Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

उपन्यास 'मीशा' पर रोक लगाने की मांग, याचिका पर सुनवाई वीरवार को

Publish Date: August 01 2018 03:19:05pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)  सर्वोच्च न्यायालय गुरुवार को मलयालम उपन्यास 'मीशा' एक के भाग पर रोक लगाने की याचिका पर सुनवाई करेगा। 'मीशा' के क्रमबद्ध मलयालम साप्ताहिक प्रकाशन को लेखक ने संदिग्ध दक्षिणपंथी संगठनों की ओर से धमकी मिलने के बाद बंद कर दिया था।

याचिका उपन्यास में कथित तौर पर महिलाओं पर अपमानजनक सामग्री के खिलाफ दी गई है। याचिका में कहा गया कि इससे महिलाओं की भावनाएं आहत हो सकती हैं। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली एक खंडपीठ ने मामले पर गुरुवार को सुनवाई किए जाने पर सहमति जताई। खंडपीठ ने यह सहमति वकील ऊषा नंदानी द्वारा बुधवार को मामले पर जल्द सुनवाई किए जाने का उल्लेख करने के बाद दी।

याचिकाकर्ता राधाकृष्णन ने उपन्यास के इस हिस्से के प्रकाशन या इंटरनेट पर प्रसारित होने पर रोक लगाने की मांग की है। केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता लेखक एस. हरीश द्वारा लिखित उनका पहला उपन्यास 'मीशा' बुधवार को औपचारिक रूप से विमोचन के लिए तैयार है।

हरीश ने कहा कि यह सब संदिग्ध दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं के अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट करने के बाद शुरू हुआ जिसमें दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने उनके उपन्यास में हिंदू धर्म का अपमान होने की बात लिखी थी।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पीवी सिंधू की धमाकेदार शुरुआत, पूर्व चैंपियन यामागुची को दी मात

गुआंगझू (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत की स्टार महिला शटलर पीवी स...

Kapil Sharma Wedding: बारात लेकर कपिल शर्मा पहुंचे क्लब कबाना

जालंधर (उत्तम हिन्दू न्यूज): कॉमेडियन कपिल शर्मा गिन्नी संग विवाह रचाने के लिए बारात के सा...

top