Sunday, December 16,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव : हिंसा में 12 की मौत, केन्द्र ने ममता सरकार से मांगी रिपोर्ट

Publish Date: May 14 2018 06:03:57pm

कोलकाता (उत्तम हिन्दू न्यूज) : पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के दौरान बड़े पैमाने पर हुई हिंसा में कम से कम 12 लोगों के मारे जाने की खबर है। वोटिंग के लिए कड़े सुरक्षा इंतजामों के प्रशासन के तमाम दावों खोखले साबित हुए हैं। गृह मंत्रालय ने हिंसाओं के संबंध में पश्चिम बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी है। मौत के आंकड़े बढऩे की आशंका है। सुबह से ही मतदान के दौरान हिंसा की खबरें मिलनी शुरू हो गई थीं। वहीं, अलग-अलग स्थानों पर हुई झड़पों में दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। चुनाव के दौरान कई स्थानों पर मीडिया कर्मियों को भी निशाना बनाया गया है। 

इस बीच दोपहर दो बजे तक राज्य निर्वाचन आयोग को 500 शिकायतें मिल चुकी थी। सूत्रों से मिली खबर में बताया गया है कि बंगाल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष दिलीप घोष और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से बीजेपी में शामिल हुए मुकुल रॉय, हिंसा के हालात पर राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी से मुलाकात करने वाले हैं। नंदीग्राम में निर्दलीय उम्मीदवार के दो समर्थकों की झड़प के दौरान मौत हुई है। पटकेलबारी इलाके में टीएमसी कार्यकर्ताओं के हमले में निर्दलीय उम्मीदवार के समर्थक शाहिद शेख की जान चली गई। वहीं, नादिया जिले के नकासीपुरा में पोलिंग बूथ से लौट रहे टीएमसी कार्यकर्ता की गोली मार कर हत्या कर दी गयी है। 

बेलदांगा में बीजेपी कार्यकत्र्ता तपन मंडल की भी हत्या कर दी गई है। आमदांगा में सीपीएम के एक कार्यकर्ता की बम हमले में मौत हुई है। साउथ 24 परगना जिले में टीएमसी कार्यकर्ता आरिफ अली की गोली मार कर हत्या कर दी गई। जलपाईगुड़ी के शिकारपुर में उपद्रवियों ने बैलट बॉक्स में आग लगा दी। कूचबिहार में भी बीजेपी कार्यकतार्ओं के हमले से टीएमसी कार्यकर्ता अनीरुल हुसैन के घायल होने की सूचना है, हुसैन को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

राज्य के कई हिस्सों से बूथ कैप्चरिंग, वोटरों को धमकाने और बैलट इधर-उधर करने की सामने आई है। हिंसा के बीच राज्‍य में दोपहर 1 बजे तक 41.51 फीसदी मतदान हुआ है। हिंसा प्रभावित 13 मतदान केंद्रों पर पोलिंग को सस्‍पेंड कर दिया गया है। 

यही नहीं उपद्रवियों ने समाचार माध्यम को भी निशाना बनाया है। भांगर जिले से भी हिंसा की खबरें आ रही है कि यहां मीडिया को निशाना बनाया गया है। रिपोट्र्स के मुताबिक मीडिया के वाहन को आग के हवाले कर दिया गया और कैमरों को भी तोड़ दिया गया है। वहां मीडिया कर्मियों को क्षेत्र के अंदर दाखिल नहीं होने दिया जा रहा है। भांगर में ही स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया। बड़ी संख्या में मौजूद भीड़ ने रास्ता जाम कर दिया। गुस्साए लोगों का आरोप था कि टीएमसी कार्यकर्ता बूथ कैप्चरिंग का प्रयास कर रहे थे। उधर, बीरपाड़ा में भी मीडिया पर हमला किया गया। यहां पहले बूथ कैप्चरिंग को अंजाम दिया गया और फिर करीब पांच स्थानीय पत्रकारों को घायल कर दिया गया। 

गौरतलब है कि चुनाव के लिए नामांकन के समय से ही राज्य के अलग-अलग हिस्सों में हिंसा की घटनाएं सामने आ रही थीं। इसके मद्देनजर चुनाव के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए है और असम, ओडिशा, सिक्किम और आंध्र प्रदेश से लगभग 1,500 सुरक्षाकर्मियों को तैनात किए जाने का दावा किया गया है। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


Aus vs Ind: विराट कोहली ने रचा इतिहास, 25वां टेस्ट शतक जड़ तेंदुलकर को पीछे छोड़ा

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय कप्तान विराट कोहली टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 25 शतक बना...

#MeToo की चिंगारी भड़काने वाली तनुश्री लौटेंगी अमेरिका, अपने बारे में किया बड़ा खुलासा 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत में मीटू की चिंगारी भड़काने...

top