Thursday, July 19,2018     ई पेपर
पंजाब

कैंब्रिज स्कूल हादसा: इन 5 सवालों के जवाब बता देंगे खुशी गुप्ता के साथ आखिर क्या हुआ ?

Publish Date: January 11 2018 06:37:08pm

जालंधर (उत्तम हिन्दू न्यूज/राकेश गांधी): छोटी बारादरी स्थित कैंब्रिज इंटरनेशनल स्कूल (कोएजुकेशन)  में छात्रा खुशी गुप्ता द्वारा संदिग्ध परिस्थितियों में स्कूल की चौथी मंजिल से कूदने का मामला पूरे शहर में गरमाया हुआ है। स्कूल में हुई इस सनसनीखेज घटना ने उन बच्चों के अभिभावकों के माथे पर चिंता की लकीरें ला दी हैं जिनके बच्चे ऐसे बड़े स्कूलों में पढ़ते हैं। खुशी गुप्ता मामले में अभी ऐसे कई सवाल हैं जोकि पूरी तरह से अनसुलझे हैं और सूत्रों की मानें तो इन सवालों को दबाए रखने की पूरी कोशिश की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक जिस चौथी मंजिल से खुशी गुप्ता द्वारा कूदने की बात कही जा रही है वहां मौके पर कल दो कुर्सियां पड़ी थीं। वहां करीब 4 फुट की रेलिंग (सीमेंटिड प्लस मेटल) है। बताया जाता है कि खुशी का कद करीब 5 फुट 3 इंच है और अगर उसने जंप करना था तो उसे कुर्सी पर चढऩे की जरूरत ही नहीं है। अगर वे कूदी भी हो तो एक ही कुर्सी पर चढ़ी होगी तो दूसरी कुर्सी पर कौन बैठा था? चौथी मंजिल पर ही पांचवीं और छठी कक्षा के बच्चे भी होते हैं। इस हादसे ने इन बच्चों की सुरक्षा पर भी सवालिया निशान लगा दिया है कि अगर इन बच्चों में से कोई नीचे गिर जाए तो कौन जिम्मेवार होगा? अगर रेलिंग की हाईट और छोटे बच्चों की हाइट में फर्क है तो फिर वहां कुर्सियां होना सरासर हादसे को न्यौता है क्योंकि छोटे बच्चे कुर्सी पर चढ़ जाएं तो उनके साथ भी ऐसा हादसा हो सकता है। इस घटना से जुड़े ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब मिल जाएं तो ये बात स्पष्ट हो जाएगी कि आखिर खुशी के साथ क्या हुआ।

सवाल 1- दो कुर्सियां रखने पर उसे रोका क्यों नहीं गया ?
इस मामले में खुशी के दो कुर्सियां रखकर जंप करने की बात कही जा रही है लेकिन ये बहुत ही हैरानीजनक बात है कि इतने बड़े स्कूल में जब कोई छात्रा दो कुर्सियां उनके तय स्थान से उठाती है तो उसे रोका क्यों नहीं गया? क्या वहां कोई अटेंडेंट मौजूद नहीं था? अगर मौजूद था तो उसने खुशी को रोका क्यों नहीं? बताया गया है कि कैंब्रिज स्कूल में हर वाशरूम के बाहर अटेंडेंट की ड्यूटी लगी होती है। चौथी मंजिल पर ही गल्र्स के लिए वॉशरूम है जिसके पास खुशी ने दो कुर्सियां लगाकर ये खौ्रफनाक कदम उठाया।  

सवाल 2-उस दिन किस-किस से मिली थी खुशी?
घटना वाले दिन खुशी जब स्कूल पहुंची तो वे किस-किस से मिली? क्या किसी सहपाठी या टीचर के साथ उसने ऐसी कोई बात शेयर की? वे स्कूल में कहां कहां गई ? उसका उस दिन व्यवहार कैसा था? देखने वाली बात है कि खुशी उस दिन अपनी क्लासरूम से कब बाहर आई और किससे मिली? यहां से भी कोई क्लू मिल सकता है। जिस टीचर ने उसे रोका था उसके सामने भी छात्रा का व्यवहार बिल्कुल नार्मल था। क्या इतना बड़ा कदम उठाने से पहले कोई बच्चा नार्मल हो सकता है? जिस समय हादसा हुआ उस वक्त वाशरूम से बचने की कोशिश में तो कोई नहीं भागा ? 

