Tuesday, December 11,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

ब्रिगेडियर का रैंक खत्‍म करेगी इंडियन आर्मी, जानिए कारण

Publish Date: July 17 2018 04:35:57pm

नई दिल्‍ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारतीय सेना के सांगठनिक संरचना में व्यापक परिवर्तन करने की योजना है। इस मामले को लेकर सरकार मुकम्मल माहौल बनाने का प्रयास कर रही है। सबकुछ ठीक रहा तो जल्द भारतीय सेना के ब्रिगेडियर का रैंक समाप्त कर दिया जाएगा। मसलन सेना अपने ढांचे का पुर्नगठन करना चाहती है और इसके तहत ही वह ब्रिगेडियर रैंक को खत्‍म करने पर विचार कर रही है। सेना का मकसद ऐसा करके सिविल सर्विसेज के बराबर सेना को लाना है। 

सेना की योजना है कि रैंक्‍स की संख्‍या को नौ से छह या सात पर लेकर आया जाए ताकि उनके कैडर्स के सामने बेहतर भावी संभावनाएं सुनिश्चित की जा सके। पिछले माह सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने एक हाई लेवल कमेटी मीटिंग बुलाई थी और इस मीटिंग में ऑफिसर कैडर को नया स्‍वरूप देने की कई संभावनाओं पर चर्चा की गई। इस कमेटी जिसकी अध्‍यक्षता एक मिलिट्री सेक्रेटरी और एक लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के ऑफिसर कर रहे थे, अपनी रिपोर्ट इस वर्ष नवंबर के अंत तक देगी। 

पिछले माह हुई है एक मीटिंग

कैडर रिव्‍यू के लिए जो अंतरिम ड्राफ्ट तैयार हुआ है, उसमें ब्रिगेडियर की रैंक को खत्‍म करने की बात है। इसका मतलब यह है कि कर्नल जिनका प्रमोशन बचा है, वह सीधे मेजर जनरल बन जाएंगे। इस ड्राफ्ट में यह सलाह भी दी गई है कि लेफ्टिनेंट की रैंक, उत्‍तराखंड के देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री एकेडमी में जेंटलमेन कैडेट्स को मिल जानी चाहिए। इसके बाद जब कैडेट्स सेना में कमीशंड हों तो सीधे कैप्‍टन की रैंक पर उन्‍हें कमीशन मिले न कि लेफ्टिनेंट की। इससे किसी ब्रिगेड या फिर कोर को कमांड करने वाले ऑफिसर की रैंक पर भी असर पड़ेगा।

एक ऑफिसर की ओर से बताया गया है कि यह ब्रिगेड कमांडर की स्थिति को बहाल करने में भी मदद करेगा जो पुलिस के आईजी से भी एक रैंक आगे होता है लेकिन पुलिस में आईजी की सैलरी ज्‍वॉइन्‍ट सेक्रेटरीज के बराबर है और सेना के ब्रिगेडियर से काफी ज्‍यादा होता है। सेना का ध्‍यान इस तरफ भी गया है कि सिविल सर्विसेज में कोई भी ऑफिसर 18 वर्ष की नौकरी के बाद ज्‍वॉइन्‍ट सेक्रेटरी के पद पर पहुंच जाता है।

सिविल सर्विसेज के बराबर लाना मकसद

सेना में इस पद के बराबर आने में उसे 32 से 33 वर्ष का समय लग जाता है। इतने वर्षों में ऑफिसर को मेजर जनरल की रैंक मिलती है। एक ऑफिसर के मुताबिक जहां 100 में से 80 आईएएस ऑफिसर ज्‍वॉइन्‍ट सेक्रेटरीज बन जाते हैं तो वहीं 100 में से सिर्फ पांच या फिर छह ऑफिसर ही मेजर जनरल की रैंक तक पहुंच पाते हैं। सेना के प्रवक्‍ता का कहना है कि यह अभी सिर्फ एक प्रस्‍ताव है और अंतिम फैसला लेने से पहले काफी विस्‍तार से इसका अध्‍ययन किया जाएगा, इसके बाद ही कोई निष्‍कर्ष निकल पाएगा।


 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


आईसीसी टेस्ट रैंकिंग : विराट कोहली शीर्ष पर बरकरार, पुजारा चौथे नंबर पर

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): आस्ट्रेलियाई जमीन पर अपनी अगु...

कल प्रेमिका गिन्नी के साथ शादी रचाएंगे कपिल शर्मा, सामने आई प्री-वेडिंग की तस्वीरें

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): हास्य अभिनेता-निर्माता कपिल शर्मा कल यानी 12 दिसंबर को अपनी प्...

top