Tuesday, December 11,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

ऐसे थे दक्षिणपंथी पिता की वामपंथी संतान सोमनाथ चटर्जी, जानिए पूरी कहानी

Publish Date: August 13 2018 11:36:34am

कोलकाता (उत्तम हिन्दू न्यूज) : लोकसभा के पूर्व स्पीकर और पश्चिम बंगाल के कद्दाबर नेता सोमनाथ चटर्जी का आज तड़के निधन हो गया। चटर्जी 89 वर्ष के थे और किटनी की बीमारी से परेशान थे। उनके बारे में कई ऐसी बात है जो उन्हें अन्य साम्यवादी नेताओं से अलग करता है। वे एक हिंदूवादी पिता की संतान थे। सोमनाथ चटर्जी कैसे बने कट्टर कम्युनिस्ट यह विश£ेषण का विषय है। तो आइए जानते  हैं कद्दाबर सम्यवादी नेता सोमनाथ की इनसाइड स्टोरी।

Related image

सोमनाथ चटर्जी भारतीय राजनीति की एक विशेष हस्ती थे। वह मशहूर वकील और हिंदू महासभा के संस्थापक अध्यक्ष निर्मलचंद्र चटर्जी के पुत्र थे। सोमनाथ चटर्जी लोकसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं। एक बार सोमनाथ चटर्जी लोकसभा में बीजेपी के खिलाफ कुछ बोल रहे थे। इस पर सुषमा स्वराज ने टोकते हुए कहा कि चटर्जी साहब, आप याद रखें कि आपके पिताजी ने आपका नाम सोमनाथ रखा था जिस नाम का मशहूर मंदिर है इस देश में। इस पर उस समय थोड़ी देर के लिए ऐसा लगा कि सोमनाथजी का बीजेपी के प्रति रोष थोड़ा कम हो गया।

Image result for Such a right-wing fathers left child Somnath Chatterjee,

याद रहे कि आम तौर पर सीपीएम के किसी नेता का भाषण बीजेपी की आलोचना के बिना पूरा नहीं होता। यह तो हुआ नाम और पार्टी में विरोधाभास। पर एक समय उनके पिताश्री निर्मल चंद्र चटर्जी ने तो और भी कमाल कर किया था। दिवंगत चटर्जी अखिल भारतीय हिंदू महासभा के संस्थापक अध्यक्ष थे। फिर भी उन्होंने कम्युनिस्टों की रिहाई के लिए अभियान चलाया था। कहां हिंदू महासभा और कहां कम्युनिस्ट, दो छोर एक जगह मिले थे। पर सवाल नागरिकों के अधिकार का था। 

 

Related image

सन् 1948 में जब केंद्र सरकार ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी पर प्रतिबंध लगाया और कम्युनिस्टों को गिरफ्तार करना शुरू किया तो उसका विरोध करने के लिए एनसी चटर्जी ने ऑल इंडिया सिविल लिबर्टी यूनियन बना ली।  सीनियर चटर्जी, तब कोलकाता हाईकोर्ट के नामी वकील थे। यूनियन के जरिए उन्होंने कम्युनिस्टों की रिहाई के लिए जोरदार अभियान चलाया। उसी दौरान ज्योति बसु का इस चटर्जी परिवार से लगाव बढ़ा और सामनाथ चटर्जी का झुकाव साम्यवाद की ओर हुआ।

Image result for Somnath Chatterjee,

सोमनाथ चटर्जी सन 1968 में सीपीएम के सदस्य बने। ज्योति बसु का सोमनाथ चटर्जी पर स्नेह बना रहा। जब सोमनाथ चटर्जी ने लोकसभा के स्पीकर पद से इस्तीफा देने के पार्टी के निर्देश को मानने से इनकार कर दिया तो पॉलित ब्यूरो ने 2008 में सोमनाथ जी को सीपीएम से निकाल दिया। याद रहे कि भारत-अमेरिका न्यूक्लियर समझौता विधेयक के विरोध में सीपीएम ने मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। तब पार्टी ने उन्हें स्पीकर पद छोडऩे को कहा लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

पद नहीं छोडऩे के चटर्जी साहब के अपने तर्क थे। याद रहे कि वह दस बार लोकसभा के सदस्य चुने गये थे। वह संभवत: स्पीकर के पद को वह ऐसा नहीं मानते थे जिस पर किसी पार्टी का आदेश चले। सोमनाथ सिर्फ एक बार 1984 के लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी से हारे थे। कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में ममता बनर्जी ने सोमनाथ चटर्जी को जादवपुर लोकसभा चुनाव क्षेत्र में करीब 20 हजार मतों से पराजीत कर दिया था। सन् 2009 में सोमनाथ का चुनाव क्षेत्र बोलपुर कर दिया गया। वहां भी वे जीते और सांसद बने। 

Related image

सोमनाथ चटर्जी को भले पार्टी ने  निकाल दिया, पर उनका सीपीएम से भावनात्मक संबंध बना रहा। एक बार उन्होंने कहा था कि मेरी इच्छा है कि मेरी अंतिम यात्रा लाल झंडे के साथ ही पूरी हो। जानकार सूत्रों के अनुसार कुछ औपचारिकताएं पूरी नहीं होने के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है। इस देश की राजनीति के लिए वह एक बड़ा यादगार क्षण था जब लोकसभा में सुप्रीम कोर्ट के जज वी.रामास्वामी के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पेश किया जा रहा था। 

10 मई, 1993 को वह प्रस्ताव सोमनाथ चटर्जी ने ही  पेश किया था। उन्होंने सदन से मांग की कि न्यायपालिका की गरिमा की रक्षा के लिए रामास्वामी के खिलाफ सदन कार्रवाई करे। यह और बात है कि सदन में वह प्रस्ताव पास नहीं हो सका क्योंकि सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी ने मतदान का बहिष्कार कर दिया। सोमनाथ चटर्जी का जन्म असम के तेजपुर में 25 जुलाई, 1929 को हुआ था। उनकी पढ़ाई कोलकाता और कैम्ब्रिज में हुई। श्रमिक नेता और वकील सोमनाथ प्रभावशाली वक्ता और कर्मठ कार्यकत्र्ता थे। वह 1989 से 2004 तक लोकसभा में सीपीएम संसदीय दल के नेता रहे। 2004 में वह सर्वसम्मति से लोक सभा के स्पीकर चुने गए थे, पर पार्टी से मतभेद के कारण वह 2008 में दल से निकाल दिए गए।

Related image

सोमनाथ चटर्जी की शादी 1950 में जमींदार परिवार की रेणु से हुई। उनके एक पुत्र और दो पुत्रियां हैं। पुत्र प्रताप चटर्जी कोलकाता हाईकोर्ट में वकील हैं। सर्वश्रेष्ठ सांसद रहे सोमनाथ चटर्जी पश्चिम बंगाल औद्योगिक विकास निगम के अध्यक्ष भी रहे। उस दौरान उन्होंने पश्चिम  बंगाल में उद्योग लगाने की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जब वह सरकारी कामों से विदेश जाते थे तो उनके साथ गए अपने परिजन का पूरा खर्च सोमनाथ अपनी जेब से देते थे। स्पीकर की जिम्मेदारी संभालते समय भी उन्होंने अपने सरकारी आवास पर पहले से हो रहे कुछ गैर जरूरी सरकारी खर्चों में कटौती कर दी थी। तो ऐसे थे एक दक्षिणपंथी पिता के वामपंथी संतान सोमनाथ। 

Image result for Somnath Chatterjee,

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top