Sunday, February 25, 2024
ई पेपर
Sunday, February 25, 2024
Home » israel-palestine conflict : फिलिस्तीन के साथ खड़े हुए 22 अरब मुल्क, इजराइल के लिए जारी किया फरमान

israel-palestine conflict : फिलिस्तीन के साथ खड़े हुए 22 अरब मुल्क, इजराइल के लिए जारी किया फरमान

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : इजराइल-हमास युद्ध में अब अरब मुल्कों ने दखल देना शुरू कर दिया है। आलोचना ही नहीं, 22 अरब देशों के समूह अरब लीग ने इजराइल की खुलकर निंदा की। बेंजामिन नेतन्याहू शासन ने गाजा का बिजली-खाना-पानी बंद कर दिया है। चारो तरफ से एक कंक्रीट दीवारों से घिरे इस शहर पर इजराइली शासन ने पहले से शिकंजा कस रखा है। युद्ध शुरू होने के बाद से अरब मुल्कों की परेशानी बढ़ी है और वे किसी भी हाल में युद्ध को समाप्त करने की अपील कर रहे हैं।

israel-philistene war : अरब देशों के विदेश मंत्रियों ने मिस्र के काहिरा शहर में अरब काउंसिल की मीटिंग में पहुंचे थे। मीटिंग फिलिस्तीन के अनुरोध पर बुलाई गई थी। इस दौरान अरब मंत्रियों ने इजराइल को अपने फैसले वापस लेने की अपील की। इजराइली रक्षा मंत्री ने गाजा पट्टी के बिजली-पानी काटने का आदेश दिया था और इसके बाद से फिलिस्तीनी शहर में हालात और ज्यादा बदतर हुए।

काहिरा में अरब लीग हेडक्वार्टर में बैठक में अरब विदेश मंत्रियों ने इजराइल और हमास के बीच चल रहे युद्ध पर चर्चा की और इजराइल से गाजा की घेराबंदी हटाने की मांग की। विदेश मंत्रियों ने गरीब और घनी आबादी वाले इलाके में खाना-पानी, बिजली-ईंधन की आपूर्ति तत्काल प्रभाव से शुरू करने की अपील की। लीग ने इस “अन्यायपूर्ण” फैसले पर इजराइल को पुनर्विचार करने कहा। अरब लीग के महासचिव अहमद अबुल घेइत ने अपनी स्पीच में इजराइल पर नरसंहार का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “हम गाजा में फिलिस्तीनियों के साथ अपनी एकजुटता दिखाते हैं क्योंकि उन्हें नरसंहार का सामना करना पड़ रहा है जिसे तुरंत रोका जाना चाहिए और निंदा की जानी चाहिए।”

वर्तमान में अरब लीग में 22 खाड़ी देश हैं। फिलिस्तीन के अनुरोध पर काहिरा पहुंचे अरब मंत्रियों ने इजराइल से एक कब्जे वाली शक्ति के रूप में अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को पूरा करने और टू-स्टेट सॉल्यूशन पर लौटने का आग्रह किया, जहां फिलिस्तीन को पूर्ण राष्ट्र का दर्जा मिल सकता है।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd