Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

यहां बनेगा शरिया अपार्टमेंट, धर्म के आधार पर देश की पहली रिहायसी बिल्डिंग

Publish Date: May 14 2018 02:24:56pm

कोच्चि (उत्तम हिन्दू न्यूज) : मुंबई या अन्य शहरों में हिन्दू मकान मालिक या बिल्डरों पर आरोप लगता रहता है कि वे किसी मुसलमान को मकान देने या बेचने में आना-कानी करते हैं। विगत दिनों अहमदाबाद और सूरत में भी इसी प्रकार का आरोप लगा था लेकिन अब इस समस्या का तोड़ मुसलमानों ने भी निकाल लिया है। इस मानसिकता को टक्कर देने के लिए केरल के एक बिल्डर सरिया सिद्धांत पर अपार्टमेंट्स प्लान कर रहे हैं। स्वाभाविक रूप से इस अपार्टमेंट में वहीं मकान खरीदेगा जो सरिया नियमों को मानेगा। 

हालांकि इसे एक व्यापारिक सोच के रूप में प्रचारित किया जा रहा है लेकिन आरोप लगाने वाले इस सोच को अलगाववादी सोच कहते हैं और आरोप लगा रहे हैं कि केरल के उस गांव के तरह ही इस प्रकार के अपोर्टमेंट्स के हस्र होंगा, जो कम ही समय में बिखड़ गए। आपको बता दें कि सरिया नियम सिद्धांतों पर केरल में एक गांव का भी निर्माण किया गया था, जहां अरबी वहावी सोच को तरजीह दी जाती थी। 

कोच्चि के एक बिल्डर ने शरिया अपार्टमेंट बनाने का ऐलान किया है। मजहब के प्रति आस्था रखने वाले मुस्लिमों को उनके धर्म के मुताबिक आवास मुहैया कराने के लिए बिल्डर ने इस आइडिया पर काम करने का फैसला लिया है। इसमें शरिया का पूरा ख्याल रखा जाएगा। पश्चिम कोच्चि में बनने जा रहे इस अपार्टमेंट में मक्का की तरफ फेस वाले फ्लैट बनेंगे। इसके अलावा वॉशरूम और प्रेयर रूम भी शरिया कानून के मुताबिक बनाए जाएंगे।

इसके अलावा इन अपार्टमेंट्स का लेआउट भी ऐसा तैयार किया जाएगा, जिससे नजदीक की मस्जिद की अजान आसानी से सुनी जा सके। इसके अलावा नमाज से पहले नहाने-धोने के लिए अलग से स्पेस, टॉइलट और अन्य चीजों की व्यवस्था भी होगी। यह देश में अपनी तरह के पहले फ्लैट होंगे, जिनका इस्लामिक रीति-रिवाजों के अनुसार नक्शा तैयार किया जाएगा। 

इस फैसले की सराहना करते हुए डॉ. फातिमा निलूफर कहती हैं, ऐसी जगहों पर लोग एक आस्था, खान-पान की समानता और एक सी वेशभूषा में रहते हैं। उन्हें इसलिए निशाने पर नहीं लेना चाहिए कि वे कौन हैं या क्या खाते हैं। फातिमा बताती हैं कि किस तरह से उन्हें पिछले दिनों परेशानियों का सामना करना पड़ा था, जब वह कोच्चि में ही एक अपार्टमेंट किराये पर लेना चाहती थीं। 

उन्होंने कहा, यह प्राकृतिक है कि लोग सम्मान चाहते हैं। हालांकि ऐसे प्रॉजेक्ट्स की आलोचना करने वाले लोगों का कहना है कि यदि ऐसी हाउसिंग कॉलोनीज को बढ़ावा दिया गया तो इससे अलगाव की मानसिकता बढ़ेगी। केरल अपार्टमेंट ओनर्स असोसिएशन के लीगल अडवाइजर जैकब मैथ्यू ने बताया, पहले ही समाज जाति और धर्म के नाम पर बंट रहा है। ऐसे में इस तरह के प्रयास सामाजिक ताने-बाने को और कमजोर करने वाले हो सकते हैं। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

शादी के बंधन में बंधे ईशा अंबानी और आनंद पीरामल, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): जाने माने बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने आनं...

top