Tuesday, April 16, 2024
ई पेपर
Tuesday, April 16, 2024
Home » कनैक्टिंग लाइन बनाने के कार्य में तेजी लाई जाए : मुख्य सचिव

कनैक्टिंग लाइन बनाने के कार्य में तेजी लाई जाए : मुख्य सचिव

चंडीगढ़, (धरणी)- हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल ने कहा कि नांगल चौधरी (महेंद्रगढ़) में 900 एकड़ से अधिक क्षेत्र में उत्तर भारत में सबसे बड़े इंटीग्रेटेड लॉजिस्टिक हब के रूप में इंटीग्रेटेड मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब विकसित किया जा रहा है। इस इंटीग्रेटेड मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब को दिल्ली-मुंबई डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर से कनेक्ट करने के लिए डीएफसीसीआईएल द्वारा कनेक्टिंग लाइन बनाये जाने के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। हरियाणा से 246 किलोमीटर की लंबाई के ईस्टर्न और वेस्टर्न डेडिकेटिड फ्रेट कॉरिडोर गुजरेंगे, जिनके बनने से एक ओर जहां यातायात में सुगमता होगी तो वहीं यह कॉरिडोर हरियाणा के आर्थिक विकास को भी बढ़ावा देंगे। 1506 किलोमीटर लंबे वेस्टर्न डेडिकेटिड फ्रेट कॉरिडोर उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र राज्यों से होकर गुजरेगा और 177 किलोमीटर स्ट्रेच हरियाणा में बनेगा। इसी प्रकार, 1875 किलोमीटर लंबे ईस्टर्न डेडिकेटिड फ्रेट कॉरिडोर पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों से होकर गुजरेगा और 72 किलोमीटर स्ट्रेच हरियाणा में बनेगा। पिखलानी-साहनेवाल इलेक्ट्रीफाइड सिंगल लाईन पर माल की आवाजाही के लिए 7 स्टेशन बनेंगे और लेवल क्रॉसिंग पर 8 आरओबी तथा 21 आरयूबी बनाये जाएंगे। रेवाड़ी-दाबला सेक्शन पर 2 जंक्शन और 1 नया स्टेशन बनेगा। इसी प्रकार, रेवाड़ी-दादरी सेक्शन पर माल की आवाजाही के लिए 4 स्टेशन बनेंगे। पृथ्ला में गुड्स अपलोडिंग फैसिलिटी बनाई जाएगी। 2.7 किलोमीटर का एलिवेटिड कॉरिडोर भी होगा। संजीव कौशल आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरियाणा से गुजरने वाली कॉरिडोर परियोजनाओं के संबंध में समीक्षा बैठक कर रहे थे। बैठक में डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री रविंद्र कुमार जैन भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में शामिल हुए। इसी प्रकार, यमुनानगर के गांव अंगोली और झार चंदाना में लेवल क्रॉसिंग- 106 पर आरओबी के निर्माण के बारे में बताया गया कि इस परियोजना के लिए भूमि ले ली गई है केवल 3 कनाल भूमि की ओर आवश्यकता है, जिसके लिए प्रक्रिया चल रही है। इस पर श्री संजीव कौशल ने यमुनानगर के उपायुक्त को निर्देश दिए कि वे जनप्रतिनिधियों के समन्वय के साथ भू- मालिकों से जल्द बातचीत कर प्रक्रिया को जल्द अंतिम रूप दिया जाए।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd