Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

माओवादियों ने बदली रणनीति, बड़े पैमाने पर कर रहे कैडरों का तबादला 

Publish Date: June 04 2018 02:14:29pm

रांची (उत्तम हिन्दू न्यूज) : देश के सबसे व्यवस्थित और खुखार माओवादी उग्रवादी संगठन में भी ट्रांसफर और पोस्टिंग होता है। यहां अधिकारियों का केवल स्थानांतरण ही नहीं समय-समय पर पदोन्नति भी होती है। इस बात का खुलासा छत्तीसगढ से गिरफ्तार माओवादी कैडरों ने किया है। कैडरों ने कुछ चौकाने वाले खुलासे भी किए। कैडरों ने बताया कि इन दिनों बड़े पैमाने पर माओवादियों के स्थानीय सांगठनिक ढांचों में बदलाव किया जा रहा है। जहां एक ओर बाहर के कौडरों की संख्या बढ़ाई जा रही है वहीं बड़े पैमाने पर नए कैडरों की बहाली की जा रही है। 

कुछ नए अति प्रशिक्षित कैडरों को महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया जा रहा है। हालांकि इसके कारण स्थानीय कैडर और बाहर के कैडरों में समन्वय का आभाव हो रहा है और कई बार इसके कारण संगठन को घाटा भी उठाना पड़ता है लेकिन माओवादी नेतृत्व, जिन स्थानों पर माओवाद का प्रभाव कम है वहां प्रभाव बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर बाहर से कैडरों को भेज रहे हैं और स्थानीय कैडरों को दूसरे इलाकों में भेजा जा रहा है। 

पकड़े गए कैडरों से जब यह पूछा गया तो उन्होंने बताया कि पकड़े गए या आत्मसर्मण किए कैडरों को चकमा देने एवं सुरक्षा बलों को परेशान करने के लिए माओवादी नेतृत्व ने अपनी रणनीति पूरी तरह बदल दी है। इससे अब साफ हो गया है कि माओवादी नए तरीके से सुरक्षा बलों के सामने चुनौती प्रस्तुत करेंगे। आपको बता दें कि जैसे तीन साल से एक ही जगह काम कर रहे अधिकारियों का तबादला कर दिया जाता है, ठीक उसी तरह माओवादी संगठन में भी ट्रांसफर होता है और नक्सलियों का एरिया बदल दिया जाता है। इन दिनों माओवादियों ने इस गतिविधि में तेजी कर दी है। 

नक्सली ऑपरेशन के दौरान जिला पुलिस बल के जवानों ने माड एरिया कमेटी के नक्सली सदस्यों को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में नक्सली सदस्यों ने कई अहम खुलासे किए। नक्सली सदस्यों ने खुलासा किया कि मावोवादी संगठन में नक्सलियों का ट्रांसफर हो रहा है। कोण्डागांव एसपी अभिषेक पल्ल्ल्व ने बाहरी नक्सलियों के पकड़े जाने को लेकर बताया कि नक्सली कैडर में भी ट्रांसफर हो रहा है ताकि पुराने नक्सलियों को सरेंडर नक्सली पहचान न सके। साथ ही जिले में नक्सलियों का प्रभाव कम है इसलिए सीमावर्ती क्षेत्र में प्रभाव बढ़ाने के लिए नक्सलियों के एरिया बदले जा रहे है।

चुनाव के करीब आते ही शासकीय अधिकारियों के तबादले का दौर शुरू हो चूका है। एक ही जगह तीन साल से काम कर रहे अधिकारियों को दूसरी जगह भेजा जा रहा है. ठीक इसी तरह नक्सली संगठन में बदलाव का दौर शुरू हो चूका है। एसपी अभिषेक पल्लव ने कहा कि चुनाव के समय जनप्रतिनिधियों के दौरे की सरगर्मी रहेगी। ऐसे में नए नक्सलियों की पहचान कर पाना जवानों के लिए मुश्किल होगा। ऐसे में नए नक्सली बड़ी वारदात को अंजाम देने की पूरी कोशिश कर सकते है। नक्सलियों के एरिया बदलने की खबर बस्तर के दुसरे क्षेत्रों से भी आ रही है। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हुई अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा, हेडफोन की जगह निकला नट-बोल्ट

मुंबई(उत्तम हिन्दू न्यूज)- बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री सोनाक्ष...

top