Sunday, June 17,2018     ई पेपर
ब्रेकिंग न्यूज़
राजनीति

ट्रम्प की टिप्पणी

Publish Date: January 03 2018 01:01:16pm

वर्ष 2018 के पहले ही दिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान को घेरते हुए एक ट्वीट कर पाकिस्तान को आतंकियों को संरक्षण देने की बात कही। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद रोकने का ऐलान किया है। उन्होंने सोमवार को ट्वीट किया कि अमेरिका ने 15 साल तक पाकिस्तान की मदद की और बदले में उसने हमें केवल धोखा और झूठ दिया। उसने हमारे लीडर्स को बेवकूफ समझा, यह अब और नहीं चलेगा। बता दें कि इससे पहले ये रिपोर्ट्स सामने आई थी कि अमेरिका पाकिस्तान को आतंकवाद से लडऩे के लिए दी जाने वाली 25.5 करोड़़ डॉलर (1628 करोड़ रुपए) की मदद पर रोक लगाने पर विचार कर रहा है। ट्रम्प ने कहा कि पाकिस्तान ने 15 साल के दौरान हमारे नेताओं को वेवकूफ बना आतंकवाद रोकने के नाम पर 33 बिलियन डॉलर यानी 2 लाख करोड़ रुपए ऐंठे। पाक ने उन आतंकवादियों को पनाह दी जिन्हें हम अफगानिस्तान में तलाश रहे थे। ट्रम्प ने कहा कि पाकिस्तान अराजकता, हिंसा और आतंकवाद फैलाने वालों को सुरक्षित पनाह देता है। इसके बाद दोनों देशों के रिश्तों में गर्माहट खत्म हो गई है। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन में यह बहस चल रही है कि पाकिस्तान को आतंकवाद के खात्मे के नाम पर आर्थिक मदद दी जानी चाहिए या नहीं। यही नहीं ट्रम्प ने कहा कि अगर पाक ने आतंकियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं की तो भविष्य में उसे किसी तरह की भी वित्तीय सहायता नहीं दी जाएगी।

ट्रम्प के ट्वीट के दबाव में आकर पाकिस्तान सरकार ने मुंबई हमलों के मास्टर माइंड हाफिज सईद के चैरिटी संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। गौरतलब है कि अमेरिका ने जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत को आतंकी संगठन लश्कर-ए-तोयबा का मुखौटा संगठन घोषित किया हुआ है हालांकि पाकिस्तान में ये सभी संगठन चैरिटी की आड़ में काम करते हैं। सईद ने लश्कर-ए-तोयबा की स्थापना 1987 में की थी लेकिन अमेरिका द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद यह संगठन जमात-उद-दावा के नाम से अपनी गतिविधियां चलाने लगा। भारत और अमेरिका ने लश्कर को मुंबई में 26 नवम्बर 2008 को हुए हमले का जिम्मेदार ठहराया था जिसमें 166 लोगों की मौत हो गई थी।

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा उठाया कदम बेशक देर से उठाया गया कदम ही माना जाएगा लेकिन यह ठीक दिशा में उठा कदम है। भारत सरकार को भी अब पड़ोसी पाकिस्तान के प्रति एक स्पष्ट और ठोस नीति अपनाने की आवश्यकता है। पाकिस्तान के प्रति अतीत में भारत द्वारा अपनाई ढीली नीति का ही परिणाम है कि पाकिस्तान सीमा पर लगातार दबाव बनाकर आतंकियों को सीमा पार कराने में लगातार मदद करता चला आ रहा है। नशों व हेरोइन की सप्लाई भी भारत में करता चला आ रहा है।

भारत ने बातचीत द्वारा एक नहीं कई बार और कई स्तरों पर मामलों को निपटाने की कोशिश की है लेकिन पाकिस्तान शरारत करने से बाज नहीं आ रहा। ऐसे में भारत को भी पाकिस्तान को उसको समझ आने वाली भाषा में जवाब देना होगा, तभी पाक की अक्कल ठिकाने आयेगी।    


-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


फीफा विश्व कप : कप्तान कोलारोव की फ्री-किक से जीता सर्बिया

समारा (उत्तम हिंदू न्यूज) : आठ साल बाद विश्व कप में कदम रख रह...

मौका मिलने पर चुनाव लड़ सकती हैं किम कर्दशियां

लॉस एंजेलिस (उत्तम हिन्दू न्यूज): रियलिटी टीवी स्टार किम कर्दशियां वेस्ट ने कहा है कि समय ...

top