Saturday, December 15,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

RSS मुख्यालय जाने के मामले में पूर्व राष्ट्रपति मुखर्जी ने तोड़ी चुप्पी, कहा-नागपुर में जवाब दूंगा 

Publish Date: June 02 2018 05:36:44pm

कोलकाता (उत्तम हिन्दू न्यूज) : राष्ट्रीय स्वयंसेक संघ (आरएसएस) के नागपुर में होने वाले संघ शिक्षा वर्ग (तृतीय वर्ष) कायक्रम में जाने को लेकर पहली बार पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने अपनी चुप्पी तोड़ी। दरअसल, पूर्व राष्ट्रपति के हवाले से एक बांग्ला भाषी लोकप्रिय अखबार ने दावा किया है कि मुखर्जी ने नागपुर जाने के सवाल पर कहा कि वे नागपुर के कार्यक्रम में ही कई सवालों का जवाब देंगे। बंगाली अखबार को दिए एक इंटरव्यू में प्रणव मुखर्जी ने कहा, जो कुछ भी मुझे कहना है, मैं नागपुर में कहूंगा। मुझे कई पत्र आए और कई लोगों ने फोन किया, लेकिन मैंने किसी का जवाब नहीं दिया है।

बता दें कि जय राम रमेश और सीके जाफर शरीफ जैसे कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने प्रणव मुखर्जी को पत्र लिखकर कार्यक्रम में जाने के फैसले पर फिर से विचार करने को कहा है। जयराम रमेश ने बताया कि उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति को लिखा कि उन जैसे विद्वान और सेक्युलर व्यक्ति को आरएसएस के साथ किसी तरह की नजदीकी नहीं दिखानी चाहिए। आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का देश के सेकुलर माहौल पर बहुत गलत असर पड़ेगा। वहीं केरल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्नीथाला ने कहा कि आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का पूर्व राष्ट्रपति का फैसला सेक्युलर विचारधारा के लोगों के लिए झटके की तरह है। चेन्नीथाला ने कहा प्रणव मुखर्जी को संघ के कार्यक्रम में नहीं जाना चाहिए। 

जयराम रमेश ने कहा, अचानक ऐसा क्या हुआ कि प्रणव मुखर्जी जैसे महान नेता, जिन्होंने हमारा मार्गदर्शन किया, अब आरएसएस के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बनकर जाएंगे। वहीं पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, अब जब उन्होंने न्योते के स्वीकार कर लिया है तो इस पर बहस का कोई मतलब नहीं है कि उन्होंने क्यों स्वीकार किया। उससे ज्यादा अहम बात यह कहनी है कि सर आपने न्योते को स्वीकार किया है तो वहां जाइए और उन्हें बताइए कि उनकी विचारधारा में क्या खामी है। 

बता दें कि पूवज़् राष्ट्रपति ने आरएसएस के हेडक्वॉर्टर पर होने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रम के समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर आने का न्योता स्वीकार कर लिया है। इसे लेकर कई कांग्रेस नेता विरोध कर रहे हैं। वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, मुखर्जी का आरएसएस का आमंत्रण स्वीकार करना एक अच्छी पहल है। राजनीतिक छुआछूत अच्छी बात नहीं है। 

मुखजीज़् नागपुर में 7 जून को आरएसएस के उन स्वयंसेवकों को संबोधित करेंगे, जिन्होंने संघ के शैक्षिक पाठ्यक्रम का तृतीय शिक्षा वर्ग पास किया है। सूत्रों के मुताबिक, आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने मुखर्जी को तब भी न्योता दिया था, जब वे राष्ट्रपति थे। हालांकि मुखर्जी ने तब यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि संवैधानिक पद पर रहते हुए वह इस आयोजन में शामिल नहीं हो सकते हैं। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


अंतर-राष्ट्रीय खिलाडी सचिन रत्ती और उनके भाई गगन रत्ती ने कोच जयदीप कोहली के खिलाफ दी पुलिस कंप्लेंट 

सोशल मीडिया पर परिवार को बदनाम करने का लगाया आरोप, अगर मुझे और मेरी पत...

सामने आया नीता अंबानी का 33 साल पुराना Bridal Look, आप भी देखें तस्वीरें

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): 12 दिंसबर को देश के मशहूर बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अ...

top