Tuesday, December 11,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

मोदी के इस विजन से बदल जाएगा भारत का संपूर्ण डिफेंस व्यापार, युद्ध तकनीक को मिलेगा बल  

Publish Date: May 07 2018 06:47:05pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : डिफेंस कॉरिडोर की घोषणा के बाद देश के डिफेंस सिस्टम को एमएसएमई से रफ्तार मिल सकती है। जानकारों का कहना है कि तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश में डिफेंस कॉरिडोर बनने से मैन्युफैक्चरर्स का काम आसान हो जाएगा। इस कॉरिडोर को लेकर प्रारंभिक काम शुरू भी हो गया है। 2025 तक भारत सरकार के आयात कम करने के टारगेट को पूरा करने के लिए क्लस्टर्स बनाए जाएंगे। 

लिहाजा तमिलनाडु में चेन्नै, कोयंबटूर, सलेम, त्रिची और होसुर डिफेंस कॉरिडोर में शामिल होंगे। इस कॉरिडोर से न सिर्फ डिफेंस सेक्टर में भारत की आत्मनिर्भरता बढ़ेगी बल्कि इससे 1 लाख नौकरियों के अवसर भी पैदा होंगे। इस क्षेत्र के बड़े उद्योजक सीके मोहन ने बताया कि इस समय डिफेंस यूएसपी के लिए राज्य में 1500 यूनिटें पुर्जें बनाती हैं। फिलहाल मौजूद यूनिटों को प्रशिक्षित किया जाएगा और सरकारी फंडिंग के बाद नई यूनिटें भी शामिल होंगी। आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने इस क्षेत्र में हर साल आयात को 15 फीसदी कम करने का टारगेट रखा है। तमिलनाडु में करीब 12 लाख एमएसएमई यूनिट्स हैं और उनमें से कम से कम 10 फीसदी अगले कुछ वर्षों में क्लस्टर में शामिल की जा सकती हैं।

डिफेंस प्रोडक्त के निर्माता और जाहाज का पार्ट बनाने वाले सुंदरम आर. करीब 3 दशकों से मिलिटरी एयरक्राफ्ट के पाट्र्स बना रहे हैं, लेकिन सलेम में यूनिट के मालिक के लिए यह इतना आसान नहीं था। पूरी तरह से स्थापित कारोबार के बावजूद उनके जैसे उद्यमियों को काफी दौड़-भाग करनी पड़ती है। एयरक्राफ्ट के पुर्जों के टेस्ट और उसे सर्टिफ़ाई कराने के लिए उन्हें कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता है। इसके बाद ही असेंबलिंग यूनिटों में इसकी आपूर्ति की जाती है। इस कॉरिडोर के लिए इनका भी सकरात्मक विचार है। इनका कहना है कि सरकार की सोच अच्छी है। इस क्षेत्र में हमें आत्मनिर्भर तो होना ही पड़ेगा।

अब सुंदरम को उम्मीद है कि केंद्र सरकार द्वारा डिफेंस कॉरिडोर की घोषणा के बाद हालात बदलेंगे। उन्होंने कहा, यह हमारे लिए बड़ा वरदान है। यह मौजूदा मैन्युफ़ैक्चरर्स के लिए प्रॉडक्ट टेस्टिंग और सटिज़्फिकेशन की प्रक्रिया को सरल बना देगा। इसके साथ ही डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में आने के लिए नई यूनिटों को भी प्रोत्साहन मिलेगा। आपको बता दें कि कुछ महीने पहले ही केंद्र सरकार ने तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश में डिफेंस कॉरिडोर्स की स्थापना करने की घोषणा की। यहां डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में काम करनेवाले माइक्रो स्मॉल और मीडियम एंटरप्राइजेज (रूस्रूश्वह्य) क्लस्टर्स बनने के लिए आपस मिल लिंक्ड होंगे। अगर यह पहल मूर्त रूप लेती है तो 2025 तक सुंदरम भी उन यूनिटों में से एक हो सकता है जो तमिलनाडु को ऐसे पुर्जों के बड़े निर्यातक के रूप में आगे ले जाएंगे। 

गौरतलब है कि इस समय भारत पूरी तरह से आयात पर निर्भर है और निर्यात 1995 करोड़ रुपये का हो रहा है, ऐसे में केंद्र सरकार ने 2025 तक का टारगेट बनाते हुए डिफेंस प्रॉडक्शन पॉलिसी तैयार की है। चैन्ने में हाल ही में हुए डिफेंसएक्सपो के दौरान सोसाइटी ऑफ  इंडियन डिफेंस मैन्युफैक्चरर्स (एसआईडीएम) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) सुब्रता साहा ने बताया था कि डिफेंस कॉरिडोर्स की स्थापना के लिए एक विस्तृत प्रॉजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने के लिए जल्द ही एक कंसल्टेंट की नियुक्ति की जाएगी। 

बताया जा रहा है कि कॉरिडोर पर काम शुरू हो चुका है। तमिलनाडु स्मॉल ऐंड टिनी इंडस्ट्रीज असोसिएशन कॉरिडोर के बारे फीडबैक लेने के लिए मीटिंग कर रहा है। इसमें कई सुझाव भी आ रहे हैं। तमिलनाडु में चेन्नै, कोयंबटूर, सलेम, त्रिची और होसुर डिफेंस कॉरिडोर में शामिल होंगे। इस कॉरिडोर से न सिर्फ डिफेंस सेक्टर में भारत की आत्मनिर्भरता बढ़ेगी बल्कि इससे 1 लाख नौकरियों के अवसर भी पैदा होंगे। असोसिएशन के महासचिव सीके मोहन ने बताया कि इस समय डिफेंस यूएसपी के लिए राज्य में 1500 यूनिटें पुर्जें बनाती हैं। फिलहाल मौजूदों यूनिटों को प्रशिक्षित किया जाएगा और सरकारी फंडिंग के बाद नई यूनिटें भी शामिल होंगी। आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने इस क्षेत्र में हर साल आयात को 15 फीसदी कम करने का टारगेट रखा है। तमिलनाडु में करीब 12 लाख एमएसएमई यूनिट्स हैं और उनमें से कम से कम 10 फीसदी अगले कुछ वर्षों में क्लस्टर में शामिल की जा सकती हैं।

msme will fire up india’s defence system

Image result for indian aircraft

Related image

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


आईसीसी टेस्ट रैंकिंग : विराट कोहली शीर्ष पर बरकरार, पुजारा चौथे नंबर पर

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): आस्ट्रेलियाई जमीन पर अपनी अगु...

यूपी में 'केदारनाथ' के खिलाफ मामला दर्ज

लखनऊ (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में बॉ...

top