना रही थी। वर्तमान में पॉक्सो कानून के तहत जघन्य अपराध के लिए अधिकतम सजा उम्रकैद है, जबकि न्यूनतम सात साल की सजा है। दिसंबर 2012 के निर्भया गैंगरेप मामले के बाद कानून में संशोधन किया गया था। इसमें बलात्कार के बाद पीडि़त महिला की मौत हो जाने या उसके मृतप्राय होने के मामले में एक अध्यादेश के जरिए मौत की सजा का प्रावधान शामिल किया गया था। जो बाद में आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम बन गया।

इस अध्यादेश को मंजूरी के लिए सरकार को आखिर बाध्य किसने किया? नि:संदेह सरकार को जम्मू के कठुआ में हुई घटना और उसपर देशभर में उठे विरोध के स्वर ने बाध्य किया। आखिर कठुआ की उस लड़की ने हमारी सरकार को नया कानून बनाने के लिए बाध्य कर दिया। हाल में कई घटनाएं घटी है। हालांकि वे सारी घटनाएं रेप और गैंगरेप से ही संबंधित थी लेकिन कठुआ की घटना बेहद जघन्य थी। 

नाबालिग बच्ची से न केवल रेप किया गया अपितु कई दिनों तक उसे प्रताडि़त किया गया। अंत में उसकी हत्या कर दी गयी। इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया, जिसके बाद सरकार ने नाबालिग बच्चियों से रेप करने वालों के लिए कड़ी सजा का प्रावधान करने का फैसला लिया। इससे पहले महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा था कि वो कठुआ और हाल में हुई दूसरी बलात्कार की घटनाओं से बहुत दुखी हैं और उनका मंत्रालय बहुत जल्द ही पॉक्सो एक्ट में संशोधन का प्रस्ताव कैबिनेट के सामने पेश करेगा।

हालांकि जानकारों का कहना है कि इस मामले में कानून पहले से भी बेहद कठोर है लेकिन कानून का पालन करने वाली एजेंसी बेहद कमजोर है। मामले में कुछ ऐसे प्रब्धान होने चाहिए कि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले और उस पुलिस को भी कानून के दायरे में लाया जाए जो पुलिस इस मामले में कोताही बरतती है। इस कानून का दूरुपयोग होने का भी खतरा हो सकता है। मामले में बदले की भावना से भी कोई इसका उपयोग कर सकता है।

इसलिए इस कानून में इसका भी विधान होना चाहिए। जो भी हो लेकिन कठुआ की उस आठ साल की बच्ची ने आखिर मर कर भी इस देश के नाबालिग बच्चियों को मजफूज बनाने के लिए देश के सत्ताधारियों को कानून बनाने के लिए बाध्य कर दिया। खुद तो बेहद बदतर मौत मरी लेकिन मर कर भी उसने देश की बच्चियों को बचाने के लिए कानून जरूर बनवा दिया। 

Image result for aasifa, Due to this girl Modi Government changed Posco law, see photos

Image result for asifa kathua

 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


एडिलेड टेस्ट : एडिलेड में 15 साल बाद जीत के करीब पहुंचा भारत

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय गेंदबाजों रविचंद्रन अश्वि...

'गोपी बहू' गिरफ्तार, हीरा व्यापारी की हत्या में शामिल होने का आरोप 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : एक हीरा व्यापारी की हत्‍या के सि...

top