Monday, December 10,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

NRI को प्रॉक्सी वोटिंग का अधिकार दिलाने वाला विधेयक लोकसभा में पारित

Publish Date: August 09 2018 07:50:40pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): प्रवासी भारतीयों को ‘प्राॅक्सी’ मतदान की सुविधा देने वाले जनप्रतिनिधित्व संशोधन विधेयक 2017 को लोकसभा ने आज ध्वनिमत से पारित कर दिया। सदन में इस विधेयक पर संक्षिप्त चर्चा का उत्तर देते हुए विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संविधान बनाते समय हमारे पूर्वजों ने जाति, धर्म, वर्ग, शिक्षा और आजीविका का ख्याल किये बिना हर हिन्दुस्तानी को वोट का अधिकार दिया था। सत्तर साल पहले आम हिन्दुस्तानी पर भरोसा किया गया था तो आज हम प्रवासी भारतीयों पर भरोसा क्यों नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में प्रवासी भारतीयों की संख्या तीन करोड़ दस लाख के आसपास है। लोगों को समझना चाहिए कि मॉरीशस, ट्रिनीडाड एंड टुबैगो के प्रधानमंत्री भारत से मज़दूरी करने गये लोगों की संतानें हैं। प्रवासी भारतीयों के योगदान काे मान देना होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जब दुबई गये थे तो मज़दूरों की कैंटीन में खाना खाया जिससे उनका सम्मान बढ़ गया। 

प्रसाद ने कहा कि प्रवासी भारतीयों ने विदेशी धरती पर अरबों की संपत्ति अर्जित की, लेकिन अपना पासपोर्ट भारतीय ही रखा। उन्होंने कहा कि फरवरी 2011 में कांग्रेस नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने जन प्रतिनिधित्व कानून में संशोधन करके प्रवासी भारतीयों को वोट देने का अधिकार दिया था, जबकि अब उन्हें प्रॉक्सी के जरिये मतदान का अधिकार दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि भारत में अधिकतर वक्त चुनाव चलते रहते हैं। कभी विधानसभा, कभी लोकसभा या कभी स्थानीय निकायों के चुनाव होते हैं। उन्होंने प्रॉक्सी वोटिंग का विरोध करने वालों को जवाब देते हुए कहा कि प्रॉक्सी शब्द कोई गंदा शब्द नहीं है। काॅरपोरेट जगत में बोर्ड या शेयरधारकों की बैठकों में प्रॉक्सी भागीदारी और वोटिंग का चलन आम है। हमें प्रवासी भारतीयों की बुद्धिमत्ता पर भरोसा करना चाहिए। 

प्रवासी भारतीयों के वोटों को खरीदे जाने की आशंकाओं को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि प्रवासी भारतीयों ने अपनी मेहनत से दौलत कमाई है। उन्हें वाेट बेचने की जरूरत नहीं है। प्रॉक्सी की बजाय ई-वोटिंग का अधिकार दिये जाने की मांग पर उन्होंने कहा कि दुनिया में ई-वोटिंग की प्रणाली कहीं भी शत-प्रतिशत सुरक्षित नहीं है। उसके डाटा चोरी होने या गोपनीयता भंग होने की आशंका बनी रहती है। प्रॉक्सी में वोटर को उसके किसी रिश्तेदार को ही वोट देने का अधिकार मिलेगा। प्रसाद ने सांसदों के सुझावों एवं आपत्तियों का नियमावली में पूरा-पूरा ख्याल रखने का आश्वासन दिया। इसके बाद सदन ने ध्वनिमत से विधेयक को पारित कर दिया।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top