Thursday, February 29, 2024
ई पेपर
Thursday, February 29, 2024
Home » डेढ़ माह बाद हुई चंडीगढ़ एमसी की बैठक, विपक्ष रहा मेयर पर हमलावर

डेढ़ माह बाद हुई चंडीगढ़ एमसी की बैठक, विपक्ष रहा मेयर पर हमलावर

चंडीगढ़/बर्मन : चंडीगढ़ नगर निगम की डेढ़ माह बाद बैठक हुई और बैठक काफी हंगामेदार रही। बैठक की शुरुआत में ही 1 घंटे तक हंगामा होता रहा जिसमें विपक्ष मेयर पर हमलावर रहा। आम आदमी पार्टी पार्षद प्रेमलता ने कहा कि मेयर ने पिछले 9 महीने में कोई कार्य नहीं किया। कॉलोनी और गांवों में मेयर के कार्यकाल में कोई भी कार्य नहीं हुआ और मेयर अब राजनीति पर उतर आए हैं। इसके अलावा नगर निगम की बैठक में क्रङ्ख्र द्वारा चंडीगढ़ में पार्कों के रखरखाव को लेकर भी पार्षद सौरभ जोशी ने सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि इसको लेकर जिस तरह से एमओयू किए जा रहे हैं, उसमें बहुत बड़े नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है जिसकी तरफ देखना चाहिए। इस पर हाउस में सभी पार्षदों ने कहा कि उनके वार्डों में नेबरहुड पार्कों का रखरखाव नहीं किया जा रहा। जिस पर नेबरहुड पार्कों की सरप्राइज विजिट किया जाना चाहिए और जो लोग पार्कों का रखरखाव नहीं कर रहे, उनके एमओयू कैंसिल कर देने चाहिए। इसके अलावा नगर निगम की बैठक में कई विकास के एजेंड़ भी आए जिस पर मौली जागरा में 112 बूथों को रेंट पर देने का प्रस्ताव भी पास हुआ।

सदन की बैठक में गूंजे ‘जय श्री राम’ के नारे; खूब हुआ हंगामा, करवाई वोटिंग
गर निगम की बैठक में विकास के सभी एजेंट पास होने के बाद एक एजेंडा भाजपा पार्षद महेश चंद्र सिद्धू द्वारा पेश किया गया। इस एजेंट के तहत 22 जनवरी, 2024 को श्री राम जन्मभूमि के भव्य मंदिर की ओपनिंग होनी है और उससे पहले जगह-जगह इसके स्वागत के लिए अलग-अलग तरह से प्लानिंग की जा रही है। नगर निगम की ओर से भी इसके लिए भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया जाए और एक बजट की एलोकेशन की जाए, जिसको लेकर यह एजेंडा रखा गया था लेकिन आम आदमी पार्टी और कांग्रेस से इसका विरोध किया और कहा कि भाजपा धर्म की आड़ में राजनीति कर रही है। श्री राम सबके हैं और इस पर कोई राजनीति नहीं है लेकिन जो भव्य आयोजन की तैयारी की जा रही है, इस पर जिस तरह का खर्च किया जाएगा, उस तरह के आयोजन के लिए नगर निगम के पास फंड की कमी है और पहले ही नगर निगम में विकास के कई विजन दे नहीं हो पा रहे हैं जिसको लेकर आम आदमी पार्टी की पार्षद प्रेमलता और कांग्रेस के पार्षद सचिन गालव ने बात रखी और कहा कि इस पर प्रोग्राम नहीं होने चाहिए, बहुत खर्चा होगा। इस पर खूब बहस भी हुई। विपक्ष और भाजपा के पार्षदों के बीच और अंत में वोटिंग की बात आई कि इस पर वोटिंग कर ली जाए जिस पर वोटिंग पर भाजपा ने अपनी तरफ से पार्षदों के हाथ खड़े किए और कहा कि इस एजेंडे के फेवर में हैं वहीं जो इस एजेंडे के पक्ष में नहीं है, वह भी हाथ खड़ा करें। ऐसे में विपक्ष के कई पार्षद बोल रहे थे जिसमें कइयों ने हाथ नहीं खड़े किए और बीजेपी ने बोला कि उनका एजेंडा पास हो गया है जिसका विपक्ष ने विरोध किया और मेयर की सीट के पास आकर उन्होंने कहा कि यह गलत है। अभी वह अपनी बात रख रहे थे कि उसे ही वोटिंग मान लिया और एजेंडा पास कर दिया गया।

—-

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd