Friday, December 14,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

देश छोड़ने वाले भारतीय अमीरों की संख्या बढ़ी, जानिए वजह

Publish Date: May 18 2018 02:58:23pm

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): आज के समय में भारतीयों को विदेश में नागरिकता दिलाने का धंधा जोर पकड़ रहा है। आप ने भी आस-पास देखा होगा हर किसी में बस विदेश जाने की होड़़ है खासकर अमीर और यह काम दुबई और दूसरे फाइनैंशल सेंटर्स में काम कर रहीं कंपनियां कर रही है। कई मालदार मनमाफिक कारोबारी माहौल के लिए यह रास्ता पकड़ते हैं। 

ये कंपनियां 3-4 महिनोें की सिटिजनशिप दिलाने में मदद करती है और इसके लिए एक से ढाई लाख डॉलर तक चार्ज कर करती है। दिल्ली की सिटिजनशिप इनवेस्ट ने  सीईओ वेरोनिका कॉटडेमी ने बताया कि हमारे 10 पर्सेंट क्लाइंट्स एनआरआई और भारत में रहने वाले यहां के नागरिक हैं। जुलाई 2017 से फरवरी 2018 के बीच इनके क्लाइंट्स में 65 प्रतीशत की बढ़ोतरी हुई है। क्लाइंट्स की बढ़ोतरी के पीछे पीएम मोदी के प्रशासन की टैक्स क्लेक्शंस की सक्रियता को बताया जा रहा है।

अपनी कमजोर माली हालत सुधारने के लिए एंटीगुआ सरीखे छोटे देशों ने ऐसी स्कीम्स बना ली हैं, जिनके तहत एक सरकारी फंड में कॉन्ट्रिब्यूशन या एक रियल एस्टेट इनवेस्टमेंट के जरिए कुछ महीनों की नागरिकता हासिल की जा सकती है। इन देशों में आवेदक को केवल 50 हजार डॉलर यानी करीब 34 लाख रुपये देने होते हैं। इन देशों में विदेशी इनकम, कैपिटल गेन, इंपोर्ट, गिफ्ट, उत्तराधिकार में मिली संपत्ति पर कोई टैक्स नहीं लगता।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऑस्ट्रेलिया का चौथा विकेट गिरा, टीम इंडिया की मैच में शानदार वापसी

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): एरॉन फिंच (50) और मार्कस हैरिस (70) की शतकीय साझेदारी के दम पर ...

तेजाब पीड़िता के जीवन पर बन रही फिल्म की शूटिंग अगले साल से शुरू : दीपिका

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री दीपिका पादुकोण निर्देशक मेघना गुलजार की अगली फिल्म म...

top