Sunday, December 16,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

मुस्लिम से हिन्दू बन प्रेमिका से रचाई शादी, संग रहने के लिए कोर्ट से मांगी मदद

Publish Date: August 18 2018 09:45:59am

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : सुप्रीम कोर्ट में एक हादिया मामला जैसा ही एक केस आया है। इस केस में मुस्लिम युवक ने दक्षिणपंथी संगठन के साथ ही साथ लड़की के माता-पिता पर उसकी पत्नी को उससे अलग करने का अरोप लगाया है। बीते दिन शुक्रवार को 33 साल के मुस्लिम शख्स ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए कहा कि उसने हिंदू जैन लड़की से शादी करने के लिए हिंदू धर्म अपनाया था लेकिन अब लड़की के माता-पिता और एक हिंदू दक्षिणपंथी समूह ने उन दोनों को जबरन अलग कर दिया है। 

याचिकाकर्ता मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी उर्फ आर्यन आर्य ने अपने वकील निखिल नैय्यर के जरिए सुप्रीम कोर्ट को बताया कि लड़की उसके साथ रहना चाहती है लेकिन उसके मां-बाप उसे लेकर चले गए जबकि याचिकाकर्ता ने धर्म परिवर्तन कर लिया है। कोर्ट उसे पेश कर सकती है और उसकी स्वतंत्र इच्छा के बारे में पूछ सकती है। कोर्ट ने छत्तीसगढ़ के धमतरी (जहां लड़की रहती है) के एसपी को 27 अगस्त को लड़की को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है। 

कोर्ट ने चेतावनी देते हुए कहा, यदि लड़की आपकी याचिका का समर्थन नहीं करती है तो आपकी याचिका को खारिज कर दिया जाएगा। याचिकाकर्ता का कहना है कि वह पांच सालों से लड़की को जानता है और पिछले 2-3 सालों से उससे प्यार करता है। जनवरी में लड़की रायपुर के प्रोफेशनल स्कूल में शामिल हुई। जब उन्होंने शादी करने का निर्णय लिया तो शख्स ने 23 फरवरी को धर्म परिवर्तन करा लिया और अपना नाम बदलकर आर्यन आर्य रख लिया।

धर्म परिवर्तन से पहले उन्होंने रायपुर के आर्य समाज मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज और परंपरा के अनुसार शादी की थी। हालांकि लड़की ने अपने परिवार से शादी की बात को छुपाए रखा और इसका खुलासा करने के लिए सही समय का इंतजार करने लगी। 22 मार्च को शादी पंजीकृत हुई और रायपुर नगर निगम ने 17 अप्रैल को शादी का सर्टिफिकेट जारी किया। जून में लड़की के माता-पिता को शादी के बारे में पता चला। चूंकि जोड़े को यह शक था कि लड़की के माता-पिता उन्हें साथ नहीं रहने देंगे क्योंकि लड़का मुस्लिम था, इसी वजह से उसने फैसला किया कि वह बिना उन्हें बताए अपने पति के घर चली जाएगी।

लड़की 30 जून को अपने घर से जा रही थी लेकिन एक महिला पुलिसकर्मी ने उसे पकड़ लिया और उसे पुलिस स्टेशन ले गई जहां से उसे नारी निकेतन भेज दिया गया है। याचिकाकर्ता ने दावा किया है कि लड़की के प्रभावशाली पिता की वजह से पुलिस ने एक झूठा बयान दर्ज किया। जिसमें लिखा है कि वह अपने माता-पिता के पास वापस जाना चाहती है और उसकी कस्टडी उन्हें सौंप दी जाए। आर्यन का कहना है कि उसे तब से एक दक्षिणपंथी हिंदू समूह से अपनी जान को खतरा है। 
 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


पीवी सिंधु ने रचा इतिहास, वर्ल्ड टूर फाइनल्स खिताब जीतने वाली पहली भारतीय बनीं  

ग्वांगझू (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत की दिग्गज बैडमिंटन खिलाड...

#MeToo की चिंगारी भड़काने वाली तनुश्री लौटेंगी अमेरिका, अपने बारे में किया बड़ा खुलासा 

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज) : भारत में मीटू की चिंगारी भड़काने...

top