Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

तूतीकोरिन में फिर हिंसा, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर दागे आंसू गैस के गोले 

Publish Date: May 23 2018 02:14:47pm

चेन्नई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता स्टरलाइट कॉपर यूनिट के खिलाफ  एक बार फिर से बुधवार को हिंसा भड़क गया। आज प्रदर्शनकारियों और पुलिस बल के साथ स्थानीय अस्पताल में झड़प की खबर है। स्थानीय सूत्रों से मिली खबर में बताया गया है कि प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मियों के बीच हुई झड़प के बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। इस बीच पूरे शहर में धारा 144 लगा दी गई है। इस आन्दोलन को लेकर डएमके ने 25 मई को सभी पार्टी प्रदर्शन का ऐलान किया है। 

इधर गृह मंत्रालय ने भी तमिलनाडु सरकार से मंगलवार को हुई घटना पर रिपोर्ट तलब की है। तमिलनाडु से आ रही खबर में बताया गया है कि प्रदर्शन अब राज्य के दूसरे हिस्सों में भी शुरू हो गया है और चेन्नै में भी लोगों ने वेदांता के खिलाफ विरोध मार्च निकाला। इस मामले में फिल्म स्टार रजनीकांत ने भी विडियो मेसेज जारी कर लोगों से शांति की अपील की। मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस की कार्रवाई के दौरान हुई फायरिंग से 11 लोगों की मौत के बाद इलाके में तनाव बना हुआ है। पुलिस ने एक बार फिर प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े हैं। हिंसक घटना के बाद यहां सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। धारा 144 लागू होने के बाद भी लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। 

अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने भी तूतीकोरिन जाकर घायलों से मुलाकात की। हालांकि उन्हें लोगों के भारी गुस्से और विरोध का सामना करना पड़ा। लोगों ने हासन से कहा कि आप तुरंत यहां से चले जाइए, आपकी वजह से हम लोगों को दिक्कत हो रही है। कमल हासन ने कहा, हमें यह पता चलना चाहिए कि किसने पुलिस वालों को गोली चलाने का आदेश दिया। यह इंडस्ट्री बंद होनी चाहिए और यहां के लोग भी यही मांग कर रहे हैं।

वहीं प्रमुख विपक्षी पार्टी डीएमके ने 11 लोगों की हत्या के विरोध में 25 मई को सभी पार्टियों के सामूहिक प्रदर्शन का ऐलान किया है। इसके साथ ही द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम (एमडीएमके) के अध्यक्ष वाइको ने प्रदर्शन में घायल हुए लोगों से हॉस्पिटल जाकर मुलाकात की। वहीं सीपीएम ने विरोध प्रदर्शन करते हुए मार्च निकाला। पत्तली मक्कल कात्ची पार्टी के अन्बूमनी रामादौस ने कहा, तूतीकोरिन में जो हुआ वो साफ तौर पर पुलिस की तरफ से की गई हत्या है। दोषी पुलिसकर्मियों को मर्डर का मुकदमा चलना चाहिए और इसके साथ ही एसपी, डीजीपी, कलेक्टर और चीफ सेक्रेटरी को निलंबित कर देना चाहिए। मुख्यमंत्री के पलानिसामी को भी नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। 

तमिलनाडु मेडिकल एजुकेशन के निदेशक डॉक्टर ए. एडविन जोए ने बताया, अभी तक हमारे हॉस्पिटल में 42 लोगों को भर्ती किया जा चुका है। अधिक भीड़ से बचने के लिए कुछ लोगों को तिरुनेलवेली मेडिकल कॉलेज में ट्रांसफर किया जा चुका है। यहां अभी शवगृह में 10 लाशें पड़ी हैं। अभी तक कुल 17 सजज़्री की जा चुकी है। पुलिस ने हॉस्पिटल के सामने इक_ा हो रही भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हुई अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा, हेडफोन की जगह निकला नट-बोल्ट

मुंबई(उत्तम हिन्दू न्यूज)- बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री सोनाक्ष...

top