Tuesday, December 18,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

राष्ट्रपति ने मानद डॉक्टरेट उपाधि अस्वीकार की

Publish Date: May 21 2018 07:14:07pm

सोलन (उत्तम हिन्दू न्यूज): राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को नौनी में बागवानी और वानिकी विश्वविद्यालय के वार्षिक दीक्षांत समारोह में मानद डॉक्टरेट की उपाधि स्वीकारने से इनकार कर दिया। डॉ. वाई.एस.परमार बागवानी एवं वानिकी विश्वविद्यालय ने राष्ट्रपति कोविंद को डॉक्टरेट ऑफ साइंस (डी.एससी) की मानद उपाधि प्रदान करने की योजना बनाई थी। राष्ट्रपति ने विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह में मेधावी विद्यार्थियों को डिग्री व स्वर्ण पदक प्रदान किए।

विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा, राष्ट्रपति ने मानद उपाधि स्वीकारने से इनकार कर दिया। अधिकारी के अनुसार, राष्ट्रपति ने कहा, मैं आपकी भावनाओं का सम्मान करता हूं, लेकिन मैं इसे स्वीकार नहीं कर सकता। हिमाचल के राज्यपाल व विश्वविद्यालय के कुलाधिपति आचार्य देवव्रत व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी इस मौके पर मौजूद थे। राष्ट्रपति ने समारोह में आठ स्वर्ण पदक प्रदान किए। इस मौके पर उन्होंने हिंदी में भाषण दिया और कहा कि शिक्षा का लक्ष्य केवल नौकरी पाने तक सीमित नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि छात्र अपने शिक्षा व कौशल का इस्तेमाल कर अपना उद्यम शुरू कर सकते हैं। उन्होंने छात्रों से कृषि क्षेत्र में अपना व्यापार लगाने के लिए केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं व पहलों का फायदा उठाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा, फल और सब्जी प्रसंस्करण के क्षेत्र में बहुत अधिक संभावना है। विश्वविद्यालय के स्नातक अपने ज्ञान और उद्यम के साथ देश-विदेश में उपभोक्ताओं को बेहतर खाद्य उत्पाद प्राप्त करने और किसानों को उनके उत्पादन का बेहतर मूल्य प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। 

राष्ट्रपति ने उल्लेख किया कि विश्वविद्यालय को एशिया का पहला बागवानी विश्वविद्यालय होने का सम्मान मिला है। उन्होंने कहा कि वानिकी व बागवानी में शोध हिमाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी क्षेत्र के किसानों के लिए विशेष महत्व का है। विश्वविद्यालय ने बीते तीन दशकों में राज्य में बागवानी और वानिकी की उन्नति में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। राष्ट्रपति ने कृषि क्षेत्र में अपनी शिक्षा का चुनाव करने के लिए छात्रों को बधाई दी।

उन्होंने कहा कि वह मानते हैं कि इस विश्वविद्यालय का हर छात्र व शिक्षक हिमाचल प्रदेश व देश के अन्य भागों के किसानों का एक तकनीकी रूप से लैस दोस्त व साझीदार होगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पांच दिवसीय प्रवास पर इस समय पहाड़ी राज्य में हैं। राज्यपाल ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य में शून्य बजट के प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा देने के लिए विश्वविद्यालय अपने कृषि मॉडल को परिसर में क्रियान्वित कर रहा है।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


बेस प्राइज एक करोड़ में ही बिके युवराज सिंह, पहली बार मुंबई के लिए खेलेंगे 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : एक समय में अपनी शानदार बल्ले...

दिलीप कुमार को धमकाने वाला बिल्डर जेल से छूटा, सायरा बानो ने पीएम मोदी से फिर मांगी मदद

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अपने जमाने के मशहूर एक्टर दिलीप ...

top