Monday, December 10,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

किसान हड़ताल : राज्य सरकारों ने किया प्रशासन को अलर्ट, बढऩे लगे सब्जी व फलों के दाम 

Publish Date: June 03 2018 11:32:51am

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : किसान आंदोलन के तेवरों ने राज्य सरकारों को चिंता बढ़ा दी है। इस आन्दोलन के कारण जहां एक ओर शहरों में दूध, सब्जी और फलों की कीमतों में अप्रत्याशित वृद्धि हाने लगी है वहीं दूसरी ओर सात राज्यों की सरकारों ने प्रशासन को हिंसक घटनाओं की आशंका के मद्देनजर हाई अलार्ट पर कर दिया है। सरकारी सूत्रों से मिली खबर में बताया गया है कि सरकारों ने शहर में सब्जी, फल, दूध व खाद्य आपूर्ति सुनिश्चत कराने को लेकर बड़े पैमाने पर प्रशासन को सक्रिय रहने को कहा है। इधर केंद्र सरकार ने दस दिवसीय इस किसान हड़ताल को कुछ लोगों की साजिश बताया है। किसान आन्दोलन के दूसरे और तीसरे दिन इसका राजनीतिक स्वरूप भी थोड़ा-थोड़ा लोगों के ध्यान में आया। 

पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में इस हड़ताल का असर व्यापक दिख रहा है। पंजाब के शहरों की सब्जी मंडी को बंद कर दिया गया है। वहीं चंडीगढ के सेक्टरों में लगने वाली किसान मंडी पर भी इस हड़ताल का व्यापक असर देखा जा रहा है। पंजाब एवं हरियाणा में सब्जी की कीमतों में जबरदस्त वृद्धि देखने को मिल रही है। यही नहीं बीते दिन शनिवार की शाम वेरका दुग्ध उत्पादन करने वाली पंजाब सरकार की सहकारी समिति ने भी हाथ खड़े किए और कहा कि चूकि किसान दूध उपलब्ध नहीं करा रहे हैं इसलिए पहले की अपेक्षा दूध की आपूर्ति में कमी आएगी। कई वेरका प्लांट में लाल पैकेट की आपूर्ति बेहद कम हुई जिसके कारण ग्राहकों के बीच इस पैकेट का वितरण कम हुआ। 

मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश समेत सात सूबे की सरकारों ने क्षेत्रीय प्रशासनों को अलर्ट रहने के निर्देश जारी किए हैं। उन्हें पिछली बार की तर्ज पर आंदोलन के हिंसक होने और बड़ा रूप अख्तियार करने की आंशका है। हालांकि हड़ताल के दूसरे दिन तक किसानों द्वारा सब्जी, फल और दूध फेंकने के अलावा कोई अनहोनी सामने नहीं आई है। कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने समेत 32 मांगों के समथज़्न में हड़ताल को लेकर डेढ़ सौ से ज्यादा किसान संघ एकजुट हैं। 

अब तक सात राज्यों में ही इसका मिला-जुला असर दिखा है जिनमें महाराष्ट्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ भी शामिल हैं। राज्य प्रशासनों के सामने सबसे बड़ी चुनौती आम जनता के लिए फल, सब्जी, खाद्य और दूध की आपूर्ति कराना है। फिलहाल मध्य प्रदेश के कुछेक इलाकों को छोड़कर ग्रामीण से शहरी क्षेत्रों में रोजाना होने वाली आपूर्ति में किसी प्रकार की बाधा की सूचना नहीं है।  

सात राज्यों की शहरी क्षेत्र की मंडियों में सब्जियों, फलों और खाद्य के दाम भी फौरी तेजी सामने आई है। माना जा रहा है कि किसानों के दस दिनों के बंद के पहले दिन आम लोगों की ओर से इन चीजों की अतिरिक्त खरीद की गई है। ऐसे में आपूतिज़् की तुलना में मांग बढऩे से दाम में थोड़ी बढ़ोत्तरी दजज़् की गई है। दरअसल किसान संघों ने ने गांवों से शहरों में जाने वाले अनाज और सब्जियों की आपूर्ति रोकने को कहा है। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top