Thursday, December 13,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

वामपंथी वटवृक्ष की जड़ सोमनाथ चटर्जी ने नहीं तोड़े उसूल

Publish Date: August 13 2018 11:36:16am

कोलकाता (उत्तम हिन्दू न्यूज) : वामपंथी वटवृक्ष की जड़ रहे सोमनाथ चटर्जी ने राजनीति में कभी अपने उसूलों से समझौता नहीं किया और संसदीय लोकतंत्र की मजबूती उनकी पहली प्राथमिकता रही। 25 जुलाई 1929 को असम के तेजपुर में जन्मे चटर्जी ने जीसस कालेज से स्नातक और स्नातकोत्तर की पढ़ाई की। राजनीति में प्रवेश से पूर्व वह कलकत्ता उच्च न्यायालय में एक अधिवक्ता के रूप में प्रैक्टिस करते रहे। 1968 में वह माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) में शामिल हुए। पहली बार उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप माकपा के सहयोग से लोकसभा चुनाव लड़ा और सांसद निर्वाचित हुए।चटर्जी ने नौ बार चुनाव जीता , हालांकि 1984 में जाधवुर संसदीय सीट से सुश्री ममता बनर्जी के हाथों चुनाव हार गये। 1989 से 2004 तक वह लोकसभा में अपनी पार्टी के नेता रहे। वह बतौर सांसद दसवीं बार 2004 में बोलपुर संसदीय सीट से निर्वाचित हुए।

चार जून 2004 में चटर्जी सर्वसम्मति से 14वीं लोकसभा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और 2009 तक इस पद पर रहे। 2008 में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने जब अमेरिका के साथ परमाणु समझौता किया तो माकपा ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया था औरचटर्जी से लोकसभा अध्यक्ष का पद छोडऩे को कहा , लेकिनचटर्जी ने यह कहते हुए पद से हटने से इंकार कर दिया था कि लोकसभा अध्यक्ष के रूप में वह किसी पार्टी के साथ नहीं है। उसके बाद माकपा ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था। पिछले 10 साल से वह राजनीति से अलहदा रहे।
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


IND vs AUS: पर्थ टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान, अश्विन और रोहित बाहर

पर्थ (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत के स्टार ऑफ स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन और बल्लेबाज रोह...

शादी के बंधन में बंधे ईशा अंबानी और आनंद पीरामल, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): जाने माने बिजनेसमैन मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी ने आनं...

top