Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

शादी की उम्र नहीं तो 'लिव इन' में रह सकते है वर- वधू : सुप्रीम कोर्ट

Publish Date: May 06 2018 10:00:49am

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): सुप्रीम कोर्ट ने केरल हाईकोर्ट के एक फैसले को पलटते हुए कहा कि विवाह हो जाने पर उसे रद्द नहीं किया जा सकता। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर शादी के बाद भी वर- वधू में से कोई भी विवाह योग्य उम्र से कम हो तो वो लिव इन रिलेशनशिप में साथ रह सकते हैं, इससे विवाह पर कोई असर नहीं पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सभी को अपना जीवन साथी चुनने का अधिकार है और कोई भी कोर्ट या कोई भी संगठन व संस्था इस अधिकार को किसी से छीन नहीं सकती। कोर्ट ने कहा कि अगर युवक 21 साल से कम का है तो वह अपनी पत्नी के साथ 'लिव इन' में रह सकता है। उनके ऐसा रहने से कोई भी रोक नहीं सकता। 

आपको बता दें कि केरल उच्च न्यायालय ने एक विवाह को रद्द कर दिया था जिसमें युवती की उम्र विवाह लायक यानि 19 साल की थी जबकि लड़के की उम्र विवाह के लिए तय उम्र से एक साल कम 20 साल की थी। लड़के की उम्र होने के कारण लड़की के पिता ने बेटी के अपहरण का मुकदमा दूल्हे पर कर दिया जिसके बाद कोर्ट ने पुलिस को हैबियस कॉर्पस के तहत लड़की को अदालत में पेश करने का निर्देश दिए थे और पेशी के बाद कोर्ट ने इस शादी को रद्द कर दिया था। 


 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पीवी सिंधू की धमाकेदार शुरुआत, पूर्व चैंपियन यामागुची को दी मात

गुआंगझू (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत की स्टार महिला शटलर पीवी स...

Kapil Sharma Wedding: बारात लेकर कपिल शर्मा पहुंचे क्लब कबाना

जालंधर (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन कपिल शर्मा गिन्नी संग विवाह रचाने के लिए बारात के सा...

top