Wednesday, December 19,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रीय

आतंकी बने MBA छात्र की मां का छलका दर्द, कहा- जिंदगी नासूर न बनाओ, लौट आओ

Publish Date: September 04 2018 07:36:46pm

श्रीनगर (उत्तम हिन्दू न्यूज) : कश्मीर घाटी में पढ़ाई छोड़कर बंदूक थामने वाले एमबीए छात्र हारुन अब्बास वानी के परिवार ने उससे घर वापसी की मार्मिक अपील की है। जम्मू-कश्मीर स्थित डोडा जिले के रहने वाला हारुन हाल ही में 1 सितंबर को आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ था। उसने एके-47 के साथ खींची गई तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकी बनने की घोषणा की थी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि ए के- 47 राइफल के साथ सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल होने के बाद परिजनों को बेटे का आतंकवादी संगठन में शामिल होने की जानकारी मिली। उन्होंने बेटे से हिंसा का रास्ता छोड़कर घर लौट आने की अपील की है।  

हारुन के पिता गुलाम अब्बास वानी और मां शमीमा बेगम ने उससे घर लौटने की अपील की है। शमीमा ने वीडियो संदेश में कहा, तुम ने पूरे परिवार को मुश्किल में डाल दिया है। मैं कई बीमारियों से ग्रस्त हूं, ऐसे में हम कैसे जिंदा रहें। हारुन के चाचा फारुक अहमद वानी ने कहा, वह बाजार में थे, तभी किसी रिश्तेदार ने वायरल हो रही तस्वीर को व्हाट्सएप पर भेजकर जानकारी मांगी। तस्वीर देख कर मैं चौंक गया और इस प्रकार हमें हारुन के आतंकी बनने की जानकारी मिली। उन्होंने कहा, वह अधिकतर समय बाहर रहता था। इसलिए पता नहीं किसके संपर्क में आने के बाद उसने यह कदम उठाया। लेकिन हारुन की मां, परिवार और पूरा गांव चाहता है कि वह हिंसा का रास्ता छोड़ अपने भविष्य को संवारे। 

चाची ने एक वीडियो संदेश में कहा कि असली जेहाद बुजुर्ग मां-बाप की सेवा है। हम तुम्हारे कृत्य से शर्मिंदा है। तुम्हारे मां-बाप बीमार पड़ गए हैं और उन्हें तुम्हारी सख्त जरूरत है। उन्होंने कहा, जेहाद की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि हम खुश है। गौरतलब है कि हारुण चार भाई-बहनों में सबसे छोटा है। परिवार की गिनती डोडा के संभ्रात लोगों में होती है। मां शमीमा ने बताया कि हारुन पढ़ने में बहुत अच्छा है और श्री माता वैष्णो देवी यूनिवर्सिटी से बेहतर अंकों के साथ एमबीए की पढ़ाई की है। कोर्स करने के बाद उसके पास नौकरी के कई प्रस्ताव आए थे। मौजूदा समय में वह एक फार्मेसी कंपनी में काम कर रहा था। 

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। वह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि हारुन आतंकी संगठन में शामिल हुआ है या नहीं। सेना ने भी हारुन से हिंसा छोड़ने की अपील की है। डेल्टा फोर्स के जनरल अफसर कमांडिंग मेजर जनरल राजीव नंदा ने कहा, सोमवार को हमें हारुन के आतंकी संगठन में शामिल होने की जानकारी मिली। मैं आशा करता हूं कि उसे सद्बुद्धि आएगी और वह मुख्यधारा में लौट आएगा। गौरतलब है कि पढ़े-लिखे युवकों के आतंकी संगठनों में शामिल होने की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पीएचडी छात्र मन्नान बशीर वानी, शोपियां से बीटेक करने वाले और एनडीए परीक्षा पास करने वाले आबिद नजीर ने भी पढ़ाई छोड़कर बंदूक थाम ली थी। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400043000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए www.fb.com/uttamhindu/ आैर www.twitter.com/DailyUttamHindu पर क्लिक करें आैर पेज को लाइक करें।


इस फुटबाल क्लब ने अपनी टीम और कोच को गिफ्ट में दी नई कारें

मेड्रिड (उत्तम हिन्दू न्यूज): स्पेन के फुटबाल क्लब एटलेटिको म...

नहीं रहे मराठी फिल्म निर्देशक यशवंत भालकर, 61 वर्ष में हुआ निधन 

कोल्हापुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): मराठी फिल्मों के प्रसिद्ध निर...

top