Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

अफगान में सिखों पर हुए हमले के शिकार 14 परिवार पहुंचे दिल्ली, बताई आपबीती

Publish Date: July 21 2018 01:23:33pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अफगानिस्तान में सिख-हिन्दू कॉम्युनिटी को निशाना बनाकर किए गए हमलें में घायल कुछ लोग इन दिनों बेहतर इलाज के लिए दिल्ली आए हुए हैं। उन्होंने जो बया किया उससे रोंगटे खड़े हो जाते हैं। साथ ही यह पता चलता है कि अफनिस्तान में किस भयानक परिस्थिति में हिन्दू-सिख समुदाय के लोग रह रहे हैं। मसलन एक सिख, घटना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वह एक भयानक सपने जैसा था, मैंने वहां अक्सर बम फटते देखे थे लेकिन मैं भी उनमें से किसी एक का शिकार बन जाऊंगा ऐसा सोचा नहीं था। 

नरेंद्र सिंह खालसा बताते हैं कि अफगानिस्तान हिन्दू-सिख समुदाय के लोग अफगानिस्तान के राष्ट्रपति से मिलने जा रहा थे। राष्ट्रपति से मिलने जा रहे हिन्दू-सिखों को निशाना बनाकर आतंकवादियों ने 1 जुलाई को हमला कर दिया। उस हमले में 19 लोगों की जान चली गई, जिनके परिवारों पर मानों दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो। 

धमाकों में जान गंवाने वालों और घायल लोगों के करीब 14 परिवार इस वक्त बेहतर इलाज के लिए दिल्ली आए हैं। एम्स में इलाज करवा रहे नरेंद्र ने बताया कि हमले में उन्होंने अपने पिता अवतार सिंह खालसा को खो दिया, वह सिख नेता थे। नरेंद्र बताते हैं कि हमला उस वक्त हुआ जब उनके पिता का चार गाडिय़ों का काफिला राष्ट्रपति अशरफ गनी से मिलने जा रहा था। धमाके वाले पल को याद करते हुए नरेंद्र कहते हैं, अचानक एक बम फटा, मैंने देखा कि कुछ लोगों ने वहीं दम तोड़ दिया। मेरे जैसे घायल लोग एक दूसरे की मदद से गाडिय़ों से बाहर निकलने की कोशिश कर रही रहे थे कि दूसरा बम फट गया।

धमाके में मनमीत सिंह नाम के सिख ने भी जान गंवाई, उनके साथ उनके पिता भी मारे गए। दिल्ली आई उनकी पत्नी उस दिन को याद करते हुए कहती हैं, हमारे घर के बाहर कुछ लोग भागते हुए आए और चिल्लाने लगे कि कुछ सिख लोगों को आतंकियों ने मार दिया है। मनमीत की मां कहती हैं, मेरी बेटी भागती हुई मेरे पास आई और बोली मां हम दोनों विधवा हो गए। मैंने यह सुनते ही उसे एक थप्पड़ लगाया और कहा कि किसी की बातों पर ऐसे विश्वास न किया करे। फिर मैं खुद भागती हुई धमाके वाली जगह पर गई, लेकिन पुलिस ने मुझे काफी दूर ही रोक लिया। फिर बाद में फोन के जरिए मनमीत और उनके पिता की मौत की जानकारी मिली थी। 

हमले में राजू सिंह नाम के शख्स की भी जान गई है, जिनके चार छोटे बच्चे हैं। राजू की मां रोते हुए बताती हैं कि उनके दो बेटों की मौत पहले ही हो चुकी थी। अब परिवार के बच्चों और 5 औरतों का खर्च चलाना उनके लिए मुश्किल हो जाएगा। ये लोग फिलहाल विकासपुरी में अपने रिश्तेदारों के यहां रह रहे हैं। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

शादी के बंधन में बंधे ईशा अंबानी और आनंद पीरामल, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): जाने माने बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने आनं...

top