सवाल 3-कहीं किसी ने कोई गलत हरकत तो नहीं की?
खुशी गुप्ता के साथ इतना बड़ा हादसा क्या उसके साथ हुई किसी गलत हरकत का परिणाम तो नहीं था? स्कूल की बदनामी छिपाने के लिए इस मामले को दबाया तो नहीं जा रहा? इस बिंदु पर भी जांच अवश्य होनी चाहिए। पुलिस को उसकी मेडिकल जांच करवानी चाहिए ताकि संशय दूर हो सके। 

सवाल 4-गले पर नीला निशान कैसे आया ?
खुशी इस समय आईसीयू में है। उसकी टांग, स्पाइन और सिर पर चोटें आईं हैं। परिजनों का कहना है कि छात्रा के गले पर नीला निशान भी है। ये निशान कैसे आया? क्या किसी ने उसका गला दबाया या फिर उस पर हमला हुआ ?

सवाल 5- सुसाइड अटेंप्ट का कारण क्या?
कैंब्रिज स्कूल में हुई घटना को आत्महत्या का प्रयास बताया जा रहा है लेकिन सवाल ये है कि छात्रा के इस खौफनाक कदम के पीछे मुख्य कारण क्या है? क्या वह घर में किसी से झगड़े के बाद दुखी थी या फिर किसी दोस्त से लड़ाई हुई थी? खुशी के परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी आत्महत्या नहीं कर सकती है। 

सीसीटीवी फुटेज में छिपा है राज?
सूत्रों के मुताबिक खुशी के परिजनों को जो सीसीटीवी फुटेज दिखाई गई है वे खुशी के चौथी मंजिल पर होने और उसको टीचर द्वारा रोके जाने की है। साथ ही जब वे नीचे गिर गई तब की है लेकिन वो डीवीआर परिजनों को दिखाई नहीं गई जिसमें खुशी के जंप करने की घटना कैद है। बताया जा रहा है परिजनों को स्कूल मैनेजमेंट ने कहा है कि जिस डीवीआर में खुशी कूदती दिख रही है वे डीवीआर पुलिस ले गई है। अब सवाल ये है कि पुलिस को एक ही डीवीआर ले जाने की क्या जरूरत है? क्योंकि जांच में तो पूरी सीसीटीवी फुटेज ही काम आएगी। इस मामले में मैनेजमेंट द्वारा घटना के अगले ही पीरियड में एक लड़के से पूछताछ का भी पता चला है। आपको याद होगा कि गुरुग्राम स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल की परतें भी सीसीटीवी फुटेज से खुली थीं और ड्राइवर के बाद नाबालिग आरोपी तक सीबीआई पहुंची थी।

स्कूल में कफ्र्यू जैसे हो गए थे हालात
चश्मदीदों के मुताबिक जैसे ही खुशी गिरी स्कूल में अफरातफरी का माहौल हो गया। इससे पहले की स्टूडेंट्स कुछ समझ पाते उन्हें कक्षाओं में जबरन भेज दिया गया। परिजनों को फोन कर दिया गया कि बच्चों को ले जाइए। परिजनों के आने तक बच्चे इतने डर गए थे कि आखिर ये हो क्या रहा है। यहां तक कि स्टूडेंट्स का बाथरूम जाना तक बंद कर दिया गया। कई स्टूडेंट्स को हालात सुधरने के बाद भी फोन नहीं करने दिया गया। शायद मैनेजमेंट को लग रहा था कि स्कूल की छवि खराब न हो जाए। 

एक दिन पहले टीचर के घर खाई मैगी, फेसबुक से फोटो की थी डिलीट
घटना से एक दिन पहले खुशी गुप्ता अपनी टीचर के घर गई थी और वहां उसका मूड काफी अपसेट था। टीचर ने जब खाने के बारे में पूछा तो उसने कहा कि मैं खाना नहीं खाकर आई। इसके बाद टीचर ने मैगी बनाई और खुशी को खिलाई। एक दिन पहले ही उसने इंस्टाग्राम से सबको अनफॉलो करते हुए फेसबुक से अपनी सारी फोटो डिलीट कर दी थी।

स्कूल का बयान काफी अटपटा
इस घटना के बारे में स्कूल की तरफ से जो बयान सामने आया है वे काफी अटपटा है। स्कूल के पीआरओ संजीव कहते हैं कि खुशी को टीचर ने रोका था। संजीव के मुताबिक हादसा करीब डेढ़ बजे हुआ और उस वक्त छुट्टी का समय था इसलिए अटेंडेंट खाना खाने या घर जाने की तैयारी में बिजी थे। अब संजीव कुमार को इस बात का ही पता नहीं है कि हादसा पौने एक बजे हुआ है न कि डेढ़ बजे। उस वक्त कौन सी छुट्टी का समय था? वहीं इस संबंध में स्कूल के चेयरमैन दीपक भाटिया से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। 






WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9814266688 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।


इंडियन एरोज फुटबाल क्लब के कोच माटोस का इस्तीफा

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): फुटबाल क्लब इंडियन एरोज के कोच लुइस नोर्टन दे माटोस की व्य...

राजकुमार राव के साथ काम करेगी मौनी रॉय

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): टीवी की जानी मानी अभिनेत्री मौनी रॉय बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार ...

top