Tuesday, April 16, 2024
ई पेपर
Tuesday, April 16, 2024
Home » निर्दलीय सिब्बल हो सकते हैं विपक्ष के साझा राष्ट्रपति उम्मीदवार!

निर्दलीय सिब्बल हो सकते हैं विपक्ष के साझा राष्ट्रपति उम्मीदवार!

लखनऊ(उत्तम हिन्दू न्यूज)- पूर्व कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार को समाजवादी पार्टी (सपा) के समर्थन से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया। उन्होंने यह भी बताया कि वह करीब दस दिन पहले, 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके हैं। दूसरी तरफ भाजपा के लिए नई चुनौती भी खड़ी कर सकता है। इसकी शुरुआत अगले महीने से शुरू होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से भी हो सकती है, जिसमें समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा में निर्दलीय पहुंचने वाले कपिल सिब्बल की एक अहम भूमिका हो सकती है। सिब्बल विपक्ष की तरफ से साझा उम्मीदवार भी हो सकते हैं या किसी नाम पर साझा सहमति भी बनवाने का काम कर सकते हैं।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने संवाददाताओं को बताया कि सिब्बल ने पार्टी के समर्थन से राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया है। नामांकन के दौरान उनके साथ सपा अध्यक्ष के साथ साथ पार्टी के प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव तथा अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

नामांकन दाखिल करने के बाद सिब्बल ने स्पष्ट किया “मैंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन भरा है और मैं अखिलेश का धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने हमें समर्थन दिया है।” सिब्बल ने यह भी बताया कि वह पिछली 16 मई को ही कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके हैं और अब वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नहीं हैं। सिब्बल ने कहा “हम विपक्ष में रह कर एक गठबंधन बनाना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि 2024 में ऐसा माहौल बने कि मोदी सरकार की जो खामियां हैं उन्हें जनता तक पहुंचाया जाए।” सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सिब्बल को समर्थन देने के औचित्य का जिक्र करते हुए कहा “कपिल सिब्बल देश के जाने माने अधिवक्ता हैं। वह लोकसभा में या राज्यसभा में रहे हों, उन्होंने बातों को अच्छी तरह रखा है। हमें उम्मीद है कि देश में जो बड़े-बड़े सवाल हैं… जैसे… आज देश किस रास्ते पर है, महंगाई रुक नहीं रही है और चीन लगातार हमारी सीमाओं पर आगे बढ़ता जा रहा है… इन तमाम बड़े-बड़े सवालों पर कपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के और अपने विचारों को आगे रखेंगे।” गौरतलब है कि सिब्बल को सपा की ओर से राज्यसभा प्रत्याशी बनाए जाने की अटकलें मंगलवार से ही लगाई जा रही थीं। हालांकि पार्टी ने इसकी पुष्टि नहीं की थी।

सिब्बल ने, भ्रष्टाचार तथा अनेक अन्य आरोपों में लगभग 27 महीने तक सीतापुर जेल में बंद रहे सपा के वरिष्ठ नेता एवं विधायक आजम खां को उच्चतम न्यायालय से जमानत दिलवाने में उनके वकील के तौर पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। खां अपने प्रति कथित बेरुखी को लेकर सपा नेतृत्व से नाराज हैं। माना जा रहा है कि सिब्बल को समर्थन देकर इस नाराजगी को दूर करने की कोशिश की गई है।

उत्तर प्रदेश की 11 राज्यसभा सीटों के लिए नामांकन की प्रक्रिया मंगलवार को शुरू हुई है। इस चुनाव के लिए मतदान आगामी 10 जून को होगा। प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में सपा के 111 सदस्य हैं और वह तीन उम्मीदवारों को आसानी से राज्यसभा भेज सकती है। पार्टी ने फिलहाल सिब्बल को अपना समर्थित प्रत्याशी घोषित किया है। बाकी दो सीटों पर अपने उम्मीदवारों को लेकर सपा ने अभी खुलासा नहीं किया है।

साझा उम्मीदवार बनाने पर राय-मशविरा शुरू
कपिल सिब्बल की सर्व स्वीकार्यता ही उनकी सबसे बड़ी ताकत है। इसलिए एक राय बन रही है कि उन्हें राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का साझा उम्मीदवार बना दिया जाए। इसके लिए तमाम गैर-भाजपा क्षत्रप नेताओं से बातचीत शुरू हो चुकी है। समाजवादी पार्टी में शामिल होने की बजाय उसके समर्थन से राज्यसभा में कपिल के जाने के पीछे यही रणनीति है। इससे कपिल किसी दल विशेष के नहीं बल्कि सभी विपक्षी दलों के साझा उम्मीदवार होंगे। जब सारे भाजपा विरोधी क्षेत्रीय दल कपिल सिब्बल के लिए तैयार होंगे, तब कांग्रेस के सामने उन्हें समर्थन देने के सिवा कोई और चारा नहीं बचेगा।

GNI -Webinar
You Might Be Interested In

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd