Thursday, February 29, 2024
ई पेपर
Thursday, February 29, 2024
Home » बिना हाथों के जन्मीं 32 साल की महिला को आखिरकार मिला ड्राइविंग लाइसेंस, सीएम ने खुद साैंपा

बिना हाथों के जन्मीं 32 साल की महिला को आखिरकार मिला ड्राइविंग लाइसेंस, सीएम ने खुद साैंपा

तिरुवनंतपुरम (उत्तम हिन्दू न्यूज)-ड्राइविंग लाइसेंस के लिए उनका छह साल का अथक प्रयास आखिरकार रंग लाया और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने खुद 32 वर्षीय विकलांग जिलुमोल एम. थॉमस को दस्तावेज सौंपा। जिलुमोल, जो बिना हाथों के पैदा हुई थी, ने हमेशा अपने पैरों का उपयोग करके कार चलाने का सपना देखा था लेकिन उसके अनुरोध को तकनीकी आधार पर चुनौती दी गई थी।

फ्रीलांस डिजाइनर थॉमस ने कहा, “आवाजाही मेरी सबसे बड़ी बाधा थी और अब मैं उत्साहित हूं क्योंकि मुझे लाइसेंस मिल गया है। इस तरह मैंने अपनी सबसे बड़ी बाधा पार कर ली है।” पहली बाधा तब दूर हुई थी जब एर्नाकुलम जिले के वदुथला में एक ड्राइविंग स्कूल उसे एक छात्र के रूप में पंजीकृत करने के लिए सहमत हो गया।

ड्राइविंग स्कूल के मालिक जोपान ने कहा, “हम बहुत आश्वस्त नहीं थे, लेकिन उसने अपने धैर्य, दृढ़ संकल्प और प्रतिबद्धता से हमारी धारणाओं को गलत साबित कर दिया। बहुत जल्द हमें एहसास हुआ कि वह ऐसा कर सकती है।”

कोच्चि में वीआई इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड, जिसने सहायक तकनीक का उपयोग करके उनकी 2018 मारुति सेलेरियो में वांछित इलेक्ट्रॉनिक संशोधन किया, ने भी उनकी उपलब्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उसे राज्य दिव्यांग आयोग से भी बहुत बड़ा समर्थन मिला, जिससे लाइसेंस के लिए मंजूरी देने के लिए मोटर वाहन विभाग को निर्देश दिया।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd