Monday, December 17,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

हर सभा में संबोधन से पहले जानिए क्या खाते थे अटल बिहारी वाजपेयी

Publish Date: August 16 2018 02:00:46pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): अटल बिहारी वाजपेयी ने 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के साथ अपना राजनीतिक सफर शुरू किया था। लखनऊ की लोकसभा सीट से वह 1991, 1996, 1999 और 2004 में सांसद चुने गए। साथ ही 16 मई से 1 जून 1996 और फिर 19 मार्च 1998 से 22 मई 2004 के बीच भारत के प्रधानमंत्री भी रहे। अटल का जन्म साल 1924 में हुआ था। अाज वह एम्स में जिंदगी और मौत से जूझ रहे है। अटल बिहारी वाजपेयी बेहद मिलनसार रहे है। अटल जी के तीन दशक तक 'सारथी' रहे प्रदीप भार्गव ने कुछ दिलचस्प किस्से बताए जिसे आप जरुर जानना चाहेंगे। 

प्रदीप भार्गव ने बताया कि वह अटल जी को लखनऊ में वोट दिलाने के लिए ले जाया करते थे। प्रदीप ने बताया, वीआईपी होने के बावजूद भी वाजपेयी जी हमेशा लाइन में खड़े होकर वोट डालते थे। वह अपनी हर सभा को संबोधित करने से पहले मिश्री खाया करते थे। वह बेहद मिलनसार थे और रास्ते में खड़े लोगों से रुक-रुक कर मिला करते थे।

उन्‍होंने कहा, 'जब पहली बार वह लखनऊ में चुनाव लड़ने के लिए आए तो वह हमारे पास आए और मेरे पिता से कहा कि वह मेरे लिए क्‍या कर सकते हैं? इस पर मेरे पिता ने उनसे कहा कि उनके पास देने के लिए दो चीजें हैं। पहली मेरी कार और दूसरी मेरा बेटा। उस समय मैं 25 साल का था। अटलजी अक्‍सर मुझे सारथी बुलाते थे।' पूर्व प्रधानमंत्री और प्रदीप भार्गव का यह साथ अगले तीन दशक तक बना रहा। 
 
बता दें कि वाजपेयी अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हैं। उनकी स्थिति बेहद गंभीर है और उन्हें जीवन रक्षक प्रणालियों पर रखा गया है। एम्स ने वाजपेयी की सेहत को लेकर नया हेल्थ अपडेट जारी किया है। इस अपडेट में बताया गया है कि उनकी हालत पहले की तरह ही बनी हुई है।  

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


मां नयनादेवी के दरबार में पहुंचीं रवीना टंडन  

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन आज मां नयनादेवी के दर्शनों ...

top