Friday, December 14,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

संसद का मॉनसून सत्र आज से होगा शुरु, हंगामेदार रहने के आसार 

Publish Date: July 18 2018 09:53:01am

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): संसद का मॉनसून सत्र आज से शुरू हो रहा है और इस सत्र में लंबित पड़े कई अहम बिल पास हो सकते हैं। यह मॉनसून सत्र 10 अगस्त तक चलेगा। मोदी सरकार तीन तलाक बिल, महिला आरक्षण विधेयक, भगोड़ा आर्थिक अपराधी बिल, ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्ज बिल, बलात्कार के दोषियों को कड़े दंग के प्रावधान वाले विधेयक समेत कई महत्वपूर्ण बिलों को इस सत्र में पास कराना चाहेगी। जबकि, विपक्ष की कोशिश सरकार को कई मुद्दों पर घेरने की होगी।

केंद्र में सरकार संभालने के बाद एनडीए सरकार ने लंबित बिलों में से 12 बिल बहुमत वाले सदन लोकसभा में पारित करा लिए हैं, लेकिन राज्यसभा में अबतक ये अटके ही हुए हैं। अगामी चुनावों के देखते हुए संसद का मॉनसून सत्र काफी हंगामेदार रहने के आसार हैं। पिछले दिनों पूरा बजट सत्र हंगामे की भेंट चढ़ गया था, साथ ही कामकाज के लिहाज से 16वीं लोकसभा का रिकॉर्ड काफी खराब ही रहा है।
  
सरकार 43 विधेयक चर्चा और पारित कराने के लिए लाने का प्रयास करेगी जिनमें से छह विधेयक अध्यादेशों के स्थान पर लाए जाएंगे। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कल कहा था कि 24 दिन के इस सत्र के दौरान 18 बैंठकें होंगी। सत्र में वर्ष 2018-19 के लिए रेलवे सहित अन्य अनुपूरक मांगाें तथा वर्ष 2015-16 की अतिरिक अनुदान मांगों को मंजूरी का प्रस्ताव किया जायेगा। तीन विधेयक वापस भी लिये जायेंगे जिनमें लोकसभा में सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम विकास (संशोधन) विधेयक 2015 और राज्यसभा में सशस्त्र बल न्यायाधिकरण (अधिनियम) विधेयक 2012 और नालंदा विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2013 शामिल है। 

उन्होंने कहा कि सत्र में जिन अध्यादेशों के स्थान पर विधेयक लाये जायेंगे उनमें भगोड़ा आर्थिक अपराध अध्यादेश 2018, आपराधिक कानून संशोधन अध्यादेश 2018, उच्च न्यायालयों की कमर्शियल अदालतें, कमर्शियल डिविजन्स और कमर्शियल अपीलीय डिविजन्स (संशोधन) अध्यादेश, 2018, होम्योपैथी सेंट्रल काउंसिल (संशोधन) अध्यादेश, 2018, राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय अध्यादेश, 2018, इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी संहिता (संशोधन) अध्यादेश, 2018 शामिल हैं।

इसके अलावा दोनों सदनों में लंबित पड़े कुछ और महत्वपूर्ण विधेयकों पर भी चर्चा होगी और उन्हें पारित किया जाएगा। इनमें मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक 2017, उपभोक्ता संरक्षण विधेयक 2018, नई दिल्ली अंतरराष्ट्रीय आर्बिट्रेशन केन्द्र विधेयक 2018, ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के अधिकारों का संरक्षण विधेयक, 2016, संविधान का 123वां संशोधन विधेयक 2017, राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग विधेयक 2017, मोटरवाहन संशोधन विधेयक 2017 और भ्रष्टाचार निरोधक संशोधन विधेयक 2013 शामिल हैं।

नए विधेयकों में मानवाधिकार संरक्षण (संशोधन) विधेयक 2018, सूचना का अधिकार (संशोधन) विधेयक 2018 , बांध सुरक्षा विधेयक 2018 और डीएनए प्रौद्योगिकी उपयोग नियमन 2018 भी शामिल हैं। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पर्थ टेस्ट : आस्ट्रेलिया की अच्छी शुरुआत, भोजनकाल तक बनाए 66 रन 

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): आस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम ने अच्छी शुरुआत करते हुए भारत के दूसरे ...

'सिम्बा' ब्लॉकबस्टर होगी : दीपिका

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का कहना है कि उनके पति रणवीर सिंह की ...

top