Sunday, June 17,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

प्रभात झा के आरोप

Publish Date: December 16 2017 01:12:22pm

भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रभारी, राज्यसभा सदस्य व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने पंजाब की कै. अमरेन्द्र सिंह सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि 'पंजाब में कै. अमरेन्द्र सिंह निकाय चुनावों में अपनी ताकत का दुरुपयोग कर चुनावी परिणामों को प्रभावित कर कांग्रेस के पक्ष में करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि  देश के आजाद होने के 70 साल बाद पंजाब में कै. अमरेन्द्र सिंह की ओर से इस प्रकार की ओछी राजनीति करना बड़े शर्म की बात है। उन्होंने कहा कि कै. सरकार विरोधी दल के उम्मीदवारों को गिरफ्तार करने या उन्हें बेवजह तंग करने का काम कर रही है। झा ने कहा कि कै. अमरेन्द्र सिंह ने पिछले कुछ दिनों में निकाय चुनावों का आगाज होने के बाद से एक बार फिर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाई गई इमरजैंसी को याद करवा दिया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से गांधी ने आपात्काल के दौर में मनमर्जी से विरोधियों को दबाने की कोशिश की थी वही काम कै. अमरेन्द्र सिंह पंजाब में निकाय चुनावों में कर रहे हैं। झा ने कहा कि पिछले समय में हुए विधानसभा चुनावों में अकाली-भाजपा सरकार सत्ता में थी, लेकिन सरकार की तरफ से चुनावों को लोकतांत्रिक तरीके से करवाया गया। उस समय में किसी भी विरोधी दल को इस तरह से परेशान नहीं किया गया और हार को गठबंधन ने स्वीकार किया। लेकिन हार से डरे कै. अमरेन्द्र सिंह विरोधी दल के नेताओं खासकर उम्मीदवारों को निशाना बनाने की ओछी राजनीति कर रहे हैं। झा ने कहा कि इस संबंध में चुनाव आयोग से भी उनकी अपील है कि वह चुनावों को निष्पक्ष और लोकतांत्रिक तरीके से अंजाम दे। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में जो कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की तरफ से योजनाएं बनाकर विरोधी दलों को नुक्सान पहुंचाया जा रहा है  उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने चेतावनी दी कि कै. अमरेन्द्र सिंह को इसके लिए अंजाम भुगतना पड़ेगा। कै. अमरेन्द्र सिंह को यह सौदा महंगा पड़ेगा। झा ने केंद्र सरकार से भी मांग की  कि पंजाब में निष्पक्ष, भयमुक्त चुनाव करवाने के लिए सुरक्षा प्रबंध पुख्ता किए जाएं। उन्होंने केंद्र से मांग की कि पंजाब में चुनावों के दौरान पैरामिलिट्री फोर्स तैनात की जाए जिससे  कै. अमरेन्द्र सिंह सरकार की ओर से संभावित धक्केशाही न हो सके। उन्होंने कहा कि अगर कैप्टन को लगता है कि पंजाब की जनता कांग्रेस के शासन से संतुष्ट है तो फिर वह इस प्रकार की ओछी राजनीति क्यों कर रहे हैं। झा ने यह भी कहा कि जालंधर तथा पटियाला में छ: अलग-अलग मामलों में भारतीय जनता पार्टी ने शिकायत दर्ज करवाई हैं जिनमें पार्टी के उम्मीदवारों को धमकाने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि इन शिकायतों के आधार पर चुनाव आयोग से मांग की गई है कि आरोपी लोगों पर तुरंत कार्रवाई की जाए।'

कै. अमरेन्द्र सिंह सरकार पर आरोप लगाने वाले अकेले प्रभात झा ही नहीं हैं, शिरोमणि अकाली दल बादल के अध्यक्ष व विधायक सुखबीर बादल भी कै. अमरेन्द्र सिंह सरकार पर अकालियों पर दबाव बनाने हेतु गलत पर्चे दर्ज करने का आरोप लगा रहे हैं। निकाय स्तर पर राजनीतिक दलों के प्रभाव के साथ-साथ उम्मीदवार की छवि का भी प्रभाव रहता है। उम्मीदवार की छवि अगर साफ-सुथरी और उसका व्यवहार जन साधारण से अच्छा है तो इसका लाभ उम्मीदवार के साथ-साथ राजनीतिक दल को भी मिलता है। स्थानीय स्तर पर हो रहे चुनावों पर राज्य सरकार का प्रभाव भी काफी महत्वपूर्ण होता है। राज्य में जिस दल की सरकार होती है निकाय चुनावों में वह दल लाभ वाली स्थिति में होता है। पंजाब में कांग्रेस सत्ता में है इसलिए वह लाभ वाली स्थिति में ही है। लेकिन जिस तरह के आरोप भाजपा और अकाली दल के वरिष्ठ नेता लगा रहे हैं उससे तो लगता है कि प्रदेश सरकार दबाव में है और वह जीत को सुनिश्चित करने के लिए विरोधी दलों के उम्मीदवारों पर दबाव बना रही है। अतीत में कांग्रेस भी ऐसे आरोप तत्कालीन सरकार पर लगाती रही है। लोकतंत्र में यह सब उचित नहीं है। पंजाब सरकार को निकाय चुनाव बिना किसी दबाव के तथा लोकतांत्रिक ढंग से हो, इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो यह लोकतांत्रिक व्यवस्था को कमजोर करने वाला कदम ही माना जाएगा।


-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


फीफा विश्व कप : कप्तान कोलारोव की फ्री-किक से जीता सर्बिया

समारा (उत्तम हिंदू न्यूज) : आठ साल बाद विश्व कप में कदम रख रह...

मौका मिलने पर चुनाव लड़ सकती हैं किम कर्दशियां

लॉस एंजेलिस (उत्तम हिन्दू न्यूज): रियलिटी टीवी स्टार किम कर्दशियां वेस्ट ने कहा है कि समय ...

top