Saturday, December 15,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

आसाराम को जेल पहुंचाने वाला अहम गवाह राहुल सचान की कहीं हत्या तो नहीं कर दी गयी

Publish Date: April 29 2018 08:09:22pm

कानपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : आसाराम को जेल तक पहुंचाने वाला राहुल सचान आखिर कहां है, आज भी य यक्षप्रश्र बना हुआ है। राहुल के परिवार वालों का आरोप है कि उसकी हत्या कर दी गयी। परिवार वाले हत्या का आरोप भी आसाराम और उसके बेटे नारायण साई पर लगाते हैं। आसाराम को सजा दिलाने में राहुल अहम किरदार की भूमिका निभा चुका है। उसके माता-पिता बेटे का चेहरा देखने की उम्मीद के साथ गांव की सड़क को निहारते रहते हैं। उनको अभी भी ये लगता है कि शायद उनका लाल घर वापस आएगा। 

राहुल किसी समय आसाराम के आश्रम की बड़ी जिम्मेदारियां निभाता था। वैसे तो माता-पिता को बेटे की हत्या की आशंका है लेकिन उनको अभी तक इस बात का इंतज़ार है की शायद वो जिन्दा हो और डर की वजह से सामने नहीं आ रहा हो। अब, जब आसाराम बापू को सजा हो गई है तो शायद वो घर लौट आए। कानपुर के घाटमपुर के निमधा गांव निवासी रामकुमार सचान का पुत्र राहुल (मुख्य गवाह) पर ही आसाराम बापू को आश्रम की बच्ची के साथ यौनाचार करने के मामला दर्ज किया गया था जिसमें आसाराम उम्रकैद की सजा काट रहा है। 

अतीत के पन्नो को पलटते हुए राहुल के पिता रामकुमार सचान ने बताया की जब वो लोग दिल्ली में रहते थे, करीब 1992 में आसाराम के संपर्क में वह चला गया गया था। वो अहमदाबाद भी गया था उसके बाद हमारे पास वापस नहीं आया। वो अपनी बहन की शादी में भी नहीं आया था। राहुल आसाराम का बहुत करीबी था। पैसो का लेन -देन भी देखता था। सत्संग का भी अरेंजमेंट करता था। रामकुमार आसाराम को संत नहीं मानते हैं। 

उन्होंने बताया की कुछ लड़कियों को राहुल बहन मानता था जिनके साथ आसाराम ने बदतमीजी की, जिसका राहुल ने विरोध किया था। जिसके कारण आसाराम से उनकी खटपट हो गई जिसके बाद आसाराम ने राहुल को कमरे में बंद कर दिया। जंहा से किसी तरह 2003 में राहुल निकल कर मुंबई आया उस समय हम लोग मुंबई में रहते थे। वंहा उसे ऑडियो एडिटिंग की ट्रेनिंग कराकर फिल्म निर्माण क्षेत्र में करियर बनाने के लिए समझाया। करीब 5 महीने रहने के बाद वो फिर लौट गया क्‍योंकि राहुल के सर पर आसाराम की भक्ति का भूत सवार था। 

राहुल के पिता ने बताया कि वर्ष 2004 में गांव के पैतृक मकान में जब मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा हुई थी तब राहुल आखिरी बार आया था उसके बाद से उससे कोई संपर्क नहीं हुआ। इसी दरमियान साल 2013 में यूपी के शाहजहांपुर की एक लड़की ने आसाराम पर दुराचार का मामला दर्ज करा दिया तो राहुल को मुख्य गवाह बनाकर मामले को आगे बढ़ाया। साल 2015 के फरवरी में जोधपुर कोर्ट के परिसर में राहुल पर चाकुओं से हमला किया गया। 

इसके बाद वह लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में पुलिस के पहरे में रहा लेकिन नवम्बर 2015 को कैसरबाग़ बस अड्डे से गायब हो गया उसके बाद कुछ पता नहीं चला। क्योंकि आसाराम बहुत पहुंच वाला है, उसके पास बहुत पैसा है वो किसी का कुछ भी करवा सकता है। एक बार हमारे गांव में भी दो लड़के आये थे 2012-13 में दिल्ली से राहुल के बारे में पूछ रहे थे। उन्‍होंने बताया कि दिल्ली से वो लड़के मोटर साइकल से आये थे तो मुझे लगता है की वो राहुल को मारने ही आये होंगे। राहुल के पिता ने कहा कि हम यह मान चुके हैं कि अब राहुल की हत्या कर दी गयी है लेकिन थोड़ी आशा बची है कि कहीं वह जिंदा हो और घर वापस आ जाए। 


 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पर्थ टेस्ट : दूसरे दिन का खेल खत्म, भारत का स्कोर- 173/3

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत ने यहां पर्थ स्टेडियम में आस...

Isha weds Anand: मेहमानों की खातिरदारी करते दिखे अमिताभ, आमिर और शाहरूख, देखें तस्वीरें

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): देश के मशहूर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने हाल ...

top