Tuesday, December 18,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी, देश भर में शोक की लहर 

Publish Date: August 16 2018 05:43:03pm

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज़) : भारत के पूर्व लोकप्रिय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आज नई दिल्ली स्थित एम्स हॉस्पिटल में लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे। काफी दिनों से बीमार चल रहे वाजपेयी कुछ समय से अस्पताल में भर्ती थे। वाजपेयी न सिर्फ अपनी बल्कि विपक्षी पार्टियों में भी सम्मान रखते थे । उनके नेतृत्व में ही भारत ने परमाणु मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। उनके द्वारा दिए गए भाषण आज भी युवा पीढ़ी द्वारा सुने जाते हैं। उनके निधन की खबर सुनते ही देश-विदेश में रहने वाले उनके समर्थकों में मायूसी छा गयी है। 

वाजपेयी को गुर्दे में संक्रमण, मूत्र नली में संक्रमण, पेशाब की मात्रा कम और सीने में जकडऩ की शिकायत के बाद 11 जून को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, दिल्ली (एम्स) में भर्ती कराया गया था। अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म: 25 दिसंबर, 1924 में हुआ था। वे पहले 1996 तथा फिर 1998 से 2004 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। वे हिन्दी कवि, पत्रकार व प्रखर वक्ता भी रहे। वे भारतीय जनसंघ की स्थापना करने वाले महापुरुषों में से एक थे और उसके अध्यक्ष भी रहे। वे जीवन भर भारतीय राजनीति में सक्रिय रहे। उन्होंने लम्बे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन भी किया। उन्होंने अपना जीवन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के रूप में आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लेकर प्रारम्भ किया था और देश के सर्वोच्च पद पर पहुँचने तक उस संकल्प को पूरी निष्ठा से निभाया। वाजपेयी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पहले प्रधानमन्त्री थे जिन्होंने गैर काँग्रेसी प्रधानमन्त्री पद के 5 साल बिना किसी समस्या के पूरे किए। उन्होंने 24 दलों के गठबंधन से सरकार बनाई थी जिसमें 81 मन्त्री थे। कभी किसी दल ने आनाकानी नहीं की। इससे उनकी नेतृत्व क्षमता का पता चलता है। सम्प्रति वे राजनीति से संन्यास ले चुके हैं और नई दिल्ली में 6-ए कृष्णामेनन मार्ग स्थित सरकारी आवास में रहते थे।

उत्तर प्रदेश में आगरा जनपद के प्राचीन स्थान बटेश्वर के मूल निवासी पण्डित कृष्ण बिहारी वाजपेयी मध्य प्रदेश की ग्वालियर रियासत में अध्यापक थे। वहीं शिन्दे की छावनी में 25 दिसम्बर 1924 को ब्रह्ममुहूर्त में उनकी सहधर्मिणी कृष्णा वाजपेयी की कोख से अटल जी का जन्म हुआ था। पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी ग्वालियर में अध्यापन कार्य तो करते ही थे इसके अतिरिक्त वे हिन्दी व ब्रज भाषा के सिद्धहस्त कवि भी थे। पुत्र में काव्य के गुण वंशानुगत परिपाटी से प्राप्त हुए। महात्मा रामचन्द्र वीर द्वारा रचित अमर कृति "विजय पताका" पढकर अटल जी के जीवन की दिशा ही बदल गयी। अटल जी की बीए की शिक्षा ग्वालियर के विक्टोरिया कालेज (वर्तमान में लक्ष्मीबाई कालेज) में हुई। छात्र जीवन से वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बने और तभी से राष्ट्रीय स्तर की वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहे। कानपुर के डीएवी कालेज से राजनीति शास्त्र में एमए की परीक्षा प्रथम श्रेणीमें उत्तीर्ण की। उसके बाद उन्होंने अपने पिताजी के साथ-साथ कानपुर में ही एलएलबी की पढ़ाई भी प्रारम्भ की लेकिन उसे बीच में ही विराम देकर पूरी निष्ठा से संघ के कार्य में जुट गये। डॉ॰ श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के निर्देशन में राजनीति का पाठ तो पढ़ा ही, साथ-साथ पाञ्चजन्य, राष्ट्रधर्म, दैनिक स्वदेश और वीर अर्जुन जैसे पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादन का कार्य भी कुशलता पूर्वक करते रहे। सर्वतोमुखी विकास के लिये किये गये योगदान तथा असाधारण कार्यों के लिये 2014 दिसंबर में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

Image result for ATAL BIHARI PASSED AWAY

Image result for ATAL BIHARI PASSED AWAY

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


बेस प्राइज एक करोड़ में ही बिके युवराज सिंह, पहली बार मुंबई के लिए खेलेंगे 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : एक समय में अपनी शानदार बल्ले...

दिलीप कुमार को धमकाने वाला बिल्डर जेल से छूटा, सायरा बानो ने पीएम मोदी से फिर मांगी मदद

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : अपने जमाने के मशहूर एक्टर दिलीप ...

top