Thursday, February 29, 2024
ई पेपर
Thursday, February 29, 2024
Home » शहीदी नगर कीर्तन न निकालने पर सिख संगत में रोष

शहीदी नगर कीर्तन न निकालने पर सिख संगत में रोष

कुरुक्षेत्र, (दुग्गल)। श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी महाराज ने हिंद की चादर बन कर अपना बलिदान दिया। जब जालिम मुगल सम्राट औरंगजेब जबरन हिंदुओं का धर्मांतरण कर रहा था, इसे रोकने के लिए श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी महाराज ने दिल्ली के चांदनी चौक में अपने शीश का बलिदान दिया। कुरुक्षेत्र के साथ लगते जिलों की सिख संगत इस शहीदी दिवस को गुरुद्वारा थड़ा साहिब झीवरहेड़ी में काफी समय से बड़ी श्रद्धा के साथ मनाती आ रही है। यहां हर साल शहीदी दिवस से एक दिन पहले महान शहीदी नगर कीर्तन का आयोजन किया जाता है, जिसमें हजारों सिख संगत भाग लेती हैं और इस नगर कीर्तन का शहरों व गांवों में स्वागत द्वार और लंगर लगा कर स्वागत किया जाता है। मगर इस बार 23 नवंबर को इस महान शहीदी नगर कीर्तन का आयोजन नहीं किया गया, जिसे लेकर क्षेत्र की सिख संगत में काफी रोष है। यह जानकारी हरियाणा सिख गुरुद्वारा मैनेजमैंट कमेटी के वरिष्ठ सदस्य सुखविंदर सिंह मंडेबर ने देते हुए बताया कि गुरुद्वारा थड़ा साहिब पातशाही 9वीं झीवरहेड़ी का न केवल इलाके में, बल्कि पूरे विश्व में बहुत सम्मान है। हरियाणा सिख गुरुद्वारा मैनेजमैंट कमेटी के पूर्व प्रधान जत्थेदार बलजीत सिंह दादूवाल ने अपने कार्यकाल के दौरान गुरुद्वारा थड़ा साहिब झीवरहेड़ी में एक मैडीकल लेबोरेटरी व बच्चों के लिए एक फ्री कंप्यूटर केंद्र खोला था, लेकिन वर्तमान प्रबंधन ने उन्हें बंद कर क्षेत्र को इन मुफ्त सेवाओं से वंचित कर दिया। उन्होंने कहा कि हरियाणा कमेटी का प्रबंधन अब खराब हालात से गुजर रहा है।

मंडेबर ने कहा कि एचएसजीएमसी पदाधिकारी सिख संगत को बताएं कि झीवरहेड़ी का महान शहीदी नगर कीर्तन किस कारण रद्द किया गया। इस दौरान रुपिंदर सिंह वालिया, लखविंदर सिंह सतगोली, गुरबीर सिंह तलाकौर, गुरमुख सिंह मल्ली, बलवंत सिंह हुडिया, लखविंदर सिंह बसंतपुरा, राजिंदर सिंह बकाला, मनमोहन सिंह बलोली, बलदेव राज झीवरहेडी, गुरदीप सिंह गजलाना, गुरमोहन सिंह मुस्तफाबाद, सुरिंदर सिंह मसाना और बलविंदर सिंह मंगोली ने भी शहीदी नगर कीर्तन का आयोजन न करने पर रोष व्यक्त किया है।

* क्या कहते हैं एचएसजीएमसी पदाधिकारी : हरियाणा सिख गुरुद्वारा मैनेजमैंट कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष भूपिंदर सिंह असंध ने इस विषय पर पूछे जाने पर कहा कि इस बार शानदार कार्यक्रम कमेटी के कार्यकारिणी सदस्य गुरबख्श सिंह के मार्गदर्शन में हुआ है। नगर कीर्तन न निकालने बारे वह बेहतर बता सकते हैं।

* खलल की वजह से रद्द हुआ नगर कीर्तन- कार्यकारिणी सदस्य गुरबख्श सिंह ने इस बारे में पूछे जाने पर बताया कि पिछली बार नगर कीर्तन में कुछ युवकों ने खलल मचाया था। इसलिए कार्यक्रम से पूर्व निकटवर्ती गांवों के गणमान्यजनों की एक बैठक बुलाई गई थी, जिसमें मौजूद करीब दो दर्जन गणमान्यजनों ने इस बार नगर कीर्तन न निकालने का निर्णय लिया था।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd