Sunday, December 16,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

मासूम की मां कराना चाहती थी मजदूरी, थानाध्यक्ष ने पूरी की कांवेंट स्कूल में पढ़ने की चाहत

Publish Date: July 06 2018 04:37:59pm

इटावा (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश में इटावा के बकेवर क्षेत्र में पिता की मृत्यु के बाद दलित मासूम की मां मजदूरी कराकर जीवन यापन करना चाहती थी लेकिन इंस्पेक्टर आलोक राय ने गरीबी की मार झेल रहे बच्चे की चाहत को कांवेंट स्कूल में दाखिला कराने की जिम्मेदारी ली है।

बकेवर इंस्पेक्टर आलोक राय ने शुक्रवार को यहां बताया कि जिले के इसी इलाके का यह मामला है जहां एक बच्चा थाने में पढ़ाई करने की फरियाद लेकर पहुंचा। पुलिस ने बच्चे से उसके बारे में पूछा और फिर इंस्पेक्टर राय ने यह फैसला किया कि वे बच्चे कि इच्छा को पूरा करेंगे और उनका दाखिला निजी स्कूल में कराएंगे।

राय बताया कि बच्चे के पिता की मृत्यु करीब दो साल पहले हो गई थी। गरीबी की वजह से वह मजदूरी करने को मजबूर था। बच्चा थाने में स्कूल जाने की फरियाद लेकर पहुंच गया। पुलिस से शिकायत करते हुए बच्चे ने कहा कि वह स्कूल जाना चाहता है, लेकिन मां उसे जबरदस्ती काम पर भेजती है और न जाने पर पिटाई भी करती है। बच्चे ने बताया कि रोज दूसरे बच्चों को स्कूल जाते देखकर वह भी अपनी मां को स्कूल भेजने के लिए कहता, लेकिन वह उनकी नहीं सुनती थी। 

इस बात से आहत होकर बच्चा सीधे थाने पहुंच गया और अपनी मां के खिलाफ शिकायत की। 13 वर्षीय लड़के गौरव की पीड़ा सुनकर, थाने के पुलिस इंस्पेक्टर ने परिवार के लोगों से बात की। बच्चे के परिजनों की परेशानी को देखते हुए थानाध्यक्ष ने मानवता का परिचय देते हुए बच्चे की पढ़ाई का पूरा खर्चा उठाने का जिम्मा उठाया। बच्चे के परिजनों ने बताया कि पति की मौत के बाद से घर में खाने के भी लाले पड़े हुए हैं। गरीबी की वजह से मां भी मजदूरी करती है। बच्चों के काम करने के बाद ही खाने का इंतजाम हो पाता है। इसलिए बच्चों को पढ़ाने के लिए नहीं भेजा जाता। बच्चे की पढ़ाई में लगन को देखते हुए थानाध्यक्ष आलोक राय ने बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा उठाया।
 
रॉय गौरव नाम के इस मासूम को लेकर अपने थाना क्षेत्र के लखना स्थिति सीबीएससी बोर्ड से संबंद्ध ग्रीन वैली स्कूल के प्रबंधक अशोक सिंह राठौर से बात की और उसमें दाखिला करवाने के लिए कहा। स्कूल में दाखिले के लिए विद्यालय प्रबंधक अशोक राठौर ने जिम्मेदारी लेते हुए बताया कि वह अपने यहां दोनो बच्चों की पूरी देखभाल करेंगे। गौरव ने बताया कि जब वह मजदूरी पर जाता था तो दूसरे बच्चों को स्कूल जाते देखने पर उसका भी मन होता था लेकिन जब घर वालों ने नहीं सुना तो मजबूरी में पुलिस में शिकायत करने छोटे भाई के संग वह थाने चला गया था।

इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक(एसएसपी) अशोक कुमार त्रिपाठी ने बताया कि उनके समक्ष दो गरीब मासूम सगे भाई इस शिकायत के साथ पेश हुए कि उनकी मॉ उनसे मजदूरी करवाती है लेकिन वो पढ़ना चाहते हैं। दोनो की उम्र 13 और नौ साल थी। उनकी इस मार्मिक अपील से उनके चेहरे पर मुस्कान लाना हमारा परमकर्तव्य है। 

त्रिपाठी ने बताया कि इसी के मद्देनजर दोनो बच्चों की पढ़ाई के बाबत बकेवर थाने के इंस्पेक्टर को निर्देशित किया गया कि दोनो का प्रवेश स्थानीय किसी बेहतरीन स्कूल में कराया जाये। इसी क्रम मे दोनो बच्चों का प्रवेश सीबीएससी बोर्ड से जुड़े स्कूल में करा दिया गया है। दोनो बच्चों की मॉ को भी समझाने के लिए कहा गया कि वह अपने बच्चों की पढ़ाई की चिंता न करे, उनका ख्याल पुलिस अपने स्तर पर कर रही है। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


Aus vs Ind: विराट कोहली ने रचा इतिहास, 25वां टेस्ट शतक जड़ तेंदुलकर को पीछे छोड़ा

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारतीय कप्तान विराट कोहली टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 25 शतक बना...

#MeToo की चिंगारी भड़काने वाली तनुश्री लौटेंगी अमेरिका, अपने बारे में किया बड़ा खुलासा 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत में मीटू की चिंगारी भड़काने...

top