Tuesday, December 18,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

पॉलिथीन बैन पर डिप्रेशन में था व्यापारी, झील में कूद कर दी जान 

Publish Date: August 03 2018 02:39:08pm

नागपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : महाराष्ट्र सरकार के प्लास्टिक बैन का फैसला लागू होने के बाद एक व्यापारी ने आत्महत्या कर ली है। इस मामले में यह आत्महत्या का पहला मामला है। नागपुर के कश्मीरी लेन में रहने वाले 51 साल के नरेश तोलानी ने 29 जुलाई की देर रात गांधीसागर झील से छलांग लगाकर जान दे दी। उनकी पत्नी दिव्या को उस रात पलक झपकने का अफसोस है और वह यह कहते हुए बार-बार रो पड़ती हैं। 

दिव्या ने बताया कि उनके पति प्लास्टिक बैन की वजह से डिप्रेशन में थे और कई रातों से सोए नहीं थे। उस रात भी दंपती निराश-हताश थे लेकिन पत्नी दिव्या को नींद आ गई। सुबह जब साढ़े चार बजे के आसपास उनकी नींद खुली को देखा पति नरेश बिस्तर पर नहीं हैं। नरेश के बेटे सुमित ने आनन-फानन में पिता को ढूंढना शुरू किया। वह दौड़ते हुए गांधीसागर झील पहुंचे। जहां एक मॉर्निंग वॉकर ने बताया कि उसने किसी शख्स को झील से छलांग लगाते हुए देखा है। झील के पास से ही सूइसाइड नोट भी बरामद हुआ। प्लास्टिक व्यापारी ने अपने सूइसाइड नोट में लिखा है कि मैं प्लास्टिक बंदी की वजह से तंग आ गया हूं। मेरी जान का जिम्मेदार मैं स्वयं हूं। इसके बाद सुमित ने भी पिता को ढूंढने के लिए झील में छलांग लगा दी। काफी मशक्कत के बाद सुमित को पिता की लाश मिली। 

उन्होंने अपने परिवार की जिम्मेदारी लेने की गुजारिश भी की। नरेश राज्य के पहले ऐसे शख्स हैं जिन्होंने प्लास्टिक बैन के चलते अपनी जान ले ली। पिछले 30 साल से नरेश केवल प्लास्टिक बैग रिटेल का बिजनस कर रहे थे। वह मैन्युफेक्चरर और होलसेलर से प्लास्टिक बैग खरीदते थे और दुकान-दुकान जाकर बेचते थे। मार्च के महीने में राज्य में प्लास्टिक बैन की घोषणा होने के बाद उनके बिजनस की डिमांड और सप्लाई कम होने लगी। दिव्या ने बताया, पूरे मार्किट में हलचल मच गई। जुमार्ने के डर से कोई दुकानदार प्लास्टिक बैग लेने को तैयार नहीं था और इस वजह से मेरे पति की रातें बेचैन होने लगीं।

20 साल के सुमित के लिए उनके पापा जल्दी हार मानने वालों में नहीं थे। वह एक जुझारू मध्यम वर्गीय शख्स थे जिन्होंने बैन घोषणा के बाद अपने 30 साल पुराने बिजनस का विकल्प ढूंढने का प्रयास किया और उसके लिए उन्हें मात्र 3 महीने की डेडलाइन मिली थी। परिवार में आर्थिक तंगी इतनी थी कि सुमित ने कॉलेज छोड़ दिया था और बहन लीना को भी कुछ दूसरे मामलों में समझौता करना पड़ा। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ये थी श्रीदेवी की आखिरी इच्छा. पति बोनी कपूर करेंगे पूरी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): बॉलीवुड फिल्मकार बोनी कपूर अपनी प...

top