Monday, December 10,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

राजस्थान के बारह जिलों में अभी भी बारिश की कमी

Publish Date: August 16 2018 06:47:24pm

जयपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): राजस्थान में औसत सामान्य वर्षा होने के बावजूद अभी भी बारह जिलों में बारिश की कमी बनी हुई हैं और जिससे किसानों की चिंता बढ़ती जा रही हैं। जल संसाधन विभाग के अनुसार राज्य में गत एक जून से अब तक सामान्य बरसात हो चुकी है लेकिन राज्य के अजमेर, बांसवाड़ा, बाड़मेर, बूंदी, दौसा, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जालौर, जोधपुर, पाली, सिरोही, तथा टोंक जिलों में अभी भी बरसात की कमी बनी हुई हैं। राज्य में इस दौरान सामान्य 35.69 मिलीमीटर के मुकाबले 31.59 मिलीमीटर वर्षा हुई जो सामान्य से 10.6 प्रतिशत कम हैं लेकिन सामान्य आंकड़े से 19 प्रतिशत कम सामान्य वर्षा मानी जाती हैं।
 
प्रदेश में इस दौरान सिरोही जिले में सर्वाधिक सामान्य से 57़8 प्रतिशत बारिश की कमी बनी हुई हैं जबकि जालोर में 53, बाड़मेर में 47, बूंदी में 39़5 टोंक में 33़4 एवं पाली में 30़8 प्रतिशत तक बरसात की कमी बनी हुई हैं। राज्य में इस दौरान तीन जिले भरतपुर, बीकानेर एवं सीकर ऐसे हैं जहां सामान्य से अधिक बारिश हुई हैं जबकि अठारह जिलों अलवर, बारां, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ, चुरु, धौलपुर, डूंगरपुर, गंगानगर, जयपुर, झालावाड़, झुंझुनूं, करौली, कोटा, नागौर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सवाईमाधोपुर तथा उदयपुर में सामान्य बरसात हो चुकी हैं। इस दौरान पिछले वर्ष केवल आठ जिलों में ही सामान्य वर्षा हुई तथा छह जिलों में असामान्य तथा इतने ही जिलों में सामान्य से अधिक बारिश दर्ज की गई। 

इस दौरान राज्य के छोटे बड़े 831 बांध में 55 बांध लबालब हो चुके हैं तथा 407 बांध आंशिक भर चुके हैं जबकि 369 बांध अभी भी खाली हैं। इस दौरान राजधानी जयपुर सहित कई क्षेत्रों को पेयजल आपूर्ति करने वाला टोंक जिले का बिसलपुर बांध में भी जल स्तर आगे नहीं बढ़ पा रहा है। गुरुवार को उसका जलस्तर भराव क्षमता 315़50 मीटर की तुलना में 309़10 मीटर दर्ज किया। राज्य के बांधों की भराव क्षमता 12902़ 45 एमक्यूएम की तुलना में अब तक भराव स्तर 5795़26 एमक्यूएम तक पहुंचा हैं जो भराव क्षमता का 44़ 92 प्रतिशत हैं। गत पन्द्रह जून को इन बांधों में 4010़70 एमक्यूएम पानी था जो भराव क्षमता का 31़ 08 प्रतिशत था। गत वर्ष एक जून से सोलह अगस्त तक इन बांधों 8099़13 एमक्यूएम पानी था जो भराव क्षमता का 62़ 77 प्रतिशत था।

उल्लेखनीय है कि राज्य में बारह दिन देरी से गत 27 जून को आया मानसून शीघ्र ही फीका पड़ गया और करीब महीने भर बाद पिछले सप्ताह के शुरु में फिर सक्रिय हुआ लेकिन बारिश का दौर धीमा रहने से जहां अभी बारह जिलों में बरसात की कमी बनी हुई वहीं कई जिलों में भी फसल को बारिश की जरुरत महसूस होने लगी है जिससे किसानों की चिंता बढ़ने लगी हैं। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


ऋषभ पंत ने रचा इतिहास, ये कारनामा करने वाले पहले विदेशी विकेटकीपर बने 

एडिलेड (उत्तम हिन्दू न्यूज): एडिलेड ओवल मैदान पर जहां एक ओर भ...

'मर्दानी 2' में नजर आएंगी रानी मुखर्जी

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): अभिनेत्री रानी मुखर्जी फिल्म '...

top