Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

स्विस बैंक में 80 फीसदी घटा भारतीयों का धन, संसद में हंगामा

Publish Date: July 24 2018 02:01:53pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : स्व‍िस बैंकों में भारतीयों की जमा राशि में 50 फीसदी से ज्यादा का इजाफा होने को लेकर स्व‍िस बैंक ने सफाई दी है। उसने कहा है कि इन बैंकों में जमा सभी पैसा काला धन नहीं है। स्व‍िस बैंक बीआईएस की तरफ से जारी आंकड़े के मुताबिक 2017 में काले धन में 34.5 फीसदी की कमी आई है। उसने कहा कि एनडीए राज में काला धन 80 फीसदी कम हुआ है। स्व‍िस बैंक बीआईएस ने बताया, नॉन-बैंक लोन और डिपोजिट्स में कमी आई है। बैंक के मुताबिक 2016 में नॉन-बैंक लोन का आंकड़ा जहां 80 करोड़ डॉलर था। वह 2017 में घटकर यह 52.4 करोड़ डॉलर पर आ गया है।

बैंक ने बताया कि एनडीए के राज में स्व‍िस नॉन-बैंक लोन और डिपोजिट्स में काफी ज्यादा कटौती हुई है। 2013 से 2017 के दौरान इसमें 80 फीसदी की कमी आई है। स्व‍िस बैंक की यह सफाई उन मीडिया रिपोट्र्स के बाद आई है, जिनमें कहा जा रहा था कि स्व‍िस बैंक में भारतीयों की जमा राश‍ि 50 फीसदी बढ़ी है।

इसको लेकर बीआईएस ने कहा कि इस डाटा को आम तौर पर गलत तरीके से पेश किया जाता है क्योंकि इसमें कई और लेन-देन भी शामिल होते हैं। बैंक के मुताबिक यहां जमा राशि में नॉन-डिपोजिट लाएब्ल‍िटीज, भारत में स्थ‍ित स्व‍िस बैंकों की शाखाओं का कारोबार भी शामिल होता है। इसमें बैंकों के स्तर पर हुआ लेन-देन भी होता है। इसके अलावा जमा राशि में भरोसेमंद देयता भी शामिल होती है।

बैंक ने स्व‍िस अंबेसडर एंड्र‍ियास बॉम की तरफ से वित्तमंत्री पीयूष गोयल को लिखे पत्र का जिक्र भी किया है। बैंक ने कहा कि पत्र में कहा गया है कि ज्यादातर यही समझा जाता है कि स्व‍िस बैंक में भारतीयों का जो पैसा है, वह काला धन है। पत्र में यह भी बताया गया है कि स्व‍िस बैंकों में अपना पैसा जमा करने वाले लोगों का डाटा बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट्स की तरफ से इक_ा किया जाता है। वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने भी स्व‍िस बैंकों के इन आंकड़ों का जिक्र राज्यसभा में किया। उन्होंने कहा कि स्व‍िस बैंको में जमा होने वाला भारतीयों  का पैसा दुनिया के अलग-अलग हिस्से से जमा होता है। इसमें पूरा धन काला नहीं होता। 

राज्यसभा में वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने जैसे ही स्वीस बैंक के इस पत्र का जिक्र किया इसके तुरंत बाद गोयल के जवाब से खिन्न तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने राज्यसभा में जोरदार हंगामा खड़ा कर दिया। इसके बाद सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी। तृणमूल कांग्रेस के सुखेन्दू शेखर राय ने कहा कि वषज़् 1994 से लेकर 2018 तक केंद्र की विभिन्न सरकारों ने अलग-अलग चार समझौते किये हैं। क्या वित्त मंत्री ये बतायेंगे कि स्विस बैंकों में भारतीयों का कितना काला धन जमा है और सरकार ने कितने मामलों में अब तक कारज़्वाई की है तथा हर नागरिक के खाते में 15 लाख रुपये की राशि कब तक जमा हो जायेगी?

श्री गोयल ने कहा कि लगता है सदस्य के पास सरकार से ज्यादा जानकारी है। यदि सदस्य यह जानकारी सरकार को दे तो इन मामलों में कारज़्वाई की जायेगी। उनके इतना कहते ही श्री राय ने इसका कड़ा प्रतिवाद किया और कहा कि उन पर आरोप लगाया जा रहा है। तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दलों ने भी इसका विरोध किया। तृणमूल के सदस्य आसन के निकट आकर काला धन वापस लाने की मांग करने लगे। 

सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि मंत्री ने किसी पर आरोप नहीं लगाया है और सदस्य अपनी जगहों पर लौट जायें तथा प्रश्नकाल चलने दें। उनकी अपील का असर न होते देख सभापति ने 12 बजकर 35 मिनट पर सदन की कायज़्वाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। इससे प्रश्नकाल पूरा नहीं हो सका। इससे पहले श्री गोयल ने शोर-शराबे में कहा कि सरकार को वर्ष 2014 से लेकर 2018 तक स्विस बैंकों में खातों के बारे में 4,843 जानकारियाँ मिली हैं।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पीवी सिंधू की धमाकेदार शुरुआत, पूर्व चैंपियन यामागुची को दी मात

गुआंगझू (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत की स्टार महिला शटलर पीवी स...

Kapil Sharma Wedding: बारात लेकर कपिल शर्मा पहुंचे क्लब कबाना

जालंधर (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन कपिल शर्मा गिन्नी संग विवाह रचाने के लिए बारात के सा...

top