Monday, December 17,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

गुजरात के स्थापना दिवस पर जल संचय अभियान की शुरूआत

Publish Date: May 01 2018 06:58:35pm

भरूच(उत्तम हिन्दू न्यूज): गुजरात के 58 वें स्थापना दिवस के अवसर पर आज राज्यभर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भरूच जिले के अंकलेश्वर तालुका के कोसमड़ी में तालाब निर्माण के लिए मिट्टी खोद कर श्रमदान के जरिये राज्यव्यापी सुजलाम सुफलाम जल संचय अभियान का उद्घाटन किया।

इस अभियान के तहत एक माह में 11000 लाख घन फुट वर्षा जल के संचय का लक्ष्य रखा गया है। इसके तहत उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने अपने गृहजिले महेसाणा में तथा अन्य मंत्रियों ने विभिन्न जिलों में आज कार्यक्रमों में शिरकत की। श्री रूपाणी ने आज स्थापना दिवस यानी गुजरात गौरव दिवस के मौके पर भरूच में आयोजित राज्यस्तरीय समारोह के अलावा कई अन्य कार्यक्रमों में भी शिरकत की। रूपाणी ने अपने संबोधन में कहा कि पानी ही प्रगति का आधार है। यदि पानी नहीं होगा तो प्रगति और विकास असंभव है। सुजलाम सुफलाम जल संचय अभियान गुजरात में पानी के अकाल को भूतकाल बनाएगा। गुजरात का प्रत्येक नागरिक इस जल अभियान में श्रमदान और समयदान के जरिए जुड़कर योगदान देने का संकल्प करे।

रूपाणी ने कहा कि गुजरात का यह जल अभियान देश को एक नई राह बताएगा। मानसून के आगमन के साथ ही बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण करने, बरसाती पानी का संग्रह करने के साथ ही जल अभियान के दौरान नदी तटों की सफाई कर नदियों को पुनर्जीवित करने का उन्होंने अनुरोध किया। उन्होंने समुद्र के खारे पानी को डिसेलिनेशन प्लांट के जरिए पीने योग्य मीठे पानी में रुपांतरित करने के राज्य सरकार के आयोजन और पानी के रिड्यूस, रिसाइकिल और रियूज दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला। भाड़भूत बैरेज योजना का कार्य निविदा प्रक्रिया तक पहुंचने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इस योजना से आगामी दिनों में भरुच क्षेत्र की जनता को पानी की समस्या से स्थायी रूप से मुक्ति मिलेगी। रूपाणी ने कहा कि विषम भौगोलिक परिस्थिति वाले गुजरात को विकास की राह पर अग्रसर करने वाले महानुभावों सहित महागुजरात आंदोलन के अनेक नामी-अनामी शूरवीरों ने गुजरात को अग्रणी बनाने में अपना योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की दूरदर्शिता के कारण आज गुजरात पूरे देश में हर क्षेत्र में श्रेष्ठता साबित कर रहा है।

इससे पहले कोसमड़ी तालाब में आज मुख्यमंत्री रूपाणी ने स्वयं जेसीबी मशीन चलाकर राज्यव्यापी अभियान और जल संचय के संकल्प के साथ हस्ताक्षर अभियान की भी शुरुआत की। सहकारिता राज्य मंत्री ईश्वरसिंह पटेल ने इस अवसर पर कहा कि 27 हेक्टेयर के विशाल कोसमड़ी तालाब में जल संग्रह होने से आसपास के 25 गांव की पानी की समस्या हल होगी। इससे पूर्व मुख्य सचिव डॉ. जेएन सिंह ने सुजलाम सुफलाम जल संचय अभियान के बारे में जानकारी देते हुए बताया इसमें 4000 से अधिक मिट्टी उत्खनन वाहन,8000 से अधिक ट्रैक्टर-डम्पर का उपयोग किया जाएगा। तालाबों, चेकडैमों को गहरा करने से उपलब्ध होने वाली उपजाऊ मिट्टी एक पैसे की रॉयल्टी लिए बिना जनता को दिया जाएगा। अभियान के दौरान राज्य के 30 जिलों की लगभग 340 किमी लंबाई वाले 32 नदी-नालों को पुनर्जीवित किया जाएगा। इसके अलावा, 5400 किमी लंबी नहरों और 580 किमी छोटी नहरों की साफ-सफाई की जाएगी। मनरेगा योजना के तहत जल संचय और जल संरक्षण के 10570 कार्य भी शुरू किए जाएंगे। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पर्थ टेस्ट : टीम इंडिया मुश्किल में, ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने चटकाए 5 विकेट

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): रोमांच और स्लेजिंग से भरपूर दूसरे ...

मां नयनादेवी के दरबार में पहुंचीं रवीना टंडन  

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन आज मां नयनादेवी के दर्शनों ...

top