Monday, December 10,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

राम मंदिर और गंगा संरक्षण कानून पर संतों की सरकार को चेतावनी 

Publish Date: June 03 2018 02:55:44pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कैराना में देवबंदी मुस्लिम फिरकों के द्वारा कथित रूप से 37 फतवे जारी करना और दिल्ली के आर्क बिशप के राजनीतिक पत्र पर मामला गरमाता जा रहा है। रविवार को अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जीतेन्द्रानंद ने कहा कि जब अन्य धर्म के लोग अपने-अपने मतावलंवियों को संगठित कर उनका राजनीतिक उपयोग कर रहे हैं ऐसे में हिन्दुओं को भी संगठित करने का नए सिरे प्रयास करना होगा। जीतेन्द्रानंद ने कहा कि हम चुप नहीं बैठ सकते हैं। उन्हों ने कहा कि कैराना उपचुनाव में देवबंद की ओर से 37 फतवे जारी किए गए। इससे पहले दिल्ली के आर्क बिशप ने पत्र जारी कर सरकार के खिलाफ चर्च में एक साल तक प्रार्थना कराने के लिए कहा। ऐसे में अब संत समाज की मजबूरी है कि वह भी हिंदू समाज को राजनीतिक रूप से एकजुट करे।  

जीतेन्द्रानंद ने कहा कि चुनावी वर्ष में गंगा और राम मंदिर निर्माण के लिए संत संगठित प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि इन दोनों मुद्दों पर सरकार का रवैया उदासीन है। उन्होंने बताया कि बीते दिन देश भर के 300 से अधिक संतों की अगुवाई में अखिल भारतीय संत समिति की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राम मंदिर के निर्माण के लिए संसद में कानून बनाने और बीते डेढ़ साल से लंबित गंगा संरक्षण कानून को लागू करने की मांग की गई है। मांगें नहीं मानने पर संतों ने देश भर में आंदोलन की चेतावनी दी है।
 
महामंडलेश्वर रामानंदाचार्य हंसदेवाचार्य और समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि राम मंदिर और गंगा कानून पर अब और इंतजार नहीं किया जा सकता। अगर सुप्रीम कोर्ट आतंकवादियों और एक मुख्यमंत्री के लिए आधी रात को अदालत खोल सकते हैं तो राम मंदिर मामले की प्रतिदिन सुनवाई क्यों नहीं हो सकती? दोनों संतों ने कहा कि मंदिर निर्माण का सबसे बेहतर तरीका इस बारे में संसद में कानून बनाने की है। अगर सरकार ऐसा नहीं करेगी तो इस मामले में देश भर में आंदोलन छेड़ा जाएगा। 

स्वामी जीतेंद्रानंद ने गंगा मामले में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सरकार पर उदासीन रवैया अपनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि डेढ़ साल पहले गिरिधर मालवीय की अगुवाई में बनी कमेटी ने गंगा संरक्षण कानून का मसौदा तैयार कर सरकार को दे दिया था। मगर यह अब तक गडकरी की मेज पर पड़ा है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय के अधिकारी गंगा को बचाने के प्रयास में पलीता लगा रहे हैं और सरकार के साथ-साथ गडकरी तमाशा देख रहे हैं। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top