Monday, December 17,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

विजय साई रेड्डी ने सदन में आचरण पर खेद जताया

Publish Date: July 25 2018 06:27:11pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के राज्यसभा सांसद विजय साई रेड्डी ने बुधवार को सभापति के खिलाफ अपनी टिप्पणी पर खेद जताया। उन्होंने मंगलवार को आंध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम को कथित रूप से अनुचित तरीके से लागू करने पर हो रही संक्षिप्त चर्चा के दौरान सभापति के खिलाफ टिप्पणी की थी। मामले पर बोलने के लिए अधिक समय देने की उनकी मांग को नायडू द्वारा नकारे जाने के बाद रेड्डी ने सभापति के आसन के समीप जाकर गुस्से में उनके पक्षपाती रवैये को लेकर सवाल उठाए थे। बुधवार को सदन शुरू होने के तुरंत बाद खेद व्यक्त करते हुए रेड्डी ने कहा, "मुझे सहजता व स्वेच्छा से कहना चाहिए और मैं यह किसी के अनुरोध या निर्देश पर नहीं कह रहा हूं। मैं कल (मंगलवार) की घटना पर खेद व्यक्त करता हूं।"

उन्होंने कहा, "मैंने मंगलवार को संसदीय कार्य राज्यमंत्री विजय गोयल से मुलाकात की और उन्हें हालात के बारे में विस्तार से बताया, जिन हालातों में यह घटना हुई।" गोयल द्वारा सभापित के खिलाफ की गई टिप्पणी के मुद्दे को उठाए जाने के बाद रेड्डी ने कहा, "यह मुद्दा उनके लिए भावनात्मक रूप से जुड़ा है।" उन्होंने कहा, "मेरी मंशा सभापति का अपमान करने की नहीं थी। मैंने ईमानदारी से सोचा कि मुझे मुद्दे को विस्तार से बताने के लिए पर्याप्त अवसर नहीं दिया गया। मेरी मंशा ऐसा करने की नहीं थी.मैं घटना के लिए माफी मांगता हूं।" गोयल ने बिना नाम लिए कहा कि मंगलवार को आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा दिए के मुद्दे पर चर्चा के दौरान कुछ सदस्यों ने सदन की गरिमा के खिलाफ जाकर शब्दों का इस्तेमाल किया। गोयल ने कहा,"सदन को इसकी निंदा करनी चाहिए और संबंधित सदस्य को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।" सभापति नायडू ने सदस्यों से इस मुद्दे को यहीं समाप्त करने के बारे में कहा, "यह मुद्दा समाप्त हो चुका है और उन्होंने उनसे बहस के दौरान दिए गए समय के मुताबिक चलने को कहा।"

नायडू ने कहा, "मनुष्य ही गलती करता है। हमें इसे यहीं पर भूल जाना चाहिए। मैं हालात से सामना करने में थोड़ी दिक्कत महसूस कर रहा हूं (आवंटित समय से अधिक की मांग)। सभी दलों के वरिष्ठ नेताओं को इस स्थिति से निपटने के तरीकों के बारे में सोचना चाहिए। आपके द्वारा तय किया गया समय और नियम यहां है और सभापति को आवंटित समय का पालन करना चाहिए। सभी को इसमें सहयोग करना चाहिए।" उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का उदाहरण दिया, जो कुछ मिनटों में प्रभावी रूप से अपनी बात कह देते थे। नायडू ने सभी को उनके जैसा तरीका अपनाने को कहा। नायडू ने कहा, "उन्हें रुकने और बैठने के लिए कहना मेरे लिए दुखदायी होता है।" उन्होंने कहा कि विजयसाई रेड्डी को सात मिनट दिए गए थे, जो कि तय चार मिनट से तीन मिनट ज्यादा थे। रेड्डी ने सवाल उठाया था कि उन्हें तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के मुकाबले कम समय क्यों दिया गया। वाईएसआर कांग्रेस के सदन में दो सदस्य हैं जबकि तेदेपा के पास छह सदस्य हैं।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


मां नयनादेवी के दरबार में पहुंचीं रवीना टंडन  

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन आज मां नयनादेवी के दर्शनों ...

top