Saturday, June 3, 2023
ई पेपर
Saturday, June 3, 2023
Home » पंजाब पुलिस के एजीटीएफ ने गैंगस्टरों को देश से भागने में मदद करने वाले फर्जी पासपोर्ट रैकेट का पर्दाफाश किया; तीन गिरफ्तार

पंजाब पुलिस के एजीटीएफ ने गैंगस्टरों को देश से भागने में मदद करने वाले फर्जी पासपोर्ट रैकेट का पर्दाफाश किया; तीन गिरफ्तार

– पंजाब पुलिस मुख्यमंत्री भगवंत मान की सोच के अनुरूप पंजाब को सुरक्षित राज्य बनाने के लिए वचनबद्ध

– पुलिस टीमों ने 9 पासपोर्ट सहित फर्जी सूचनाओं का इस्तेमाल कर बनाए गए फरार गैंगस्टरों के पासपोर्ट की कई फोटोकापी बरामद की: डीजीपी गौरव यादव

-आरोपियों ने फर्जी पासपोर्ट का इस्तेमाल कर कई गैंगस्टरों को देश से भागने में मदद की: एडीजीपी प्रमोद बान

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर असामाजिक तत्वों के खिलाफ चलाए अभियान अधीन पंजाब पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (एजीटीएफ) ने पंजाब और अन्य राज्यों के गैंगस्टरों/अपराधियों की फर्जी जानकारी के आधार पर पासपोर्ट बनवाकर देश से भागने में मदद करने वाले गिरोह के तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। यह जानकारी आज डायरैक्टर जनरल आफ पुलिस (डीजीपी) पंजाब गौरव यादव ने दी।

गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान ओंकार सिंह निवासी गांव काकी,जालंधर, सुखजिंदर सिंह उर्फ शारपी घुम्मन निवासी गांव करहाली पटियाला और प्रभजोत सिंह बहेडी बरेली उत्तर प्रदेश के रूप में हुई है। पुलिस टीमों ने इनसे 9 पासपोर्ट बरामद किए साथ ही फर्जी डिटेल्स से तैयार किए गए फरार गैंगस्टरों के पासपोर्ट की कई फोटोकॉपी भी बरामद की है।

डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि गैंगस्टरों/अपराधियों को देश से भागने में मदद करने के लिए फर्जी विवरण का उपयोग कर पासपोर्ट तैयार करने में अंतर्राज्यीय ट्रैवेल एजेंटों की शमूलियत के संबंध में प्राप्त विश्वसनीय सूचना पर कार्रवाई करते हुए एडीजीपी प्रमोद बान के दिशा-निर्देशों पर एआईजी संदीप गोयल के नेतृत्व में एजीटीएफ की टीमों ने रात भर चले अभियान के दौरान तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर इस गिरोह का पर्दाफाश किया।

उन्होंने कहा कि जांच में पता चला है कि इस गिरोह के दिल्ली, यूपी, कोलकाता, गुजरात और महाराष्ट्र सहित विभिन्न राज्यों में संबंध थे और यह गिरोह पंजाब और अन्य राज्यों के कई गैंगस्टरों/अपराधियों को फर्जी पासपोर्ट पर देश से भगाने में मदद करता था।

डीजीपी ने कहा कि पुलिस टीमों ने गिरोह से जुड़े पांच और लोगों को हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ कर रही है ताकि पूरे नेटवर्क का पर्दाफाश हो सके। एडीजीपी प्रमोद बान ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि आरोपी ओंकार, जो जालंधर में एक अवैध इमिग्रेशन कंपनी चलाता है,फर्जी विवरण का उपयोग करके गैंगस्टरों/अपराधियों के पासपोर्ट बनाने और निर्दोष लोगों को विदेश भेजने के बहाने लूटने में शामिल था।

उन्होंने कहा कि पूछताछ के दौरान आरोपी ओंकार ने खुलासा किया कि उसने गैंगस्टर वीरेंद्रपाल सिंह उर्फ वीना बुट्टर (बंबीहा गैंग) और जसविंदर सिंह उर्फ खट्टू (धर्मिंदर गुगनी गैंग) के लिए फर्जी पासपोर्ट बनवाए थे ताकि उन्हें देश से भागने में मदद मिल सके।

प्रारंभिक पूछताछ के दौरान आरोपी प्रभजोत सिंह ने खुलासा किया है कि उसके एक साथी चरनजीत सिंह उर्फ बरेली (जिसे दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है) ने मैक्सिको से हाल ही में डिपोर्ट गैंगस्टर दीपक बॉक्सर के लिए फर्जी पासपोर्ट बनाया था।

इसके साथ ही तीसरे आरोपी सुखजिंदर सिंह उर्फ शारपी घुम्मन ने पूछताछ में बताया कि उसने अजनाला के दीपिंदर सिंह उर्फ दीपू के लिए फर्जी पासपोर्ट बनवाया था, जिसकी आपराधिक रिकार्ड है और वह भगोड़े गैंगस्टर हैरी च_ा का करीबी सहयोगी है।

गौरतलब है कि इस संबंध में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420, 468, 471, 473 व 120-बी, आम्र्स एक्ट की धारा 25 व पासपोर्ट एक्ट की धारा 12 के तहत पुलिस स्टेशन स्टेट क्राईम , एस.ए.एस. नगर में एफआईआर न. 2 दिनांक 26-04-2023 को दर्ज है।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd