Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

नीतीश कुमार ने की नोटबंदी की आलोचना, कहा-जो लाभ मिलना चाहिए नहीं मिला

Publish Date: May 27 2018 01:59:02pm

पटना (उत्तम हिन्दू न्यूज) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी फैसले का कई बार समर्थन कर चुके बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहली बार बड़े जोड़दार तरीके से आलोचना की है। कुमार ने कहा कि नोटबंदी के दौरान बैंकों ने अपना काम ठीक से नहीं किया, यही वजह है कि लोगों को नोटबंदी का जितना फायदा मिलना चाहिए था वह नहीं मिल पाया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इस आलोचना को आर्थिक क्षेत्र में कम लेकिन राजनीतिक क्षेत्र में ज्यादा तवज्जो दी जा रही है। हालांकि यह आलोचना उतनी बड़ी नहीं है और न ही प्राधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सीधा हमला है लेकिन इसके मायने गंभीर हो सकते हैं। राजनीतिक गलियारों में इस आलोचना को भाजपा के उपर दबाव के तौर भी देखा जा रहा है। 

दरअसल, मुख्यमंत्री कुमार ने कहा, मैं नोटबंदी का समर्थक था, लेकिन इस कदम से कितने लोगों को फायदा मिला? कुछ लोगों ने अपना नकदी पैसा इधर से उधर कर लिया। बैंकों की राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की तिमाही समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा, आप (बैंक) छोटे लोगों से कर्ज का पैसा तो वसूल लेते हैं, लेकिन उन लोगों का क्या जो बड़े-बड़े लोन लेते हैं और गायब हो जाते हैं? कितनी हैरत की बात है कि बड़े-बड़े अधिकारियों तक को इसकी भनक नहीं लगती। नीतीश कुमार ने कहा कि बैंकिंग व्यवस्था में बड़े सुधार की जरूरत है। मैं आलोचना नहीं कर रहा लेकिन इसे लेकर फिक्रमंद जरूर हूं।

नीतीश कुमार ने यह कहकर एक तरह से पंजाब नेशनल बैंक में हाल में हुए नीरव मोदी घोटाले की तरफ  इशारा किया। उन्होंने कहा, छोटे कर्जदारों को दिए कर्ज को लेकर तो बैंक काफी सख्ती दिखाते हैं, ऐसी ही सख्ती बड़े कर्जदारों के मामले में क्यों नहीं दिखाई जाती है? बता दें कि जिस वक्त नोटबंदी हुई थी उस वक्त नीतीश कुमार राष्ट्रीय जनता दल के साथ मिलकर बिहार में सरकार चला रहे थे। उस वक्त नीतीश को मोदी विरोधी नेता के तौर पर देखा जाता थे, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने नोटबंदी का खुलकर समर्थन किया था। ऐसे में एनडीए के सहयोगी नीतीश की तरफ से नोटबंदी की आलोचना करना कई संदेश देता है।

वहीं बिहार के उप-मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील मोदी ने नीतीश के बयान पर सफाई देते नजर आए। पत्रकारों के साथ बातचीत में सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश के कहने का अर्थ यह नहीं था कि नोटबंदी अपना मकसद पाने में नाकाम रही। सुशील मोदी ने कहा, यह समझना पूरी तरह से गलत होगा। मुख्यमंत्री ने यह नहीं कहा कि नोटबंदी नाकाम रही है। उन्होंने यह कहा कि नोटबंदी को अमल में लाते समय कुछ बैंकों की भूमिका ठीक नहीं रही। उस समय जिन नोटों को चलन से हटाया गया था, उनको गलत ढंग से बैंकों में जमा होने की रिपोटें आई थीं। नोटबंदी पर नीतीश के बयान से बिहार की राजनीति एक बार फिर से गर्म होती दिख रही है। नीतीश कुमार के इस बयान पर राष्ट्रीय जनता दल ने चुटकी लेते हुए कहा कि अब पछताए होत क्या जब चिडिय़ा चुग गई खेत। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

शादी के बंधन में बंधे ईशा अंबानी और आनंद पीरामल, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): जाने माने बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने आनं...

top