Thursday, February 22, 2024
ई पेपर
Thursday, February 22, 2024
Home » बच्चों में किताबी ज्ञान के साथ संस्कार होने बहुत जरूरी हैं : राज्यपाल दत्तात्रेय

बच्चों में किताबी ज्ञान के साथ संस्कार होने बहुत जरूरी हैं : राज्यपाल दत्तात्रेय

चंडीगढ़, धरणी। हरियाणा के महामहिम राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ बच्चों में संस्कार बहुत जरूरी हैं। बच्चों में संस्कार स्कूली शिक्षा के दौरान ही लाए जाते हैं। संस्कारों के बिना शिक्षा अधूरी है। सभ्य और समृद्ध राष्ट्र के निर्माण के लिए युवा पीढ़ी का शिक्षा के साथ-साथ संस्कारवान होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि बच्चों को केवल किताबी ज्ञान ही नहीं देना है बल्कि उनको एक अच्छा इंसान भी बनाना है।
राज्यपाल श्री दत्तात्रेय सोमवार को सिवानी स्थित श्री महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल के 12वें वार्षिकोत्सव एवं पारितोषिक वितरण समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। समारोह में स्कूल के 150 से अधिक होनहार बच्चों को स्कूल की तरफ से पुरस्कार देकर सम्मानित किया। इस दौरान उन्होंने स्कूल के इंडोर खेल स्टेडियम का उद्घाटन भी किया। समारोह के दौरान राज्यपाल ने छोटे बच्चों को खूब दुलार के अपना आशीर्वाद दिया।
अपने संबोधन में राज्यपाल श्री दत्तात्रेय ने कहा कि स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मन का वास होता है, ऐसे में बच्चों का स्वास्थ्य सही होना चाहिए। बच्चों को पढ़ाई के साथ साथ खेलकूद और सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं में भाग लेना चाहिए। इससे न केवल संस्कृति का आदान प्रदान होता है बल्कि बच्चों का बच्चों में आत्मविश्वास की भावना प्रबल होती है। बच्चों का स्वास्थ्य भी सही रहता है। उन्होंने युवाओं से कड़ी मेहनत से अपना लक्ष्य हासिल करने को कहा। उन्होंने कहा कि युवा अपनी ऊर्जा का प्रयोग देश और समाज के विकास में करें। आज के विद्यार्थी ही हमारा भविष्य हैं। समारोह में महिलाओं की भारी संख्या में मौजूदगी पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए महामहिम राज्यपाल ने कहा कि हमें मातृ शक्ति का सम्मान करने के साथ-साथ उनको उच्च शिक्षित करना जरूरी है।

सही रूप में महिला ही अपने बच्चों में संस्कार भरने का काम करती है। उन्होंने कहा कि एक शिक्षित महिला अपने परिवार का लालन-पालन सही ढंग से करने के साथ-साथ बच्चों को सही दिशा भी प्रदान करती है। उन्होंने कहा कि महिला जितनी आगे बढ़ेगी, देश भी उतना ही आगे बढ़ेगा। नई शिक्षा नीति में भी महिला शिक्षा को प्राथमिकता दी है।

उन्होंने दो तोतों की कहानी सुनाते हुए कहा कि परिवार में जैसा माहौल होगा या जैसे संस्कार होंगे, छोटे बच्चे भी उसी का अनुसरण करके वैसे ही बन जाते हैं। ऐसे में परिवार में आपसी व्यवहार और अच्छा माहौल होना जरूरी है। समारोह में डीसी नरेश नरवाल, एसपी वरुण सिंगला, एसडीएम वीरेंद्र सिंह,डीएसपी जयभगवान, एक्सईएन संजय रंगा,डीएफओ सिकंदर सांगवान,संस्था के चेयरमैन गोविंद राम बंसल, विद्यालय प्रबंधक मोहित बंसल, मीनू बंसल, पूर्व चौयरमेन अनिल झाझडिया, मंडल प्रधान लाल सिंह बड़वा, रमेश पोपली,रमेश बड़वा,पवन टिकुराम, अमित लोहिया, मुकेश डालमिया, बाबूलाल जिंदल आदि मौजूद रहे।

GNI -Webinar

@2022 – All Rights Reserved | Designed and Developed by Sortd