Wednesday, December 19,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

कैलाश मानसरोवर यात्रा में गतिरोध, गुंजी में फंसे तीर्थयात्री

Publish Date: July 21 2018 06:05:09pm

नैनीताल (उत्तम हिन्दू न्यूज): देश की ऐतिहासिक कैलाश मानसरोवर यात्रा पर खराब मौसम का असर पड़ने से यात्रा में गतिरोध उत्पन्न हो गया है। उच्च हिमालयी क्षेत्र में मौसम खराब होने के कारण कैलाश यात्रियों के दो दल पिछले छह दिन से गुंजी में फंसे हुए हैं। कुमाऊं मंडल विकास निगम के सामने अब यात्रियों के लिए भोजन की व्यवस्था करने में दिक्कत आने लगी हैं। निगम ने पूरे मामले से केन्द्र सरकार को अवगत करा दिया है। निगम ने केन्द्र सरकार से दिल्ली से चलने वाले 12वें दल को स्थगित करने का भी अनुरोध किया है।
 
भारत एवं चीन के बीच 12 जून से इस वर्ष की कैलाश मानसरोवर यात्रा संचालित की जा रही है। पिछले साल आयी आपदा एवं सीमा पर सड़क निर्माण के चलते कैलाश यात्रा का परंपरागत पैदल रास्ता बंद है। इसलिये इस साल केंद्र सरकार ने कैलाश यात्रा को हेलीकाॅप्टर के माध्यम से संचालित करने का निर्णय लिया। यात्रियों को नौ सेना के हेलीकाॅप्टर से पिथौरागढ़ से सीधे गुंजी बेस कैम्प भेजने का निर्णय लिया गया।

विदेश मंत्रालय की ओर से नौ सेना के चार एमआई-17 हेलीकाप्टर को पिथौरागढ़ में तैनात किया गया है। पहले दल को छोड़कर तय कार्यक्रम के तहत अभी तक छह दलों को हेलीकाप्टर से गूंजी भेजा गया। लेकिन इसके बाद ऊंचाई वाले इलाके में मौसम अत्यधिक खराब रहने लगा। 

सूत्राें के अनुसार कैलाश मानसरोवर से वापस लौटने के दौरान यात्रियों का पांचवां एवं छठा दल पिछले छह दिन से गुंजी में फंसा हुआ है। दोनों दल में 114 यात्री शामिल हैं। ये लोग कैलाश के दर्शन करके लौट आये हैं और गुंजी में हेलीकाॅप्टर के इंतजार में रूके हैं। इन्हें वहां से पिथौरागढ़ वापस लाया जाना है। 

इनके अलावा आठवां दल के यात्री भी पिछले 15 जुलाई से पिथौरागढ़ में फंसे हुए हैं और मौसम ठीक होने का इंतजार कर रहे हैं। इन्हें कैलाश की आगे की यात्रा पर जाना है। आगे बने गतिरोध के चलते नौवें एवं दसवें दल को भी रास्ते में रोक दिया गया है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार नौवें दल को अल्मोड़ा के बाद चौकोड़ी भेज दिया गया है। यह दल पिछले तीन चार दिन से चौकोड़ी में है। आगे का रास्ता साफ न होने के कारण दसवें दल को दो तीन दिनों से भीमताल में ठहराया गया है। 

कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) के महाप्रबंधक जीएस मर्तोलिया ने बताया कि छियालेख में मौसम अत्यधिक खराब होने के कारण हेलीकाॅप्टर उड़ान भरने के बाद पिथौरागढ़ वापस आ जा रहे हैं। 

पिथौरागढ़ जिला प्रशासन भी यात्रियों को लेकर पशोपेश में है। सूत्रों ने बताया कि केएमवीएन के सामने भी दिक्कतें आने लगी हैं। पिछले छह सात दिनों से आये गतिरोध के कारण निगम को खाने एवं ठहराने में अतिरिक्त व्ययभार उठाना पड़ रहा है। यदि मौसम साफ नहीं हुआ और यही हालात बने रहे तो ऊंचाई वाले इलाके गुंजी में राशन की दिक्कत आ सकती है।

इनके अलावा यात्रियों के सामने भी कठिनाइयां हैं। वे पिछले कई दिनों से एक ही जगह में ठहरे हुए हैं जिससे उन्हें भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। निगम की ओर से इन समस्याओं को लेकर विदेश मंत्रालय को एक पत्र भेजा गया है। जिसमें निगम की ओर से 26 जुलाई को चलने वाले 12वें दल को निरस्त करने की मांग भी की गयी है। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


क्लब वर्ल्ड कप : अल ऐन ने किया उलटफेर, रिवर प्लेट को हराया

अबू धाबी(उत्तम हिन्दू न्यूज)- कोपा लिबर्टाडोरेस विजेता रिवर प...

रिलीज से पहले विवादों में कंगना की फिल्म, इस एक्टर ने निर्माताओं पर लगाए आरोप

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अगले साल 25 जनवरी को रिलीज होने ...

top